ADVERTISEMENT

Punjab Election Results 2022: पंजाब में केजरीवाल की बड़ी जीत के 5 कारण, 5 मायने

पंजाब, देश में राजनीतिक बदलाव का गेट-वे बन गया है. कांग्रेस के दिन लदे गए हैं. समझिए पंजाब में AAP के जीत का नीचोड़.

Punjab Assembly Election Result: पंजाब के लोगों ने अपना जनादेश दे दिया है. 117 विधानसभा वाले पंजाब में AAP को 92 सीटें मिली हैं. कांग्रेस ने 18 सीटों पर जीत दर्ज की है तो वहीं शिरोमणी अकाली दल ने 4 सीटों पर कब्जा जमाया है. जबकि, बीजेपी 2 और अन्य के खाते में 1 सीट गई है. ऐसे में ये समझना जरूरी हो जाता है कि इस जनादेश का मतलब क्या है. आइए कुछ प्वॉइंट के जरिए आपको समझाने की कोशिश करते हैं.

उससे पहले यह जान लेते हैं कि पिछले चुनाव यानी साल 2017 के विधानसभा चुनाव में किसको कितनी सीटें मिली थीं. साल 2017 के चुनाव में कांग्रेस सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी थी. कांग्रेस को 77 सीटें हासिल हुईं थी, तो वहीं, AAP को मात्र 22 सीटों से ही संतुष्ट होना पड़ा था. बीजेपी और शिरोमणी अकाली दल के खाते में 17 सीटें आई थीं.
ADVERTISEMENT
अब आइए एक-एक करके इस जनादेश को टटोलने की कोशिश करते हैं कि आखिर पंजाब में आम आदमी पार्टी के बहुमत के मायने और जीत के क्या कारण हैं.

पंजाब में केजरीवाल के जीत के 5 कारण

ADVERTISEMENT

जाति, धर्म से ऊपर उठकर वोटिंग

एक अलग धार्मिक पहचान रखने वाला राज्य अगर गैर सिख नेता की पार्टी को बहुमत देता है, तो ये साबित करता है कि पंजाब के लोगों ने जाति, धर्म से ऊपर उठकर वोट दिया है. जिसका नतीजा आपके सामने है.

ADVERTISEMENT

कांग्रेस, BJP और SAD की तिकड़ी से ऊब चुका था पंजाब

नवंबर 1966 से साल 2022 तक पंजाब के लोगों ने सिर्फ दो ही सरकारें देखीं हैं. पहली, कांग्रेस नहीं तो दूसरी शिरोमणी अकाली दल. इसके अलावा पंजाब को कई दूसरा विकल्प नहीं मिला. ऐसे में जब पंजाब को आम आदमी पार्टी के तौर पर विकल्प मिला तो उसने ये मौका हाथ से निकलने नहीं दिया और आप को दिल खोलकर वोट लुटाया.

ADVERTISEMENT

पंजाबियों को भा गया दिल्ली मॉडल

इस बात से कोई असहमत नहीं होगा कि अरविंद केजरीवाल का पंजाब दूसरा डेस्टीनेशन है. दिल्ली के बाद केजरीवाल हमेशा से पंजाब पर ही डेरा डालते रहे हैं. पांच राज्यों के चुनाव में केजरीवाल ने पंजाब को हमेशा ऊपर रखा, जिसका नतीजा सामने है. केजरीवाल ने पंजाब में सबसे पहले दिल्ली मॉडल को पेश करने की बात की. फ्री बिजली, फ्री पानी, फ्री....फ्री....सब फ्री....वहीं, पंजाब की जनता ने भी दिल्ली मॉडल को सर्वोपरि रखते हुए कांग्रेस और कई बार सत्ता में रही अकाली दल को नकार दिया है और AAP को राज्य की बागडोर सौंप दी.

ADVERTISEMENT

किसान आंदोलन भी रहा मददगार, युवाओं ने भी दिया साथ

चुनाव से पहले हुए किसान आंदोलन ने आप के लिए सोने पर सुहागा का काम किया. पंजाब में वैसे भी बीजेपी का कोई जनाधार नहीं था. अगर था तो शिरोमणी अकाली दल का जो बीजेपी का एक लंबे समय से पार्टनर था. ऐसे में इन दोनों से नाराज किसानों ने केजरीवाल का रूख किया. क्योंकि, किसान आंदोलन के दौरान दिल्ली हरियाणा के बॉर्डर पर धरनारत किसनों की केजरीवल ने मदद पहुंचाई थी, जिसका नतीजा चुनाव परिणाम में प्रचंड बहुत में दिखने को मिला. वहीं, युवाओं ने भी बढ़ चढ़कर आम आदमी को वोट दिया है.

ADVERTISEMENT

कांग्रेस की अंदरूनी लड़ाई का आप को फायदा

कांग्रेस की अंदरूनी लड़ाई का फायदा आप को मिला है. पहले तो सिद्धू के बागी तेवर देख कांग्रेस ने सीएम अमरिंदर सिंह को हटाया और फिर चन्नी को ले आई. लेकिन, अब दिख रहा है कि न तो सिद्धू की गेंद चली और न ही बल्ला और उनकी टीम कांग्रेस आउट होकर पवेलियन यानी सत्ता से बाहर हो चुकी है.

ADVERTISEMENT

पंजाब में आप की बड़ी जीत के 5 मतलब

देश में राजनीतिक बदलाव का गेट-वे बना पंजाब

पंजाब ने अपने यहां एक ऐसी पार्टी को एंट्री दे दी है, जो बीजेपी और कांग्रेस का विकल्प बनने का सपना देख रही है. इस दृष्टि से पंजाब में आप की सफलता को देश में बदलाव की राजनीति का गेट-वे कहा जाए तो कोई अतिश्योक्ति नहीं होगी.

ADVERTISEMENT

केजरीवाल का कद बढ़ा, केंद्र में विपक्ष के स्पेस को भरने के लिए तैयार

पंजाब चुनाव के आए नतीजों ने ये साबित कर दिया है कि आने वाले वक्त में भारत की राष्ट्रीय राजनीति में दो प्रमुख निहितार्थ होंगे. हालांकि, AAP अभी भी एक छोटी पार्टी है. लेकिन, एक राष्ट्रीय पद चिन्ह वाली पार्टी बनकर उभरी है. ये दिल्ली की सत्ता पर काबिज है और अब पंजाब में भी सत्तासीन हो गई है. उत्तराखंड और गोवा में भी अपनी दमदार उपस्थिति दर्ज करा दी है. गोवा में 2 सीटों के साथ AAP ने खाता खोल दिया है. यूपी चुनाव में भी केजरीवाल के सिपहसलार संजय सिंह ने खूब मेहनत की. राजस्थान, मध्यप्रदेश, हरियाणा और छत्तीसगढ़ में भी वह तेजी से अपना संगठन फैला रही है. पार्टी को उम्मीद है कि इसके नेता अरविंद केजरीवाल की छवि और कद पर राष्ट्रीय राजनीति में कोई चत्मकार जरूर होगा.

ADVERTISEMENT

राज्यसभा में AAP की दमदार उपस्थिति

पंजाब चुनाव नतीजों से साफ हो गया है कि अब केजरीवाल देश की सियासत को साधने के लिए तैयार हैं. ये तस्वीर 31 मार्च को और साफ हो जाएगी, जब राज्यसभा की 5 सीटों के परिणाम सामने आएंगे. दरअसल, पंजाब में राज्यसभा की 7 सीटें हैं, जिनमें से 5 सीटों पर 31 मार्च को चुनाव होंगे और उसी दिन शाम 5 बजे तक परिणाम भी आ जाएंगे. फिलहाल, राज्य सभा में AAP के तीन सांसद हैं. जिनमें, संजय सिंह, एनडी गुप्ता और सुशील गुप्ता शामिल हैं. ऐसे में चुनाव नतीजों से साफ हो गया है कि राज्यसभा में भी AAP की उपस्थिति अच्छी खासी हो जाएगी.

अगर बात करें पंजाब में राज्यसभा की 5 सीटों पर होने वाले चुनाव की तो यहां एक राज्यसभा सीट के लिए 20.5 वोट यानी की 21 वोट की जरूर होगी. चुनावी नतीजों ने साफ कर दिया है कि AAP को 92 सीटों पर जीत हासिल हुई है. ऐसे में राज्यसभा की 4 सीटें तो AAP के खाते में कंफर्म हो गई हैं. लिहाजा, राज्यसभा में AAP की स्थिति और मजबूत हो जाएगी. 7 सीटों के लिहाज से आम आदमी पार्टी राज्यसभा में छठी सबसे बड़ी पार्टी बन जाएगी. फिलहाल, राज्यसभा में आम आदमी पार्टी से ज्यादा सीटें बीजेपी (97), कांग्रेस (34), टीएमसी (13), और डीएमके (9) की है.
ADVERTISEMENT

मोदी के घर गुजरात में ही BJP को मिलेगी आप से चुनौती

मोदी के विकल्प के तौर पर केजरीवाल खुद पेश करना चाहते हैं इसका एक सबूत ये है कि अगले गुजरात चुनाव में दमदारी से उतरने जा रहे हैं. साल 2020 में सूरत नगर पालिका के चुनावों में 27 सीटें हासिल करके उनकी पार्टी ने यह तो बता ही दिया है कि गुजरात में उनके लिए जमीन है. यदि गुजरात चुनाव में भी केजरीवाल कोई चमत्कारी प्रदर्शन कर जाते हैं तो फिर यह निश्चित है कि वह राष्ट्रीय स्तर पर खुद को मोदी के विकल्प के चेहरे के तौर पर प्रस्तुत करने से पीछे नहीं हटेंगे.

ADVERTISEMENT

कांग्रेस के ‘दिन लदे’

जब हम कह रहे हैं कि पंजाब चुनाव के नतीजे कांग्रेस के लिए खतरे की घंटी बनकर आए हैं, तो ऐसे में समझना जरूरी हो जाता है कि आखिर कैसे? तो बता दें, कि एक-एक कर हर राज्य से कांग्रेस अपनी सत्ता खोती जा रही है. साथ ही विपक्ष के तौर पर भी उसपर खतरा मंडराने लगा है. अगर, आप की ताकत बढ़ती है तो सबसे ज्यादा खतरा कांग्रेस को होगा. नेतृत्व के नाम पर भी यह पहले से बैकफुट पर है. ऐसे में कांग्रेस ने केजरीवाल के लिए देश में दूसरे सबसे बड़े विकल्प बनने के मौके खोल दिए हैं.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

क्विंट हिंदी पर लेटेस्ट न्यूज और ब्रेकिंग न्यूज़ पढ़ें, punjab-elections के लिए ब्राउज़ करें

टॉपिक:  Arvind Kejriwal   आप   Punjab election 

ADVERTISEMENT
Published: 
अधिक पढ़ें
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT
और खबरें
×
×