ADVERTISEMENT

नवजोत सिंह सिद्धू ने अपना इस्तीफा वापस लिया, बने रहेंगे पंजाब कांग्रेस अध्यक्ष

नवजोत सिंह सिद्धू ने नाराज होकर कांग्रेस अध्यक्ष के पद से अपना इस्तीफा दे दिया था

Updated
<div class="paragraphs"><p>नवजोत सिंह सिद्धू</p></div>
i

पंजाब विधानसभा चुनाव से पहले कांग्रेस के लिए राहत की खबर आई है. पंजाब कांग्रेस अध्यक्ष के पद से नाराज होकर इस्तीफा देने वाले नवजोत सिंह सिद्धू (Navjot singh Sidhu) अब पूरी तरह मान चुके हैं. जिसके बाद उन्होंने अपना इस्तीफा भी वापस ले लिया है. इसकी जानकारी सिद्धू ने खुद दी है.

ADVERTISEMENT

हालांकि जिन नियुक्तियों को लेकर सिद्धू ने इस्तीफा दिया था, उन पर किसी और की नियुक्ति के बाद ही वो कार्यभार संभालेंगे. सिद्धू ने कहा,

"कांग्रेस अध्यक्ष, राहुल और प्रियंका जी के इस सिपाही ने अपना इस्तीफा वापस ले लिया है. जिस दिन नए एडवोकेट जनरल बनेंगे और नया पैनल आ जाएगा, मैं उस दिन ऑफिस जाकर अपना कार्यभार सभालूंगा."

चन्नी पर भी साधा निशाना

नवजोत सिंह सिद्धू ने इस्तीफा वापस लिए जाने की बात तो कही, लेकिन इशारों-इशारों में नए मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी पर भी निशाना साध दिया. सिद्धू ने कहा कि, "मैंने एक महीने पहले सीएम चन्नी से बात की थी. ये 90 दिनों की सरकार है, जिसके 50 दिन पूरे हो चुके हैं. ड्रग्स और बेअदबी को लेकर कैप्टन अरमिंदर सिंह ने कुछ नहीं किया, इसलिए उनका इस्तीफा हुआ. मेरी नजरों में सीएम चन्नी के लिए भी वही जिम्मेदारियां हैं. जिन्हें उन्हें पूरा करना चाहिए."

सिद्धू ने नाराज होकर दिया था इस्तीफा

नवजोत सिंह सिद्धू पार्टी से कैबिनेट विस्तार और कुछ बड़े पदों पर नियुक्तियों को लेकर नाराज चल रहे थे. जिसके बाद उन्होंने अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया था. उन्होंने तब इस्तीफा देने के बाद एक वीडियो जारी कर कहा था कि,

"सिद्धांतों पर कायम रहने के लिए कोई भी बलिदान दूंगा... मैंने उस व्यवस्था को तोड़ दिया जहां दागी मंत्रियों और अधिकारियों को रखा गया था. अब दागी मंत्रियों और अधिकारियों को फिर से नियुक्त नहीं किया जा सकता है. मैं ऐसी नियुक्तियों का विरोध करता हूं."

लंबी लड़ाई के बाद बनाए गए थे अध्यक्ष

नवजोत सिंह सिद्धू ने अपने ही सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह के खिलाफ लगातार मोर्चा खोल दिया था. वो कैप्टन पर किसी विपक्षी नेता की तरह हमलावर हो चुके थे. पार्टी में भी ये साफ मैसेज दे दिया गया था कि कैप्टन के समकक्ष पद चाहिए. कई हफ्तों की लंबी लड़ाई के बाद आखिरकार सिद्धू को पंजाब कांग्रेस अध्यक्ष का पद दिया गया, जबकि तब सीएम पद पर बैठे कैप्टन इस फैसले से मंजूर नहीं थे. इसके कुछ ही हफ्तों बाद कैप्टन को ही कुर्सी से उतार दिया गया. उनकी जगह चरणजीत सिंह चन्नी को मुख्यमंत्री बनाया.

लेकिन चन्नी के मुख्यमंत्री बनते ही सिद्धू फिर नाराज हो गए. इस बार उन्होंने अध्यक्ष पद से ही इस्तीफा दे दिया. इसे लेकर भी पार्टी की खूब किरकिरी हुई. खुद सीएम चन्नी ने उन्हें कई बार मनाया. जिसके बाद उनकी कुछ शर्तें मानते हुए उन्हें मनाया गया.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENT
Published: 
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT