टेस्ट सीरीज से पहले ओपनिंग के ऑडिशन में फेल पृथ्वी शॉ, गिल और मयंक

भारत और न्यूजीलैंड के बीच 21 फरवरी से वेलिंग्टन में पहला टेस्ट मैच खेला जाएगा

Published
क्रिकेट
3 min read
हैमिल्टन में भारतीय ओपनर जल्द ही पवेलियन लौट गए
i

वनडे सीरीज गंवाने के बाद टेस्ट सीरीज से पहले टीम इंडिया की तैयारियों की शुरुआत अच्छी नहीं रही. दौरे के इकलौते अभ्यास मैच के पहले ही दिन भारतीय बल्लेबाजी पस्त दिखी. न्यूजीलैंड इलेवन के खिलाफ भारतीय टीम सिर्फ 263 रन पर ढेर हो गई. हनुमा विहारी और चेतेश्वर पुजारा को छोड़कर टीम का कोई भी बल्लेबाज टिक नहीं.

विहारी ने शानदार शतक जड़ा, जबकि पुजारा शतक से चूक गए और 92 रन बनाकर आउट हुए. दोनों ने पांचवे विकेट के लिए 195 रन जोड़े.

ऑडिशन में फेल शॉ और गिल

रेड बॉल फॉर्मेट में दुनिया की नंबर एक टीम भारत के लिए न्यूजीलैंड में टेस्ट क्रिकेट की चुनौती पहले से ही आसान नहीं है. इस लिहाज से ये अभ्यास मैच टीम की तैयारियों को परखने का अच्छा मौका है. खासतौर पर, आने वाली सीरीज के लिए टीम में ओपनिंग जोड़ी तय करने के लिए ये एक ऑडिशन की तरह था.

एक ओपनर के तौर पर मयंक अग्रवाल का खेलना तय है, लेकिन उनके जोड़ीदार के तौर पर शुभमन गिल या पृथ्वी शॉ में से किसे मौका मिलेगा, ये अभी साफ नहीं है. ऐसे में उम्मीद थी कि अभ्यास मैच में टीम को कुछ समाधान मिलेगा, लेकिन पहले दिन के खेल ने टीम को और परेशानी में डाल दिया है.

हैमिल्टन में पहली पारी की शुरुआत के लिए पृथ्वी शॉ और मयंक अग्रवाल मैदान पर उतरे. टीम इंडिया के लिए 2 टेस्ट खेल चुके शॉ चौथी ही गेंद पर बिना खाता खोले आउट हो गए. इसके बाद सातवें ओवर में ओपनिंग के बाकी दोनों दावेदार भी पवेलियन लौट गए. मयंक अग्रवाल (1) रन बनाकर आउट हुए, जबकि शुभमन गिल (0) पहली ही गेंद पर चलते बने.

पुजारा और विहारी ने दिखाया दम

टीम के सबसे सीनियर बल्लेबाजों में से एक और विदेशों में सबसे भरोसेमंद बैट्समैन अजिंक्य रहाणे भी सिर्फ 18 रन बनाकर आउट हो गए. हालांकि रहाणे को लेकर टीम मैनेजमेंट ज्यादा परेशान नहीं होगा, क्योंकि उन्हें न्यूजीलैंड में टेस्ट क्रिकेट खेलने का अनुभव है और उन्होंने न्यूजीलैंड ए के खिलाफ दूसरे अनाधिकारिक टेस्ट में शतक भी जड़ा था.

पुजारा और विहारी ने एक बेहतरीन साझेदारी की
पुजारा और विहारी ने एक बेहतरीन साझेदारी की
(फोटोः BCCI)

सीनियर बल्लेबाज चेतेश्वर पुजारा ने एक बार फिर टीम के भरोसे और अपनी छवि के मुताबिक टीम को मुश्किल से निकाला और एक छोर संभाले रखा. उनका साथ दिया हनुमा विहारी ने.

विहारी कुछ वक्त से टेस्ट टीम का अहम हिस्सा रहे हैं. हालांकि पिछले 3-4 टेस्ट में वो अंतिम ग्यारह में जगह नहीं बना पाए, लेकिन पहले अनाधिकारिक टेस्ट में शतक और अब इस अभ्यास मैच में शतक से भी उन्होंने अपनी दावेदारी को और मजबूत कर दिया है.

जहां भारत के सभी बल्लेबाज न्यूजीलैंड इलेवन के तेज गेंदबाजों के सामने संघर्ष करते दिखे, वहीं ‘टेस्ट स्पेशलिस्ट’ पुजारा और विहारी ने शुरुआती मुश्किलों से उबरते हुए आराम से रन बनाए और एक बेहतरीन साझेदारी कर टीम को संभाला. विहारी 101 रन बनाकर रिटायर्ड हर्ट हुए.

हनुमा विहारी ने टीम को दिखाया कि उनको ड्रॉप करना आसान नहीं होगा
हनुमा विहारी ने टीम को दिखाया कि उनको ड्रॉप करना आसान नहीं होगा
(फोटोः BCCI)

भारतीय कप्तान विराट कोहली पहली पारी में बैटिंग के लिए नहीं उतरे, लेकिन जिस तरह का हाल दिखा, उससे इतना तो तय है कि दूसरी पारी में कोहली भी खुद को आजमाना चाहेंगे.

विकेटकीपर को लेकर तो टीम में कोई असमंजस फिलहाल नहीं है, लेकिन इस पारी में ऋषभ पंत और ऋद्धिमान साहा, दोनों ही बैटिंग में तो नाकाम ही रहे. पंत ने सिर्फ 7 रन बनाए, जबकि साहा शून्य पर आउट हो गए.

कोरोनावायरस से जारी जंग के बीच तमाम अपडेट्स और जानकारी के क्लिक कीजिए यहां

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram और WhatsApp चैनल से जुड़े रहिए यहां)

क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!