ADVERTISEMENT

WTC ताज के बिना कोहली को बादशाह क्यों मानें?

कोहली ने भारतीय क्रिकेट में जितने टेस्ट जीते हैं उसके आस-पास महेंद्र सिंह धोनी भी नहीं

Published
कप्तान विराट कोहली
i

बिना किसी ताज का बादशाह कैसा? अगर दुनिया में आपको अपनी बादशाहत का लोहा मनवाना है तो आपके सर पर कोई ताज तो होना ही चाहिए ना? ये तो बेहद स्वभाविक सी बात है. ठीक इसी तर्ज पर अगर क्रिकेट की दुनिया में आपको खुद को महान कप्तान या महान टीम का तमगा हासिल करना है तो आपको ऐसा कुछ खास तो हासिल करना ही होगा जिससे आलोचकों को ये लगा कि आपकी महानता का दावा खोखला नहीं है. आपके दावों में दम है जिसे नकारा नहीं जा सकता है.

टीम इंडिया के कोच रवि शास्त्री के पास खुद को महानतम कोच का तमगा लेने के लिए ऑस्ट्रेलिया के दो दौरे पर लगातार जीत हासिल करने का रिकॉर्ड है तो वो निश्चिंत हैं अपनी विरासत को लेकर. बल्लेबाज के तौर पर विराट कोहली की महानता को लेकर भी कोई संदेह नहीं है अगर वो आज ही संन्यास का फैसला कर लें. लेकिन, क्या यही बात कप्तान के तौर पर ख़ासतौर पर टेस्ट कप्तान के तौर पर कोहली के बारे में कही जा सकती है? सीधा जवाब है नहीं.

धोनी की कामयाबी का जिन्न कोहली को परेशान तो नहीं करेगा?

कोहली ने भारतीय क्रिकेट में जितने टेस्ट जीते हैं उसके आस-पास महेंद्र सिंह धोनी भी नहीं जिन्होंने 60 में से 27 मैच जीते. कोहली ने तो इतने ही मैचों में 36 लेकिन धोनी को कोई मैडल की जरूरत तो है नहीं अपने को महान कप्तान में गिनवाने के लिए.

आप जानते ही हैं को धोनी ने आईसीसी यानि क्रिकेट को संचालन करने वाली सर्वोच्च संस्था द्वारा आयोजित हर तरह की ग्लोबल ट्रॉफी अपने नाम की है. शुरुआत टी 20 वर्ल्ड कप से की फिर वन-डे वर्ल्ड कप जीता और फिर चैंपियंस ट्रॉफी. ऐसा करने वाले वो दुनिया के अनोखे और इकलौते कप्तान भी हैं.

लेकिन, कोहली के पास तो कोई ग्लोबल ट्रॉफी है ही नहीं. पिछले दो साल में शानदार खेल दिखाते हुए ये टीम ऐतिहासिक टेस्ट चैंपियनशिप के फाइनल में पहुंची है. उनके सामने हैं न्यूजीलैंड की टीम जो टीम इंडिया की तरह इस खिताब को जीतकर दुनिया के सामने अपना लोहा मनवाना चाहती है. लेकिन, केन विलियमसन से ज़्यादा कोहली को इस ट्रॉफी की दरकरार है.
ADVERTISEMENT

अपनी बादशाहत साबित करने के लिए दुनिया को ये बताने के लिए कि जब भी महानतम टेस्ट कप्तानों का जिक्र होगा तो फैंस को गूगल में जाकर उनके आंकड़ों को सर्च करने की जरुरत ना पड़ी. बस इतना ही कहना काफी हो कि अरे भाई, पहली बार 144 सालों के इतिहास में जब टेस्ट चैंपियनशिप के फाइनल का आयोजन हुआ तो विजेता कप्तान कोहली ही थे. बस, उसी से उनकी कप्तानी की विरासत हमेशा के लिए विराट हो जायेगी क्योंकि बाकि सब कुछ तो उनकी बायो-डाटा में लगभग है ही.

दूसरी बात ये भी है कि कोहली बखूबी जानते हैं कि इससे शानदार मौका तो किसी भी कप्तान को मिलेगा ही नहीं. टेस्ट मैच जीतने के लिए हमेशा पांरपारिक तौर पर इस बात पर जोर दिया जाता है कि आपके पास मैच कम समय में, किफायती गेंदबाजी करते हुए पूरे 20 विकेट लेने वाला गेंदबाजी आक्रमण है या नहीं. इस मामले में तो कोहली राजा हैं. उनके पास एक से बढ़कर एक नहीं बल्कि 5 लाजवाब तेज गेंदबाज है तो स्पिनर के तौर पर रविचंद्रण अश्विन और रवींद्र जडेजा की जोड़ी. मतलब, विकल्पों का ऐसा प्रचुर संसाधन की अक्सर पटेल जैसा खिलाड़ी जो किसी भी टेस्ट टीम में फटाफट प्लेइंग इलेवन का हिस्सा बन जाए उसे कोहली की टीम में 12वें खिलाड़ी की भूमिका भी निभाने को नहीं मिले.

अगर आप भूल गयें हों तो आपको याद दिलाना चाहूंगा कि कुछ महीने पहले ही इंग्लैंड के खिलाफ मैचों की सिर्फ 6 पारियों में पटेल ने 27 विकेट झटके थे, जिसमें चार मौकों पर पारी में 5 विकेट और एक बार पारी में 4 विकेट लेने का कमाल उन्होंने दिखाया. और तो और कोहली की टीम कागज पर इतनी मजबूत है कि किसी को इस बात से फर्क भी नहीं पड़ता कि भुवनेश्वर कुमार औऱ हार्दिक पंड्या जैसे खिलाड़ी टेस्ट टीम का हिस्सा नहीं है जो पटेल की ही तरह बाकि किसी भी दूसरी टेस्ट टीम में प्लेइंग इलवेन का हिस्सा हो जाते,
ADVERTISEMENT

तो क्या ये मान लिया जाए कि बस अब वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप जीतना महज औपचारिकता ही है? बिल्कुल नहीं. कम से कम न्यूजीलैंड जैसी मेहनती टीम के खिलाफ तो कुछ भी आप तय नहीं मान सकते हैं. आप लोगों को तो याद ही होगा कि कैसे 2019 में वन-डे वर्ल्ड कप के सेमीफाइनल में विलियमसन की सेना ने कोहली के वीरों को पस्त कर दिया था. इस बार मुकाबला इंग्लैंड में ही लेकिन सफेद गेंद की बजाए लाल गेंद और सेमीफाइनल की बजाए एक ऐतिहासिक फाइनल. लेकिन, कीवी जानते हैं कि इंग्लैंड का मौसम और पिचें उन्हें अपने मुल्क की याद दिलायेगा. और अपने मुल्क में कोहली या फिर उनके किसी भी साथी ने टेस्ट जीत का स्वाद नहीं चखा है सिर्फ अनुभवी ईशांत शर्मा ही अपवाद हैं.

दूसरी मुसीबत ये भी है कि इंग्लैंड में पिछले 35 सालों में भारत ने एक ही टेस्ट सीरीज जीती है और वो भी 2007 में जब टीम की बल्लेबाजी में राहुल द्रविड़, सचिन तेंदुलकर, सौरव गांगुली और वीवीएस लक्ष्मण जैसे दिग्गज हुआ करते थे लेकिन इस टीम के बल्लेबाजों पर वैसा ही भरोसा किया जा सकता है?

रोहित शर्मा ने कभी भी इंग्लैंड में पारी की शुरुआत नहीं की है जो किसी बी ओपनर के लिए सबसे कठिन चुनौती होती है. शुभमन गिल का ये पहला दौरा होगा इस तरह के मुश्किल हालात से सामंजस्य बिठाने का. अगर कोहली जैसा दिग्गज 2014 में अपने पहले इंग्लैंड दौरे पर पूरी तरह से जूझता दिखा तो आप समझ सकतें हैं कि इंग्लैंड में टेस्ट बल्लेबाजी एक अलग ही चुनौती है.
ADVERTISEMENT

यकीन नहीं होता है तो चेतेश्वर पुजारा और अंजिक्या रहाणे के आंकड़ों को खंगाल ले जिन्होंने पूरी दुनिया में अपना परचम लहराया है लेकिन इस मुल्क में दोनों का औसत 30 की भी पार नहीं कर पाता है और दोनों ने 2-2 दौरों पर कुल मिलाकर सिर्फ 2 शतक ही जोड़ें हैं. एक और समस्या बल्लेबाजों के लिए ये है कि उनके पास फाइनल खेलने से पहले कोई अभ्यास मैच भी नहीं है जबकि कीवी टीम मेजबान इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट सीरीज खेलकर आयेगी और पूरी तरह से तैयार होगी. ऐसे में अहम सवाल यही कि क्या कोहली सारी मुश्किलों को धवस्त करते हुए एक ग्लोबल ट्रॉफी जीतने में कामयाब हो पायेंगे?

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT