ऑटोमोबाइल सेक्टर को 2020 से उम्मीद, याद नहीं करना चाहेगा 2019

ऑटोमोबाइल उद्योग को आने वाले साल 2020 से काफी उम्मीदें हैं

Published27 Dec 2019, 01:08 PM IST
कार और बाइक
2 min read

ऑटोमोबाइल सेक्टर के लिए साल 2019 ऐसा रहा जिसे वह फिर दोबारा याद नहीं करना चाहेगा. ऑटोमोबाइल सेक्टर को 2019 में जबरदस्त सुस्ती का सामना करना पड़ा है. ऐसे में ऑटोमोबाइल उद्योग को आने वाले साल 2020 से काफी उम्मीदें हैं. उम्मीद जताई जा रही है कि नए मॉडलों और अपग्रेड मॉडलों के सहारे 2020 में बाजार में अच्छी पकड़ होगी.

साल 2019 में दोपहिया वाहनों से लेकर कारों और हेवी ड्यूटी ट्रकों जैसे सभी तरह के वाहनों में बिक्री में गिरावट दर्ज की गई है. यह गिरावट इतनी दर्ज की गई है कि, अनुमान लगाया जा रहा है कि वित्त वर्ष 2019-20 में थोक बिक्री पिछले वित्त वर्ष की तुलना में 13 से 17 प्रतिशत कम रहेगी.

BS-4 से BS-6 वाहनों की चुनौती

ऑटोमोबाइल कंपनियों के सामने BS-4 से सीधे BS-6 मानक की ओर जाने की सबसे बड़ी चुनौती है. इसके अलावा सुरक्षा नियमों की भी चुनौती है. इससे वाहनों के दाम में भी बढ़ोत्तरी होगी, यह भी बाजार के लिए चुनौती है.

वाहन विनिर्माताओं के संगठन सियाम के अध्यक्ष राजन वढेरा का कहना है ,

‘BS-6 लागू होने जा रहा है ऐसे में 2020 काफी रोमांचक साल होगा. BS-6 के क्रियान्वयन का मतलब है कि पुराना सारा स्टॉक निकालना होगा. नया स्टॉक बनाना होगा. नए BS-6 अनुकूल वाहन पेश करने होंगे. इससे निश्चित रूप से वाहनों का उत्पादन और बिक्री बढ़ेगी.’

वढेरा ने कहा कि, अतिरिक्त लागत के इस दबाव से उबरने के लिए सियाम ने सरकार से वाहनों पर GST की दर को 28 से घटकर 18 प्रतिशत करने की मांग की है. साथ ही वाहनों के लिए एक प्रोत्साहन वाली कबाड़ नीति लाने की भी मांग की है.

3.5 लाख लोगों ने गंवाई नौकरी

ऑटोमोबाइल सेक्टर में साल 2019 ब्रिकी की भारी गिरावट की वजह से मोटर कंपनियों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ा. कम बिक्री की वजह से कंपनियों को अपने उत्पादन में कटौती करनी पड़ी. बिक्री की गिरावट का आलम ऐसा रहा कि, डीलरशिप से लेकर मोटर पार्ट्स तक करीब 3.5 लाख लोगों को नौकरी गंवानी पड़ी.

ऑटो एक्सपो से कंपनियों को उम्मीद

तमाम परेशानियों के बावजूद ऑटोमोबाइल कंपनियों ने उम्मीद नहीं छोड़ी है. दो साल में एक बार होनेवाला ऑटो एक्सपो नजदीक है. ऑटोमोबाइल कंपनियों को उम्मीद है कि ऑटो एक्सपो के जरिए वह अपने उपभोक्ताओं को आकर्षित कर पाएगा.

ऑटोमोबाइल कंपनियों को उम्मीद

देश की सबसे बड़ी कार कंपनी मारुति सुजुकी के प्रबंध निदेशक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी केनिची आयुकावा ने कहा कि, हमें उम्मीद है कि 2020 उद्योग के लिए बेहतर वर्ष साबित होगा. आयुकावा ने कहा कि यह अनुमान लगाना कठित है कि वाहन उद्योग की स्थिति कब तक सुधरेगी लेकिन हमारा मानना है कि यह उद्योग तेजी से आगे बढ़ता रहेगा.

हुंदै मोटर इंडिया के प्रबंध निदेशक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी एस एस किम ने कहा,

संभवत: BS-6 नियम लागू होने के बाद उपभोक्ताओं को इसे समझने में कुछ समय लेगा, लेकिन मैं कहूंगा कि अगले साल की दूसरी छमाही से हम मांग में निश्चित रूप से सुधार देखेंगे.

साल 2019 में ऑटो उद्योग पहले ही अपने निचले स्तर को छू चुका है. सुधार की रफ्तार का अनुमान नहीं है लेकिन कंपनियों का मानना है कि निश्चित रूप से अगले वित्त वर्ष से स्थिति सुधरेगी.

कोरोनावायरस से जारी जंग के बीच तमाम अपडेट्स और जानकारी के क्लिक कीजिए यहां

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram और WhatsApp चैनल से जुड़े रहिए यहां)

क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!