5G ट्रायल के लिए HUAWEI को मंजूरी बड़ी बात क्यों?कहां फंसा था पेंच

हुवावेई ने भारत के इस कदम का स्वागत किया है

Updated31 Dec 2019, 01:11 PM IST
टेक और ऑटो
3 min read

चीन की कंपनी हुवावेई को भारत सरकार की तरफ से 5G के ट्रायल में हिस्सा लेने की इजाजत मिल गई है. अमेरिका और चीन में जारी ट्रेड वॉर के बीच इस फैसले को राजनयिक और कूटनीतिक नजर से भी देखा जा रहा है. ये पहली बार है जब भारत ने यूएस-चीन टैरिफ वॉर में फंसे होने के बाद कोई आधिकारिक स्टैंड लिया है.

टेलीकॉम मिनिस्टर प्रसाद ने क्या कहा?

टेलीकॉम मिनिस्टर रवि शंकर प्रसाद ने 30 दिसंबर को मीडिया से बातचीत में कहा कि 5G स्पेक्ट्रम के ट्रायल सभी ऑपरेटर और वेंडर के साथ किए जाएंगे. प्रसाद ने कहा,

“हमने सैद्धान्तिक रूप से 5G स्पेक्ट्रम को ट्रायल पर देने का फैसला किया है.”

जब प्रसाद से हुवावेई के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा कि सभी वेंडर ट्रायल में हिस्सा लेने के लिए आमंत्रित हैं.

इकनॉमिक टाइम्स के मुताबिक, हुवावेई ने भारत के इस कदम का स्वागत किया है. कंपनी के इंडिया हेड जे चेन ने कहा,

“हमने मीडिया में खबर पढ़ी है. हम भारत की सरकार को हुवावेई में विश्वास जताने के लिए शुक्रिया कहते हैं. हम इस बात पर विश्वास रखते हैं कि सिर्फ टेक्नोलॉजी इनोवेशन और हाई-क्वालिटी नेटवर्क ही भारतीय टेलीकॉम इंडस्ट्री की सेहत ठीक कर सकते हैं. हुवावेई इंडिया के प्रति समर्पित है.”

हुवावेई को 5G स्पेक्ट्रम ट्रायल का न्योता मिलने को मोबाइल फोन कंपनियां चाइनीज वेंडर्स के साथ काम करने के ग्रीन सिग्नल की तरह देख रही हैं. लेकिन रवि शंकर प्रसाद ने साफ किया है कि हुवावेई को 5G स्पेक्ट्रम सिर्फ ट्रायल्स के लिए मिला है.

ट्रायल्स के जनवरी 2020 में होने की उम्मीद है. इसके बाद 5G स्पेक्ट्रम के लिए बोली लगाई जाएगी. टेलीकॉम कंपनियां सरकार से स्पेक्ट्रम की कीमतों पर दोबारा विचार करने के लिए कह रही हैं. लेकिन सरकार ने अब तक इस पर कोई एक्शन नहीं लिया है.

हुवावेई को इजाजत बड़ी बात क्यों?

अमेरिका भारत समेत अपने साथी देशों पर हुवावेई को 5G स्पेक्ट्रम डिप्लॉयमेंट से दूर रखने के लिए दबाव बना रहा है. अमेरिका इसके पीछे वो सुरक्षा संबंधी दलीलें दे रहा है और साथ ही चीन की सरकार से कंपनी की नजदीकी को भी कारण बता रहा है. अमेरिका ने चेतावनी दी थी कि जो देश हुवावे के इक्विपमेंट लगाएंगे उनके साथ अमेरिकी सहयोग मुश्किल हो जाएगा.

वहीं, हुवावेई को स्पेक्ट्रम से दूर करने को लेकर चीन भारत को आर्थिक मोर्चे पर परिणाम भुगतने की धमकी दे चुका है.

RSS के करीबी स्वदेशी जागरण मंच ने किया विरोध

केंद्र की बीजेपी सरकार और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) के करीबी स्वदेशी जागरण मंच ने हुवावेई को 5G ट्रायल का न्योता मिलने का विरोध किया है. मंच के राष्ट्रीय को-कन्वेनर अश्वनी महाजन ने इसके संबंध में पीएम मोदी को एक पत्र लिखा है. महाजन ने लिखा, "ये लेटर चाइनीज टेलीकॉम कंपनी हुवावेई को 5G ट्रायल का न्योता मिलने पर हमें हुई निराशा जताने के लिए लिखा गया है."

महाजन ने 31 दिसंबर को लिखे इस पत्र में लिखा है कि हुवावेई को इजाजत देना भारतीय वायरलेस ऑपरेटरों के लिए ठीक नहीं है. महाजन ने लिखा, "भारतीय टेलीकॉम नेटवर्क में चाइनीज कंपनियों की मौजूदगी देश की सुरक्षा के साथ समझौता करना होगा." मंच ने कहा है कि चीन किसी बाहरी कंपनी को अपने मार्केट में एंट्री नहीं देता है.

मंच ने पीएम मोदी से हुवावेई समेत कई चाइनीज कंपनियों को भारतीय बाजार में कारोबार करने से रोकने की गुजारिश की है.

किन देशों ने हुआवेई के 5G इक्विपमेंट बैन किए

  • अमेरिका
  • कनाडा
  • न्यूजीलैंड
  • ऑस्ट्रेलिया

5G की खास बातें

  • 2009 में चालू हुई 4G की जगह लेगी
  • 4G से 100 गुना ज्यादा तेज होगी 5G
  • 10 गीगा बाइट प्रति सेकेंड की स्पीड
  • 3 घंटे की HD मूवी सेकेंड में डाउनलोड हो जाएगी
  • स्मार्ट वॉशिंग मशीन, स्मार्ट फ्रिज, ट्रैफिक लाइट सबकुछ ऑटोमैटिक करना मुमकिन
  • सेल्फ ड्राइविंग कार से तमाम ऑटोमैटिक उपकरण तक सभी में इस्तेमाल

कोरोनावायरस से जारी जंग के बीच तमाम अपडेट्स और जानकारी के क्लिक कीजिए यहां

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram और WhatsApp चैनल से जुड़े रहिए यहां)

Published: 31 Dec 2019, 11:34 AM IST
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!