ADVERTISEMENT

जूही चावला 5G केस में कोर्ट फैसले पर एक्टिविस्ट- ‘अन्यायपूर्ण’

एंटी-5G एक्टिविस्ट का कहना है कि 5G तकनीक को लागू करने से रोकने की पर्याप्त वजहें हैं

Published
एंटी-5G एक्टिविस्ट का कहना है कि 5G तकनीक को लागू करने से रोकने की पर्याप्त वजहें हैं
i

दिल्ली हाई कोर्ट ने 4 जून को एक्टर जूही चावला की 5G तकनीक लागू करने के खिलाफ दायर याचिका खारिज कर दी. चावला के अलावा याचिका वीरेश मलिक और टीना वचानी ने भी दायर की थी. चावला ने याचिका में 5G तकनीक टेस्टिंग के बिना लागू करने को चुनौती दी थी.

जस्टिस जेआर मिड्ढा की बेंच ने कहा कि याचिका पब्लिसिटी स्टंट लगता है और याचिकाकर्ताओं पर 20 लाख का जुर्माना भी लगाया.

लेकिन एंटी-5G एक्टिविस्ट कोर्ट के फैसले से सहमति नहीं रखते हैं. उनका कहना है कि 5G तकनीक को लागू करने से रोकने की पर्याप्त वजहें हैं.

ADVERTISEMENT

'अन्यायपूर्ण और अस्वीकार्य': फैसले पर एक्टिविस्ट

पुणे स्थित एक्टिविस्ट वैशाली पाटकर कहती हैं कि हाई कोर्ट का फैसला 'अन्यायपूर्ण और अस्वीकार्य' है. उन्होंने कहा, "हम कोर्ट के फैसले का सम्मान करते हैं लेकिन 20 लाख का जुर्माना लगाना ज्यादा हो गया. जूही ने सिर्फ सही सवाल पूछने के लिए याचिका दायर की थी, सरकार को डेटा जारी कर बताना चाहिए कि रेडिएशन कितनी नुकसानदायक है."

पाटकर कहती हैं कि वो भी 5G के खिलाफ कोर्ट में याचिका दायर करने की योजना में हैं. वैशाली ने कहा, “मैं 5G तकनीक के इंसानों पर खराब प्रभाव को लेकर 2020 से जागरुकता फैला रही हूं क्योंकि ये तकनीक नुकसानदायक है और इसे गलत साबित करने वाला डेटा मौजूद नहीं है.” 

एक्टिविस्ट शौमिक सेनगुप्ता कहते हैं, "मैं जूही का आगे बढ़कर इस मुद्दे को समर्थन देने के लिए सम्मान करता हूं. सरकार डेटा क्यों नहीं जारी करती? अगर डेटा कहता है कि 5G पूरी तरह सुरक्षित है और रेडिएशन जीवित वस्तुओं को नुकसान नहीं पहुचाएंगी तो हम सरेंडर कर देंगे. लेकिन ऐसा लगता है कि सरकार को खुद जवाब नहीं पता."

ADVERTISEMENT

इंसानों पर असर

2017 में तुर्की के हिस्टोलॉजी और एम्ब्र्योलॉजी डिपार्मेंट ने एक स्टडी की थी. उसके मुताबिक, मोबाइल 1.8 से 2.2 GHz तक की फ्रीक्वेंसी इस्तेमाल करते हैं. WHO गाइडलाइन के मुताबिक ये फ्रीक्वेंसी टिश्यू को गर्म कर देती हैं.

टिश्यू तब गर्म होता है जब हमारी स्किन इलेक्ट्रोमैग्नेटिक फ्रीक्वेंसी (EMF) या वेव को सोख लेती है. इससे शरीर का तापमान भी बढ़ जाता है.

रोम की सैपिएंजा यूनिवर्सिटी के इंफॉर्मेशन इंजीनियरिंग, इलेक्ट्रॉनिक्स और टेलीकम्यूनिकेशन डिपार्टमेंट की एक स्टडी कहती है कि लोग उम्र बढ़ने के साथ ही EMF-संबंधित टिश्यू हीटिंग समस्या से ज्यादा जूझते हैं.   

पाटकर का मानना है कि 5G टावर से निकलने वाली रेडिएशन मानव शरीर को पार कर सकती है और इससे 'कैंसर हो सकता है.' उन्होंने कहा, "अगर ऐसा नहीं है तो सरकार को स्पष्ट करना चाहिए. दिक्कत ये है कि इसे साबित करने के लिए कोई स्टडी नहीं है."

क्विंट को दो स्टडी मिली जिसमें कहा गया था कि EMF से इंसानों में कैंसर हो सकता है. एक स्टडी 14 देशों के 30 वैज्ञानिकों ने इंटरनेशनल एजेंसी फॉर रिसर्च ऑन कैंसर के लिए की थी.

ADVERTISEMENT

क्या सभी दावे ठीक हैं?

भारत में 5G शुरू होने और उसके जारी होने की प्रक्रिया के दौरान सोशल मीडिया पर दावे किए जा रहे हैं कि इससे स्वास्थ्य संबंधी दिक्कतें हो सकती हैं.

डॉ राजेश देशपांडे ने क्विंट से कहा कि ये सभी दावे उचित लगते हैं लेकिन पर्याप्त डेटा नहीं है जो कहे कि 5G नुकसानदायक है. डॉ देशपांडे ने कहा, "इसलिए इस स्थिति में कोई बयान देना ठीक नहीं होगा. ये जरूरी है कि हम और ट्रायल करें और प्रभावों पर स्टडी करें. फिर ही हम कुछ कह सकते हैं."

क्विंट ने डॉ देशपांडे से पूछा कि क्या 5G तकनीक से सिरदर्द, माइग्रेन और चक्कर आ सकते हैं. उन्होंने कहा, “नहीं, इन दावों को साबित करने के लिए कोई सबूत नहीं है.” 

डॉ एलवी कृष्णन ने द हिंदू से कहा कि कुछ चूहों या इंसानों पर टेस्टिंग काफी नहीं है. उन्होंने कहा, "रेडिएशन का असर कुछ समय बाद दिखता है. अगर इंसान पर ये सुरक्षित लगती है तो भी पेड़-पौधों और जानवरों पर इसके प्रभाव की टेस्टिंग होनी चाहिए."

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT