नया मोटर वाहन एक्ट तो लागू हो गया लेकिन इन 5 चीजों के लिए नियम कब

नया मोटर वाहन एक्ट तो लागू हो गया लेकिन इन 5 चीजों के लिए नियम कब

टेक और ऑटो

कैमरापर्सन: मुकुल भंडारी

वीडियो एडिटर: राहुल सांपुई

Loading...

देश में 1 सितंबर से नया मोटर वाहन एक्ट कड़े जुर्माने के साथ लागू हो गया. अच्छे दिन न सही, कम से कम देश में सड़क पर अनुशासन के लिए अच्छी खबर है. फाइन काफी कड़े हैं. बिना लाइसेंस ड्राइविंग 5000 रुपए और अगर शराब पीकर गाड़ी चलाते हैं तो 10,000 रुपए जुर्माना भरने के साथ जेल भी जा सकते हैं.

तेज रफ्तार गाड़ी चलाई तो फाइन 500 रुपए से बढ़कर 5000 रुपए. बिना सीट बेल्ट बांधे ड्राइविंग करने पर जुर्माना 100 रुपये से बढ़कर 1,000 रुपए हो गया है. क्या ये लोगों में बदलाव ला सकता है?

कई लोग ट्रैफिक कॉन्स्टेबल को देखकर सीट बेल्ट या हेलमेट पहन लेते हैं. अरे भाई साहब, ये आपकी सुरक्षा के लिए है. इसके अलावा, आपने सीट बेल्ट के लिए पैसे खर्च किए हैं तो इसका इस्तेमाल भी करें.

नए नियम देश में ड्राइविंग के कुछ बुनियादी मुद्दों को कवर नहीं करते हैं. इनमें से कुछ पर नजर डालते हैं.

1. हाई बीम के साथ ड्राइविंग

इन दिनों गाड़ियों में एलईडी हेडलैंप्स लगे होते हैं. इनकी रोशनी बहुत तेज होती है. कार में एक सुविधा है जिसे लो बीम कहा जाता है. ये आपको रास्ता दिखाएगी, साथ ही सामने वाले की आंखें भी नहीं चौंधियाएंगी. इसका इस्तेमाल करें! आपको कार के सभी लाइट जलाने की भी जरूरत नहीं है.

अफसोस, इसके लिए कोई जुर्माना नहीं है.

ये भी पढ़ें : नया मोटर व्हीकल बिल: क्या यह भारतीय सड़कों को सुरक्षित बनाएगा?

2. लेन ड्राइविंग

सफेद लाइन्स जो आप सड़कों पर देखते हैं, वो सजावट के लिए नहीं हैं. अपनी लेन में ही चलिए और अगर आपको लेन बदलनी है तो इंडिकेटर का उपयोग करें. आपकी गाड़ी में लेन-चेंज इंडिकेटर की सुविधा भी है. हालांकि अब तक, लेन के लिए कोई सख्त नियम नहीं है.

3. अपने रियर-व्यू मिरर का उपयोग करें

आपने इसके लिए पैसे दिए हैं चाहे वो पावर-फोल्डिंग हो या मैन्युअल एडजस्टेबल हो, उनका उपयोग करें. बंद साइड मिरर के साथ ड्राइविंग के लिए कड़े कानून होने चाहिए. असल में, मोटर वाहन नियमों में साइड मिरर का जिक्र है. बस इसे सख्ती से लागू करने की जरूरत है.

4. टेलगेटिंग

टेलगेटिंग का क्या मतलब है?
इसका मतलब है कि आप अपने आगे की कार से दूरी बनाए रखें. कम से कम एक कार की लंबाई जितनी दूरी.

यहां समस्या ये है कि अगर कोई ये दूरी बनाता है तो बीच में ऑटोरिक्शा घुस जाता है. इस पर भी कुछ करने की जरूरत है.

5. पैदल चलने वालों को रास्ता दें

जब आप अपने ड्राइविंग लाइसेंस के लिए आवेदन करने जाते हैं, तो वो आपको बताते हैं कि रास्ता क्रॉस करना पैदल चलने वाला का अधिकार है, खासकर जेबरा क्रॉसिंग पर. विदेशों में जाकर देखिए, क्या होता है. पैदल चलने वालों के लिए गाड़ियां थम जाती हैं. अपने देश में, ये एक सुसाइड मिशन है!

इस तरह की कई और समस्याएं हैं. मोटर वाहन एक्ट के नए नियमों के साथ ही क्या हम इन चीजों के लिए कानून ला सकते हैं?

गाड़ी चलाने के तरीके को बदलें. सुरक्षित ड्राइव करें. बेल्ट लगाएं और ड्राइव करें, हेलमेट पहनें और चलें.

क्या आप बदल सकते हैं?

ये भी पढ़ें : रेनॉ ट्राइबर MPV हुई लॉन्च, क्या मारुति अर्टिगा को ‘खतरा’ है? 

ये भी पढ़ें : भारत के लिए AI पर काम कर रही हुवावेई, 5G सर्विस  पर चुप्पी

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram और WhatsApp चैनल से जुड़े रहिए यहां)

Follow our टेक और ऑटो section for more stories.

टेक और ऑटो
    Loading...