जिनोम एडिटिंग का नया तरीका ढूंढने पर दिया गया केमेस्ट्री का नोबेल

केमिस्ट्री में बेहतरीन योगदान के लिए इस साल के नोबेल प्राइज का ऐलान हो चुका है.

Updated
साइंस
1 min read
जिनोम एडिटिंग का नया तरीका ढूंढने पर दिया गया केमेस्ट्री का नोबेल

केमिस्ट्री में बेहतरीन योगदान के लिए इस साल के नोबेल प्राइज का ऐलान हो चुका है. ये प्राइज Emmanuelle Charpentier और Jennifer A. Doudna को संयुक्त तौर पर जिनोम एडिटिंग का नया तरीका ढूंढने के लिए दी गई हैं. प्राइज से जुड़ी एक प्रेस रिलीज में बताया गया है कि दोनों ने एक ऐसे टूल को डेवलप किया है जिसके जरिए जानवरों, पौधों और माइक्रो-ऑर्गेनिज्म के DNA में बेहद सटीक तरीके से बदलाव हो सकते हैं. इस टेक्नोलॉजी ने लाइफ साइंसेस पर बड़ा प्रभाव डाला है और कैंसर जैसी बीमारियों के इलाज, अनुवांशिक बीमारियों के इलाज में इससे काफी मदद मिल रही है.

साल 1968 में फ्रांस में पैदा हुई Emmanuelle Charpentier ने फ्रांस के ही एक कॉलेज से साल 1995 में पीएचडी की थी. फिलहाल, बर्लिन के मैक्स प्लॉक यूनिट ऑफ साइंस ऑफ पैथोजेंस में डायरेक्टर हैं. साल 1964 में अमेरिका में पैदा हुई Jennifer A. Doudna ने साल 1989 में हार्वर्ड मेडिकल स्कूल, बोस्टन से पीएचडी की थी. फिलहाल, यूनिवर्सिटी ऑफ कैलिफॉर्निया में प्रोफेसर हैं.

कोरोनावायरस से जारी जंग के बीच तमाम अपडेट्स और जानकारी के क्लिक कीजिए यहां

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram और WhatsApp चैनल से जुड़े रहिए यहां)

Published: 
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!