Truecaller यूजर्स सावधान! अपने आप हो रहे हैं UPI के लिए रजिस्टर

NCPI ने ट्रू कॉलर को एक्शन की चेतावनी दी

Updated30 Jul 2019, 02:52 PM IST
टेक्नोलॉजी
2 min read

Truecaller ऐप का इस्तेमाल यूजर्स स्पैम कॉल से बचने के लिए करते हैं, साथ ही अंजान कॉल का पता लगाने के लिए भी इस ऐपा का इस्तेमाल किया जाता है. लेकिन 30 जुलाई को इस ऐप के साथ एक अजीब बात हुई. ऐप के नए अपडेट में यूजर को आईसीआईसीआई बैंक के यूपीआई अकाउंट से लिंक करने लगा वो भी उनकी मर्जी के बगैर. ये बग ऐप के 10.41.6 अपडेट वर्जन के साथ आ रहा है. इस बग से यूजर के फाइनेंशियल डेटा को खतरा बताया जा रहा है.

भारत में Truecaller पेमेंट सर्विस का आईसीआईसीआई बैंक के साथ पार्टनरशिप है जो इसके लिए यूपीआई सर्विस की सुविधा मुहैया कराता है.

ये उन लोगों की प्राइवेसी पर खतरा है जिनका आईसीआईसीआई बैंक में खाता नहीं है और वो रजिस्टर हो रहे हैं. वो भी उनकी मर्जी के बगैर.  

यूपीआई ने भारत में गूगल, अमेजन और पेटीएम के साथ डिजिटल पेमेंट को बढ़ावा देने में बहुत बड़ा रोल निभाया है.

Truecaller ने जारी किया नया अपडेट अब लोग कर सकेंगे खुद को डी-रजिस्टर

Truecaller ने इस प्रॉब्लम के बाद नया अपडेट जारी किया और लोगों को खुद से डी-रजिस्टर करने के लिए कहा. क्विंट से बात करते हुए Truecaller के अधिकारी ने बताया, ‘‘हमने इस बग का पता लगाया है जो लोगों के पेमेंट फीचर को असर कर रहा था जो कि ऐप के अपडेट होने के बाद अपने आप ही लिंक कर रहा था.’

Truecaller ने दावा किया है कि अपडेट के बाद जो लोग रजिस्टर हो गए थे वो खत्म हो जाएगा. इस बग की ओर तब ध्यान गया जब एक यूजर ने ट्वीट कर के इस बारे में बताया.

यूपीआई गाइडलाइन्स के मुताबिक डिजिटल पेमेंट की सुविधा देने वाली कंपनियां यूजर की मर्जी के बगैर कोई अकाउंट नहीं बना सकती. Truecaller को भी आगे के लिए सावधानी बरतनी होगी.

बग पर कार्रवाई नहीं की तो एक्शन: NCPI

नेशनल पेमेंट कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया ने इस मामले का संज्ञान लिया है और कहा है कि अगर कंपनी इस बग को ठीक नहीं करती है तो उसके खिलाफ एक्शन लिया जाएगा.

‘‘हमें पता चला कि ऐप में कुछ बग आ गया है. हमारा मानना है कि ये ठीक कर लिया गया है और तब तक के लिए जो यूजर्स इस ऐप पर आ रहे हैं उनके लिए रोक दिया गया है. NCPI इस बात को सुनिश्चित करता है कि अगर ये ठीक नहीं किया गया तो एक्शन लिया जाएगा.’’
दिलीप अस्बे (सीईओ और मैनेजिंग डायरेक्टर, NCPI)

Truecaller ने गड़बड़ी के बारे में कहा है कि यूजर के डेटा को किसी भी थर्ड पार्टी को नहीं बेचा गया है. Truecaller पे मेन ऐप से ही जुड़ा हुआ है. डेटा के मुताबिक हर 10 में से 1 यूजर ने Truecaller पे का इस्तेमाल करते हैं तो इससे कई सारे यूजर को डेटा को खतरा हो सकता है.

कोरोनावायरस से जारी जंग के बीच तमाम अपडेट्स और जानकारी के क्लिक कीजिए यहां

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram और WhatsApp चैनल से जुड़े रहिए यहां)

Published: 30 Jul 2019, 02:39 PM IST

क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!