बंगाल में करारी हार-क्यों न चला BJP का सबसे बड़ा हथियार?

पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों का पूरा एनालिसिस 

Published

आखिरकार 2 मई को पांच राज्यों के चुनाव नतीजे सामने आए. इसमें सबसे बड़ी खबर पश्चिम बंगाल में ममता बनर्जी की प्रचंड जीत है. इस जनादेश के पीछे बहुत बड़ी बातें छुपी हुई हैं. ममता बनर्जी को हराने में बीजेपी ने अपनी पूरी ताकत लगा दी थी. ये देश की राजनीति में एक नया टर्निंग प्वाइंट है.

बीजेपी को क्यों नहीं मिली कामयाबी?

बीजेपी को लगता था कि बंगाल उनके लिए ध्रुवीकरण की बड़ी प्रयोगशाला हो सकती है. बंगाल में करीब 25% मुस्लिम आबादी है. वंदे मातरम, भारत माता और हिंदुत्व जैसे शब्द यहां गढ़े जाने की वजह से बीजेपी और संघ के लिए ये वैसे ही काफी महत्वपूर्ण था. लेकिन यहां ध्रुवीकरण की राजनीति नहीं चली.

बंगाल में करारी हार-क्यों न चला BJP का सबसे बड़ा हथियार?
(ग्राफिक्स: क्विंट हिंदी)

एससी और दूसरी जातियों को अपनी तरफ करने का बीजेपी का प्लान भी कामयाब नहीं हुआ. विवेकानंद, सुभाष चंद्र बोस, रविंद्रनाथ टैगोर की ब्रांडिंग को अपनाने का भी बीजेपी का इरादा कामयाब नहीं हुआ.

टीएमसी के पक्ष में क्या-क्या?

टीएमसी को सिर्फ मुस्लिम वोट ही नहीं मिले, बल्कि हिंदू वोट भी मिले. इसके अलावा महिलाओं के वोट भी उन्हें काफी संख्या में मिले. शहरी इलाकों में भी बीजेपी के मुकाबले टीएमसी को लोगों ने प्राथमिकता दी.

असम चुनाव में बीजेपी ने बचाई अपनी सत्ता

असम में कांग्रेस, बीजेपी के सामने फिर लेट से मैदान में उतरी. टिकटों के बंटवारे में भी गलती हुई. जिसकी वजह से बीजेपी को फिर से वापसी का मौका मिला. परफॉर्मेंस और लोकल चेहरे की वजह से बीजेपी यहां मजबूती से बनी हुई है.

बंगाल में करारी हार-क्यों न चला BJP का सबसे बड़ा हथियार?
(ग्राफिक्स: क्विंट हिंदी)

तमिलनाडु में भी द्रविड़ पार्टियों के सामने नॉन द्रविड़ पार्टी के रूप में घुसपैठ की कोशिश की, लेकिन वो कामयाब नहीं हो पाई. स्टालिन लंबे करियर के बाद मुख्यमंत्री बनेंगे. लेकिन पलानीस्वामी ने भी अच्छी खासी टक्कर दी है.

बंगाल में करारी हार-क्यों न चला BJP का सबसे बड़ा हथियार?
(ग्राफिक्स: क्विंट हिंदी)

इस चुनाव में प्रमुख तौर पर जो बातें सामने आईं हैं, वो ये कि बीजेपी के सामने क्षेत्रीय पार्टियां मजबूती से खड़ी हैं. लेकिन अगर कांग्रेस की बात करें तो वो उस तरह की भूमिका नहीं निभा पा रही है.

यहां एक बड़ा सवाल है कि बीजेपी के सामने ममता ने जिस तरीके की जीत हासिल की है क्या वो विपक्ष की धुरी बन पाएंगी? एनडीए के साथ जाकर नीतीश कुमार ने वो मौका खो दिया था.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!