ADVERTISEMENT

गंगा की लहरों पर उस्ताद बिस्मिल्लाह खां की यादों का सफर  

बिस्मिल्लाह खान की दत्तक बेटी ने पुण्यतिथि पर बांटी बाबा की यादें

Updated

उनके कंठ में कुछ ऐसा था जिससे निकली सांसें जब शहनाई से छू जाती थीं तो मानो वक्त कहीं ठहर जाता हो. अगर दुनिया में किसी एक वाद्य को सिर्फ एक शख्स से जोड़ दिया जाए तो शहनाई, उस्ताद बिस्मिल्लाह खां के नाम ही रहेगी.

बिस्मिल्लाह खां का जन्म बिहार के डुमरांव में 21 मार्च 1916 को पैगम्बर खान और मिट्ठन बाई के यहां हुआ था. उनके बचपन का नाम कमरुद्दीन था. कहा जाता है कि चूंकि उनके बड़े भाई का नाम शम्सुद्दीन था, इसलिए उनके दादा रसूल बख्श ने उन्‍हें 'बिस्मिल्लाह' नाम से पुकारा और ताउम्र यही नाम उनके साथ रहा. 21 अगस्त, 2006 को संगीत की विरासत छोड़ कर उस्ताद सुरों की अनंत यात्रा पर चल दिए.

उस्ताद की दत्तक बेटी और गायिका सोमा घोष ने क्विंट से अपने पिता की यादें साझा कीं. उसी गंगा की लहरों पर जो आधी सदी से ज्यादा तक बिस्मिल्लाह खान की सुर लहरियों से ताल मिलाती रही.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENT
Published: 
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT