ADVERTISEMENT

रोहिंग्या का दर्द: “हम चोर तो नहीं फिर क्यों ले जाती है पुलिस?”

15 दिनों के अंदर, कम से कम 10 रोहिंग्या शरणार्थियों को दिल्ली के कंचन कुंज शिविर से पुलिस उठाकर ले गई

Published

15 दिनों के अंदर, कम से कम 10 रोहिंग्या शरणार्थियों को दिल्ली के कंचन कुंज शिविर से पुलिस उठाकर ले गई. पुलिस का दावा है कि उनके पास दस्तावेज नहीं थे और
उन्हें FRROs* के पास भेज दिया गया है.

ADVERTISEMENT

दिल्ली के कंचन कुंज में रिफ्यूजी कॉलोनी के निवासियों के अनुसार, एक परिवार से चार लोगों को पुलिस ने बुधवार 31 मार्च की सुबह उठाया, वहीं दूसरे परिवार के छह लोगों को लगभग 10 दिन पहले ले जाया गया था.

यहां करीब 30 परिवार और 300 व्यक्ति रहते हैं, उनका आरोप है कि जब पुलिस कर्मियों से पूछा गया कि वो उन्हें इस तरह से क्यों ले जा रहे हैं तो उनका कहना था कि उनके पास “ऊपर से आदेश” हैं.

दक्षिण पूर्वी दिल्ली के पुलिस उपायुक्त आरपी मीणा ने कहा, "उनके पास दस्तावेज नहीं थे, इसलिए उन्हें फॉरेनर्स रीजनल रजिस्ट्रेशन ऑफिसर्स के पास भेजा गया"

ADVERTISEMENT

कंजन कुंज के निवासी कबीर का कहना है कि हमारा कसूर क्या है? वे हमें बिना किसी कारण के उठा रहे हैं. उन्होंने साथ ही कहा कि अगर उठाए जा रहे लोग चोर होते या आपराधिक घटना में शामिल होते, तो उन्हें उठाया जाना सही था.

बशीर अहमद कहते हैं कि मैंने उनसे कहा कि हमें म्यांमार में उसी तरह सताया जाता है जैसे हम यहां परेशान हो रहे हैं. वहां भी, वे सभी परिवार के सदस्यों को ले जाते हैं और उनके साथ मारपीट करते हैं.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT