राजपथ। एग्रीकल्चर सेक्टर में काम तो हुआ, पर अब भी रह गई कमी: गडकरी

राजपथ। एग्रीकल्चर सेक्टर में काम तो हुआ, पर अब भी रह गई कमी: गडकरी

फीचर

मोदी सरकार के कद्दावर मंत्री नितिन गडकरी उन नेताओं में से एक हैं, जो किसी भी विरोधी पार्टी को अपना दुश्मन नहीं, बल्‍कि प्रतिद्वंद्वी मानते हैं. बिना लाग-लपेट के हर मुद्दे पर बात करने वाले नितिन गडकरी से क्विंट के एडिटोरियल डायरेक्टर संजय पुगलिया ने बातचीत की.

क्विंट के खास कार्यक्रम 'राजपथ' में नितिन गडकरी ने राष्ट्रीय सुरक्षा, कृषि संकट, 2019 चुनाव के लिए बीजेपी की रणनीति जैसे कई मुद्दों पर अपनी बेबाक राय रखी. एग्रीकल्चर सेक्टर में चल रहे संकट पर गडकरी कहते हैं कि ये दावा नहीं किया जा सकता कि सभी समस्याओं का समाधान हो गया है. साथ ही ये भी नहीं कहा जा सकता कि किसान 100% संतुष्ट हैं.

‘गरीबी, भुखमरी और बेरोजगारी दूर करना सबसे जरूरी मुद्दे’

2019 चुनाव में सबसे बड़े मुद्दे पर जब उनसे सवाल पूछा गया, तो गडकरी कहते हैं कि गरीबी, भुखमरी और बेरोजगारी को दूर करना ही देश और पार्टी के लिए सबसे जरूरी मुद्दे हैं.

कई दशकों तक कांग्रेस का राज रहा, लेकिन आर्थिक क्षेत्र के लिए कांग्रेस की नीतियां नाकाम रहीं. आज देश ऐसी इकनॉमिक सोच को पसंद करता है, जो रोजगार निर्माण करेगी और बेरोजगारी दूर करेगी. मेरा विश्वास है कि इन पांच साल में हमने जो-जो काम किए हैं, गरीब-मजदूर-किसान के लिए, उसके अच्छे परिणाम मिले हैं.
नितिन गडकरी, केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री   

'राष्ट्रीय सुरक्षा के मुद्दे पर राजनीति मत कीजिए'

राष्ट्रीय सुरक्षा के सवाल पर गडकरी कहते हैं कि ये भी मुद्दा सर्वोपरि है. वो कहते हैं कि आजतक हमारी सरकारें हिम्मत नहीं दिखाती थीं, लेकिन इस सरकार ने ऐसी हिम्मत दिखाई है. गडकरी ये भी साफ-साफ कहते हैं कि इस मुद्दे पर राजनीति नहीं होनी चाहिए.

पाकिस्तान जिस तरह बात करता है, हमें वैसे बात नहीं करनी चाहिए. किसी भी पार्टी को ऐसे बात नहीं करनी चाहिए. इस मुद्दे पर राजनीति नहीं होनी चाहिए.
नितिन गडकरी, केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री  

पाकिस्तान पर गडकरी सख्त नजर आए. उनका कहना है कि अगर पाकिस्तान की तरफ से आतंक को पनाह देना बंद नहीं हुआ, तो भारत फिर ऐसा ही जवाब देगा.

हमने पाकिस्तान को भी एक तरह से कह दिया है कि हम शांतिप्रिय देश हैं. लेकिन शांति वही स्थापित कर सकता है, जो सबल है. दुर्बल कितना भी शांति पर प्रवचन दे, इसका कोई फायदा भी नहीं है. अगर पाकिस्तान ऐसे प्रयास फिर करेगा, तो भारत फिर वैसा ही जवाब देगी, जैसा हमने पहले दिया है.
नितिन गडकरी, केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री  

'कृषि संकट अब भी पूरी तरह दूर नहीं'

कृषि संकट और किसानों से जुड़े मुद्दे को नितिन गडकरी बेहद गंभीर और बड़ा बताते हुए कहते हैं कि सरकार ने काफी काम किया है. लेकिन सारी समस्याओं का समाधान अब हो गया है, ऐसा नहीं कहा जा सकता है.

ये भी देखें: भारत-पाकिस्‍तान की लड़ाई के बीच सुपरपावर चीन के रवैये पर गौर कीजिए

(हैलो दोस्तों! WhatsApp पर हमारी न्यूज सर्विस जारी रहेगी. तब तक, आप हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

Follow our फीचर section for more stories.

फीचर

वीडियो