ADVERTISEMENT

भारत-पाक विभाजन ने किया अलग, 74 साल बाद 2022 में मिले दो भाई, हुआ भावुक मिलन

दोनों भाई करतारपुर कॉरिडोर पर एक साथ मिले तो उनके साथ दोनों देश की जनता की आंखें भी भर आईं

Updated
ADVERTISEMENT

74 वर्षों तक, दो मुल्कों के बीच मौजूद सीमा के दोनों पार रह रहे दो भाइयों को एक-दूसरे के ठिकाने के बारे में पता नहीं था या यह भी नहीं कि दूसरा अब तक जिंदा है भी या नहीं. विभाजन की त्रासदी के दौरान अलग हो गए और उन्होंने फिर से एक होने की उम्मीद खो दी थी. लेकिन जब दोनों भाई दोनों देशों को जोड़ने वाले करतारपुर कॉरिडोर पर एक साथ मिले तो उनके साथ दोनों देश की जनता की आंखें भी भर आई.

भरी आंखों के साथ बिछड़े भाइयों के फिर से मिलने का एक वीडियो, जिसमें दोनों एक-दूसरे को गले लगाते दिख रहे हैं, अब वायरल हो गया है. करतारपुर कॉरिडोर में दोनों भाइयों की यह भावनात्मक मुलाकात कुछ ही घंटे चली और फिर दोनों दो मुल्कों में मौजूद अपने-अपने घर लौट गयें.

दोनों भाइयों में बड़े सद्दीक खान, बंटवारे के वक्त आठ या नौ साल के थे और वर्तमान में पाकिस्तान के बोगरान गांव (फैसलाबाद के पास) में रहते हैं.

दूसरी तरफ भाइयों के बिछड़ने के समय दूसरे भाई शीका खान नवजात बच्चे थे और अब पंजाब के बठिंडा के गांव फुलेवाला में रहते हैं. खास बात है कि बड़े भाई सद्दीक खान से पुनर्मिलन के बाद ही सिका खान को पता चला कि उनकों दिया गया नाम वास्तव में हबीब खान था.

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार सिका खान ने कहा है कि "कृपया मुझे वीजा दें. मैं जल्द से जल्द अपने भाई के पास जाना चाहता हूं."

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

Published: 
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT