ADVERTISEMENT

वाजपेयी-आडवाणी और मोदी शाह के दृष्टिकोण में कितना अंतर?

लेखक विनय सीतापति की नई किताब ‘जुगलबंदी’ में वाजपेयी-आयवाणी युग की बात की गई है.

Published
ADVERTISEMENT

वीडियो एडिटर: आशुतोष भारद्वाज

एक सवाल जो 2014 से लगातार चर्चा में है, वो ये कि क्या मोदी-शाह की जोड़ी भाजपा को इस दिशा में आगे बढ़ा रही है जिसकी अटल बिहारी वाजपेयी और लालकृष्ण आडवाणी ने कल्पना की थी? आज की राजनीति में भी इतना नेहरू का ज़िक्र क्यों होता है? इन्हीं सवालों का जवाब दे रहे हैं लेखक विनय सीतापति. जिनकी नई किताब 'जुगलबंदी' में आडवाणी और वाजपेयी के दौर की बात है.

ADVERTISEMENT

मोदी-शाह से आडवाणी-वाजपेयी का दृष्टिकोण कितना अलग था?

मोदी और शाह को समझने के लिए 100 सालों का इतिहास समझना पड़ेगा. आडवाणी ने असम एनआरसी के बारे में 1980 में ही बात की थी. वाजपेयी ने भी अपने भाषणों में इसका ज़िक्र किया था. भारत की नई सोच और राजनीति बनाने में सौ साल लगे हैं.

आडवाणी-वाजपेयी का हिंदुत्व कितना अलग था?

वाजपेयी संसद में स्वीकार्य थे. छोटी पार्टियां जो कांग्रेस या बीजेपी के साथ नहीं हैं, वो आडवाणी के साथ कभी नहीं जाते. लेकिन वो वाजपेयी को मानते थे. वो मानते थे कि सही इंसान गलत पार्टी में है. उनकी जुगलबंदी को हम इस तरह से देख सकते हैं कि एक मॉडरेट था और एक हार्डलाइनर. बीजेपी और आरएसएस को पता था कि उन्हें एक पार्लियमेंट्री फ़ेस की ज़रूरत है, इसलिए उन्होंने वाजपेयी को आगे बढ़ाया. वहीं वाजपेयी को भी पता था कि उन्हें एक हार्डलाइनर दोस्त की ज़रूरत है.

ADVERTISEMENT

बीजेपी बार-बार नेहरू की बात क्यों करती है?

नरेंद्र मोदी इंदिरा गांधी का मज़ाक़ कभी नहीं उड़ाते हैं. वो उनको रोल मॉडल समझते हैं. लेकिन वो नेहरू का मज़ाक़ बार-बार उड़ाते हैं. पटेल और नेहरू की बड़ी दोस्ती थी. आरएसएस को लेकर उनके मन में द्वंद्व था. आरएसएस और जनसंघ ने देखा कि पटेल की मौत के बाद 17 सालो तक नेहरू कांग्रेस थे और कांग्रेस नेहरू थी और नेहरू भारत थे. आज भी वो इस सोच में पड़े हुए हैं कि काश नेहरू न होते तो मोदी जैसा प्रधानमंत्री भारत को वो कब का दे चुके होते.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENT
Speaking truth to power requires allies like you.
Q-इनसाइडर बनें
450

500 10% off

1500

1800 16% off

4000

5000 20% off

प्रीमियम

3 माह
12 माह
12 माह
Check Insider Benefits
अधिक पढ़ें
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT
और खबरें
×
×