हरियाणा: ‘बेटी बचाओ’ वाले राज्य में ‘बेटी पंचायत’ नाराज

हरियाणा: ‘बेटी बचाओ’ वाले राज्य में ‘बेटी पंचायत’ नाराज

वीडियो

वीडियो एडिटर: मो इब्राहिम

Loading...

हरियाणा के हिसार जिले का गांव भिवानी रोहिला साल 2016 में सुर्खियों में छाया रहा. वजह थी कि महिलाओं को घूंघट और चौखट के भीतर रखने वाले समाज ने एक मिसाल कायम की. भिवानी रोहिला गांव ने सबकी सहमति से पूरी की पूरी पंचायत महिलाओं की बनवा दी. ये हरियाणा की पहली पंचायत है, जहां सरपंच और सभी 12 पंच महिलाएं हैं.

इस खास ‘बेटी पंचायत’ पढ़ी-लिखी है और गांव को लीड कर रही है.

लोकसभा चुनावों का इतिहास देखें तो देश की सबसे बड़ी पंचायत संसद में हरियाणा से अबतक सिर्फ 5 महिलाएं ही पहुंची हैं. ऐसे में ये गांव एक अच्छा उदाहरण पेश करती है.

ये भी पढ़ें : हरियाणा:PM मोदी से क्यों नाराज हैं पूर्व आर्मी चीफ के गांव के फौजी

लेकिन चुनावी यात्रा के दौरान जब क्विंट की टीम इस गांव में पहुंची तो इस गांव की चमक धुंधली दिखाई पड़ी.

सरपंच का कहना है कि गांव को जरूरत के मुताबिक ग्रांट न मिलने से कई विकास के काम रुके हुए हैं. आदर्श ग्राम होने के बावजूद गांव में गंदगी का अंबार है. पीने के लिए साफ पानी की भी किल्लत है.

हिसार से मौजूदा सांसद दुष्यंत चौटाला ने सांसद आदर्श गांव योजना के तहत इस गांव को गोद लिया था.

छठे चरण में हरियाणा में चुनाव

लोकसभा चुनाव 2019 के छठे चरण यानी 12 मई को हरियाणा की 10 सीटों पर वोट डाले जाएंगे.

बात करें हिसार सीट की तो यहां से जेजेपी के प्रत्याशी मौजूदा सांसद दुष्यंत चौटाला, बीजेपी के बृजेन्द्र सिंह और कांग्रेस के भव्य विश्नोई चुनावी रण में उतरे हैं.

ये भी पढ़ें : सोनीपत: ‘जाटलैंड’ के वोटों की चाबी से किसकी खुलेगी किस्मत?

(हैलो दोस्तों! WhatsApp पर हमारी न्यूज सर्विस जारी रहेगी. तब तक, आप हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

Follow our वीडियो section for more stories.

वीडियो

वीडियो

Loading...