एंटीलिया के पास क्या सचिन वझे ने रखे विस्फोटक?वीडियो से खुलेगा राज

एनआईए की टीम के साथ पुणे की फोरेंसिक टीम भी घटनास्थल पर मौजूद थी.

Published

क्या अंबानी के घर एंटीलिया के पास विस्फोटकों से भरी स्कॉर्पियो इंस्पेक्टर सचिन वझे ने पार्क की? इस सवाल का जवाब अब एक वीडियो की जांच पर टिका है.

19 मार्च की रात 11 बजे NIA की टीम एंटीलिया के पास पहुंची. मुंबई का कारमाइकल रोड, जहां लता मंगेशकर से लेकर आरबीआई गवर्नर तक रहते हैं, ये हाई प्रोफाइल एरिया क्राइम सिन रिक्रिएशन का लोकेशन बन गया. पूरे इलाके को सील कर दिया गया है.

फोरेंसिक टीम ने उस जगह पर मार्किंग की जहां सीसीटीवी फुटेज में संदिग्ध शख्स चलता दिख रहा था. उसके बाद कैमरे ऐसी जगह फिट करवाए जहां से सीसीटीवी वाला एंगल मिल सके. खास सीसीटीवी रिजोल्यूशन के कैमरों का इस्तेमाल किया गया. सचिन वझे ने न जाने कितने मामलों में क्राइम सीन को रिक्रिएट करवाया होगा. आज वो निर्देश दे नहीं रहे थे, ले रहे थे. वझे को पहले उन्हीं के पहनावे में यानी नॉर्मल शर्ट पैंट में चलवाया गया. उसके बाद कुर्ता और सिर पर स्कार्फ बांधा गया. और फिर से दो से तीन बार उसी मार्किंग पर चलने को कहा गया. ये पूरा रिक्रिएशन तकरीबन घन्टा भर चला. 

इस फुटेज का मिलान फॉरेंसिक टीम 25 फरवरी की सीसीटीवी फुटेज से करेगी, जिसमें दिख रहा है कि मुकेश अंबानी के घर एंटीलिया के बाहर स्कॉर्पियो पार्क की गई, जिसमें जिलेटिन की छड़ें रखी हुई थीं. स्कॉर्पियो से निकल कर एक शख्स पीपीई किट नुमा ड्रेस में चलता दिखा था. चाल ढाल देख NIA को लगता है कि ये सचिन वझे ही है लेकिन लगने से कोर्ट में काम नहीं चलेगा, साइंटिफिक सपोर्ट चाहिए.

उसी साइंटिफिक प्रूफ को जुटाने के लिए दाईं ओर का वीडियो क्रिएट किया गया है. इस फुटेज को पुणे के फॉरेंसिक लैब में भेजा जाएगा. जहां फ्रेम बाई फ्रेम एनालिसिस होगी,डिजिटल मैपिंग होगी और फिर किसी नतीजे पर पहुंचा जाएगा. इस बीच सचिन वझे पर शिकंजा कसता जा रहा है. NIA ने अब मनसुख हिरेन की मौत का मामला भी अपने अंडर ले लिया है. ATS ने भी कोर्ट में कहा है कि उसे मनसुख के मर्डर में वझे का हाथ होने का शक है.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!