ADVERTISEMENTREMOVE AD

हत्या का डर-काफिले से हादसा,प्रयागराज पहुंचने के दौरान अतीक अहमद के साथ क्या हुआ

Atique Ahmed Shifting: अतीक के भाई अशरफ को बरेली से प्रयागराज लाया जा रहा है.

Published
छोटा
मध्यम
बड़ा

पूर्व सांसद और बाहुबली नेता अतीक अहमद (Atique Ahmed) को गुजरात की साबरमती जेल से उत्तर प्रदेश के प्रयागराज लाया जा रहा है. मध्य प्रदेश के रास्ते अतीक की उत्तर प्रदेश सीमा में एंट्री हो गई है. जालौन से पुलिस काफिला आगे बढ़ चुका है. माना जा रहा है कि सोमवार शाम तक अतीक अहमद को पुलिस प्रयागराज लेकर पहुंच जाएगी. वहीं अतीक के भाई अशरफ को बरेली से प्रयागराज लाया जा रहा है.

ADVERTISEMENTREMOVE AD

अतीक बोला- काहे का डर

अतीक को लेकर आ रहा पुलिस का काफिला गुजरात से राजस्थान होते हुए सोमवार सुबह एमपी बॉर्डर में दाखिल हुआ था और फिर उत्तर प्रदेश.

मध्य प्रदेश के शिवपुरी में सोमवार सुबह जब पुलिस का काफिला थोड़ा देर के लिए रोका गया तब इस दौरान अतीक फ्रेश होने पुलिस वाहन से उतरा. तब पत्रकारों ने अतीक अहमद से पूछा कि ‘डर लग रहा है क्या?’ तो अतीक ने जवाब में कहा- ‘काहे का डर?’

बहन ने एनकाउंटर की आशंका जताई

अतीक अहमद की बहन आयशा नूरी ने एनकाउंटर की आशंका जताई है. अतीक की बहन अपने भाई की सुरक्षा को देखते हुए पुलिस के काफिले के साथ-साथ दूसरी गाड़ी में चल रही हैं. मीडिया से बातचीत में उन्होंने कहा कि, मुख्यमंत्री का विधानसभा में जो बयान आया था उसकी वजह से मुझे डर है. वहीं अतीक अहमद को अपराधी कहे जाने पर उन्होंने कहा कि पांच बार के विधायक और एक बार के एमपी को अपराधी नहीं कह सकते, अभी मामला कोर्ट में चल रहा है.

भाभी और भीतीजे के सरेंडर के सवाल पर उन्होंने कहा कि इस बारे में मुझे नहीं पता.

पलटने से बची अतीक की गाड़ी, पुलिस के काफिले से टकराया जानवर

जब पुलिस मध्य प्रदेश से उत्तर प्रदेश बॉर्डर के पास लेकर पहुंची तो रास्ते में अचानक एक जानवर उसी गाड़ी से टकरा गया जिसमें अतीक बैठा था. जानवर के टकराते ही पुलिस का काफिला अचानक से रूक गया. इसके बाद ड्राइवर ने फौरन ब्रेक लगाया. इस पूरी घटना के एक वीडियो भी सामने आया है.

अतीक के साथ पुलिस के काफिले में 6 गाड़ियां हैं, जिसमें 2 वज्र वाहन भी शामिल हैं. काफिले में 45 पुलिसकर्मी हैं, जिसका नेतृत्व डीसीपी रैंक के अधिकारी कर रहे हैं. बता दें कि 28 मार्च की सुबह 11 बजे प्रयागराज के एमपी एमलएल कोर्ट में अतीक की पेशी है.

'गाड़ी पलटने' को लेकर क्या बोले उप मुख्यमंत्री

वहीं सूबे के उप-मुख्यमंत्री ब्रजेश पाठक ने कहा कि हम कानून का पालन कर रहे हैं. न्यायपालिका के सामने हम अतीक को पेश करेंगे. कोर्ट का जो आदेश होगा, उसका पूरा पालन किया जाएगा. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि,

"अनहोनी की बात नहीं है, हम लोग कानून का पालन करने वाले लोग हैं और इस मामले में भी कानून का पालन होगा. अदालत के भीतर हम लोग पूरी ताकत के साथ पक्ष रखेंगे. गुंडे, अपराधियों पर जो हमारी कार्रवाई है, वह जारी रहेगी."

इससे पहले अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) के बयान पर डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य ने कहा कि, "उन्हें अतीक-अशरफ का बचाव अथवा मदद करनी है तो कोर्ट में करें, बार-बार पुलिस को धमकी न दें!"

रविवार को अखिलेश यादव ने कहा था कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अपने मंत्रियों को अतीक अहमद की गाड़ी पलटने के बारे में बता दिया होगा.

अतीक को कड़ी से कड़ी सजा दी जाए- जया पाल

अतीक अहमद को लेकर उमेश पाल की पत्नी जया पाल का भी बयान सामने आया है. उन्होंने सरकार से अतीक को कड़ी से कड़ी सजा देने की मांग की है. उन्होंने कहा कि,

"अतीक अहमद से भी उसके जीने का हक छीन लिया जाए. जब तक वह जीवित रहेगा तब तक कोई ना कोई उमेश पाल खत्म होता रहेगा. इसलिए उसका खात्मा जरूरी है,"

इसके साथ ही उन्होंने कहा कि जिस तरह से उमेश पाल को मारा है उसकी भी ऐसी हालत हो, उसका भी परिवार बिखर जाए.

आतीक को क्यों प्रयागराज लाया जा रहा है?

2006 उमेश पाल अपहरण कांड का ट्रायल खत्म हो चुका है और मंगलवार, 28 मार्च को कोर्ट फैसला सुनाएगी. इसी मामले में अतीक और उसके भाई को प्रयागराज लाया जा रहा है. 16 साल बाद इस मामले में फैसला आएगा.

बता दें कि, 24 फरवरी को कोर्ट से लौटते समय उमेश पाल की दिनदहाड़े गोली मारकर हत्या कर दी गई थी. इस हत्याकांड का आरोप भी अतीक अहमद और उसके परिवार पर लगा है.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

0
सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
अधिक पढ़ें
ADVERTISEMENT
×
×