ADVERTISEMENT

मैं नहीं मानता हिंदुओं ने मुझे मारा, मारने वाले तो दरिंदे थे-जुबैर

दिल्ली के नॉर्थ-ईस्ट इलाके में 24-25 फरवरी को भड़की थी हिंसा

ADVERTISEMENT

वीडियो एडिटर: संदीप सुमन

दिल्ली के नॉर्थ-ईस्ट इलाके में भड़की हिंसा के पीड़ितों में 37 साल के मोहम्मद जुबैर भी हैं. जुबैर जब ईदगाह से लौट रहे थे, तब भीड़ ने उन पर हमला किया था. जुबैर की एक फोटो भी वायरल हुई थी, जिसमें कई लोग डंडों से उन्हें बेरहमी से मारते दिख रहे थे.

मोहम्मद जुबैर ने क्विंट हिंदी को बताया कि वो ईदगाह की दुआ से बच्चों के लिए खाने-पीने का सामान लेकर लौट रहे थे. उन्हें पता चला कि रास्ते में लड़ाई हो रही है, इसलिए उन्होंने दूसरी तरफ से घर जाने का तय किया, लेकिन उन्हें क्या पता था कि ये फैसला ऐसे गलत साबित होगा.

सबवे के अंदर से जाने लगा तो कुछ लोगों ने वहां से जाने से मना किया. उस बंदे ने तिलक लगा रखा था. उसकी बात पर विश्वास किया. थोड़ा आगे बढ़ा तो देखा कि दोनों तरफ से पथराव हो रहा है. वापसी की कोशिश की, इतने में लोगों की नजर पड़ गई.
मोहम्मद जुबैर, पीड़ित

जुबैर ने बताया कि उन्हें मारने वाले लोग ‘जय श्री राम’ के नारे लगा रहे थे. उन्होंने कहा कि हजारों की भीड़ में भी किसी ने उन्हें बचाने की कोशिश नहीं की और न ही किसी ने भीड़ को रोकना चाहा.

'मेरे कपड़े देखकर मारा'

जुबैर ने बताया कि उन्हें देखते ही भीड़ उनपर टूट पड़ी.

‘उन्होंने मुझे मुसलमान समझकर, मेरी टोपी देखकर, दाढ़ी, कुर्ता-सलवार देखकर मारा. वो मुझे देखते ही ऐसे टूट पड़े कि जैसे एक शिकार को खत्म करना है. मुझे देखते ही मेरी तरफ लपक पड़े वो, जबकि मेरे हाथ में बच्चों के लिए सामान था. मुझे गलत रास्ता बताकर, आगे भीड़ की तरफ भेज दिया गया.’
मोहम्मद जुबैर, पीड़ित

'उस फोटो को देखने की हिम्मत नहीं'

जुबैर ने कहा कि उनके अंदर फोटो देखने की हिम्मत नहीं है. उन्होंने क्विंट को बताया कि सभी घरवालों और रिश्तेदारों को फोटो देखने के बाद लगा कि वो जिंदा नहीं बचे हैं.

‘वो हिंदू कहलाने के लायक नहीं’

जुबैर ने कहा कि उन्हें मारने वाले हिंदू नहीं, बल्कि दरिंदे थे. उन्होंने कहा, ‘कोई इंसान लड़ना नहीं चाहता. हर कोई अपने बच्चों के साथ हंसी-खुशी रहना चाहता है. लोग कहते हैं कि उसने मार दिया, हिंदुओं ने मार दिया. ऐसे लोगों को मैं हिंदू भी नहीं कहना चाहता. ऐसे लोग हिंदू कहलाने के भी लायक नहीं. मेरे हिंदू जानकार बहुत अच्छे हैं. वो लोग दरिंदे थे. उनका कोई मजहब नहीं है. मैं ये नहीं कहता कि मुझे हिंदुओं ने मारा, मैं कहता हूं कि मुझे दरिंदों ने मारा. हिंदू या कोई मजहब किसी की जान लेना नहीं सिखाता.’

दिल्ली हिंसा में 48 FIR दर्ज

दिल्ली में 24-25 फरवरी को भड़की हिंसा को लेकर दिल्ली पुलिस ने कार्रवाई शुरू कर दी है. इस मामले में अब तक 48 एफआईआर दर्ज की जा चुकी हैं, वहीं 106 लोगों को गिरफ्तार किया गया है. इस हिंसा में अब तक दिल्ली पुलिस के एक हेड कॉन्सटेबल समेत 38 लोगों की मौत हो चुकी है.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENT
Published: 
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT