CRPF पर आरोप: ‘मुझे तब तक पीटते रहे जबतक बेहोश होकर गिर नहीं गया’

झारखंड के गांव में नक्सलियों के बारे में पूछने आई थी CRPF, आरोप-’दिव्यांग, बुजुर्ग को भी पीटा’

Updated25 Jun 2020, 04:03 PM IST
न्यूज वीडियो
2 min read

वीडियो एडिटर: आशुतोष भारद्वाज

झारखंड में पश्चिमी सिंहभूम के चिरियाबेड़ा टोला, अनजेडबेड़ा गांव के ग्रामीणों ने CRPF पर बेवजह पीटने का आरोप लगाया है. ग्रामीणों का आरोप है कि 'CRPF ने इस दौरान दिव्यांग और बुजुर्ग महिला को भी नहीं छोड़ा.

आदिवासियों के इस गांव वालों के मुताबिक CRPF के जवान नक्सिलयों के बारे में पूछताछ करने आए थे. उन्होंने ग्रामीणों से पूछताछ की. लेकिन ग्रामीण भाषा नहीं समझ पाए और जवाब नहीं दे पाए, इसी बात पर जवानों ने लोगों की पिटाई कर दी.

अनजेडबेड़ा गांव में रहने वाले डुबो सुरीन का कहना है कि उन्हें CRPF ने पेट के बल लिटा कर पीटा, उनकी रीढ़ की हड्डी में अबतक दर्द हो रहा है. गांव में ही रहने वाले तुराम तोसोय बताते हैं कि- 'लगभग बीस ग्रामीण घर की छावनी कर रहे थे, उसी दरम्यान CRPF ने घर को घेर लिया'

ग्रामीण गुना गोप बताते हैं कि CRPF ने बुजुर्गों को भी नहीं बक्शा- 'बचपन से मेरा एक हाथ टूटा हुआ है. लेकिन उन लोगों ने कहा कि ये तो गोली से खराब हुआ है. बोले इसके बाल भी वैसे ही हैं, इसको नहीं छोड़ेंगे, एक बुजुर्ग महिला बचाने आई तो उन्हें उठाकर दूर फेंक दिया'

उस दिन गुना को पुलिस के जवान पीट रहे थे. मैं बचाने गई मुझे तीन जवानों ने जमीन पर पटक दिया. मुझे पीटा. घर का सामान बाहर फेंक दिया
गनोर तमसोय, ग्रामीण

तुराम तुसोय बताते हैं कि CRPF की इस बर्बरता के खिलाफ जब वो थाने में FIR दर्ज कराने गए तो पुलिस ने FIR लिखने से इनकार कर दिया, जिसके बाद तुसोय ने इस मामले की ऑनलाइन FIR दर्ज की. इस मामले में एसपी इंद्रजीत महाथा कहते हैं कि-

ग्रामीणों के साथ जो मिस हैंडलिंग की बात आई है उसके लिए एक FIR हुई है, थोड़ा एंजाइटी में जो अनप्रोफेशनल तरीके से हैंडिलिंग किया गया है उसके लिए विधिवत कार्रवाई की है, उनके साथ हमारे रिश्ते मधुर हैं वह बने रहेंगे साथ ही साथ एंटी नक्सल अभियान जारी रहेगा.

जब इस बारे में क्विंट ने CRPF से उनका पक्ष जानने की कोशिश की तो प्रवक्ता एम दिनाकरन ने ग्रामीणों के आरोपों पर जांच बिठाई गई है.

कोरोनावायरस से जारी जंग के बीच तमाम अपडेट्स और जानकारी के क्लिक कीजिए यहां

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram और WhatsApp चैनल से जुड़े रहिए यहां)

Published: 25 Jun 2020, 02:24 PM IST

क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर को और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!