कुंभ 2019: अखाड़ों की शाही पेशवाई में साधुओं ने दिखाई शान-ओ-शौकत

कुंभ 2019: अखाड़ों की शाही पेशवाई में साधुओं ने दिखाई शान-ओ-शौकत

न्यूज वीडियो

प्रोड्यूसर: कनिष्क दांगी

वीडियो एडिटर: अभिषेक शर्मा

संगमनगरी पर आस्था का रंग चढ़ने लगा है. 15 जनवरी से 4 मार्च तक प्रयागराज में कुंभ मेले का आयोजन है. इस मेले में करीब 12 करोड़ लोगों के आने का अनुमान जताया जा रहा है. कुंभ में साधु-संतों की हलचल शुरू हो चुकी है. शाही अंदाज में अखाड़ों की पेशवाई कुंभ पहुंच रही है. 26 दिसंबर को जूना अखाड़े से शाही पेशवाई की शुरुआत हुई है, जो मकर संक्रांति तक चलेगी. शाही पेशवाई में सभी अखाड़े अपनी सामर्थ्य और वैभव का भरपूर प्रदर्शन करते हैं.

साधु-संतों का क्या है कहना?

(फोटो: विक्रांत दुबे/द क्विंट)
(फोटो: विक्रांत दुबे/द क्विंट)
इस बार जैसा कि साधु संतों की इच्छा थी कि भव्य कुंभ हो, दिव्य कुंभ हो. जबसे हम लोग श्रीपद दशानम जूना अखाड़ा बाकी तो सभी अखाड़ा परिषद में कार्यक्रम चल रहे हैं. नगर प्रवेश की दिव्यता-भव्यता देखने को मिली, जो हमारे मेला अधिकारी की व्यवस्था रही, उससे हमारे सभी साधु नगर बहुत संतुष्ट हुए.
महंत प्रेमगिरी, अंतरराष्ट्रीय उपाध्यक्ष, जूना अखाड़ा

हाईटेक अंदाज में दिख रहे हैं साधु-संत

कुंभ मेले को सफल बनाने के लिए योगी सरकार इस बार टेक्नोलॉजी का पूरा सहारा ले रही है. कुंभ रेल सेवा ऐप से लेकर फ्री वाई-फाई तक, इस बार प्रयागराज कुंभ मेला हाईटेक होने वाला है. सिर्फ सरकार ही नहीं, आयोजक और साधु संत भी हाईटेक अंदाज में नजर आ रहे हैं. हाथी-घोड़े के साथ अब लग्जरी गाड़ियां भी सवारी बन चुकी हैं. स्कूटी से लेकर इंपोर्टेड कार तक बाबाओें के काफिले में शामिल है.

3200 एकड़ में बसा कुंभ है कुंभ मेला

इस बार कुंभ मेले को 3200 एकड़ में बसाया गया है. मेला अधिकारी हर तरह के प्रबंधन कर रहे हैं, जिससे पर्यटकों के लिए आकर्षण का केंद्र बने.

(फोटो: विक्रांत दुबे/द क्विंट)
(फोटो: विक्रांत दुबे/द क्विंट)
जो अनुमान हम लोगों ने किया है और उसी आधार पर हम लोगों ने योजना भी बनाई है. अनुमान है कि 12 करोड़ लोग इस बार डुबकी लगाएंगे. हर दिन करीब 20 लाख लोग मेले में कल्पवास करेंगे. 20 सेक्टर में हम लोग सुविधाएं विकसित कर रहे.
विजय किरण आनंद, मेला अधिकारी

मकर संक्रांति से शुरू होगा स्नान

प्रयागराज में स्नान मकर संक्रांति से शुरू होगा और 45 दिनों तक संगमनगरी में धुनी रमाएंगे साधु-संत. कुंभ की छटा देखने के लिए विदेशों से भी सैलानी पहुंचेगे. ऐसे में उनके ठहरने के लिए पूरी की पूरी टेंट सिटी बसाई गई है. जहां अलग-अलग कीमतों में टेंट, कॉटेज और विला बनाए गए हैं.बीच आकर्षण का केंद्र रहता है. हर कैमरे की नजर नागा साधुओं पर लगी रहती है.

ये भी देखें:

कुंभ 2019: टेंट में विला की सुविधा, एक रात का किराया 32000 रुपये

(यहां क्लिक कीजिए और बन जाइए क्विंट की WhatsApp फैमिली का हिस्सा. हमारा वादा है कि हम आपके WhatsApp पर सिर्फ काम की खबरें ही भेजेंगे.)

Follow our न्यूज वीडियो section for more stories.

न्यूज वीडियो

    वीडियो