ADVERTISEMENT

शादी का मतलब नहीं कि पत्नी सेक्स के लिए मना नहीं कर सकती

ये जो इंडिया है ना..यहां मैरिटल रेप अपराध होना ही चाहिए. ऐसा नहीं होता है तो ये भारतीय महिलाओं का अपमान है.

Published

ये जो इंडिया है ना..यहां मैरिटल रेप अपराध होना ही चाहिए. ऐसा नहीं होता है तो ये भारतीय महिलाओं का अपमान है.

शादी का मतलब ये है नहीं कि एक महिला जिंदगी भर पति से सेक्स के लिए सहमत है. दरअसल अगर हमें शादी नाम की संस्था का सम्मान करते हैं तो जबरन सेक्स, मैरिटल रेप को शादी का दुरुपयोग माना जाना चाहिए.

ADVERTISEMENT

अगर पत्नी ये नहीं तय कर सकती कि उसे कब सेक्स करना चाहती है या नहीं करना चाहती है तो ये बराबरी का रिश्ता नहीं हुआ, और शादी बराबरी का रिश्ता होना चाहिए.

अगर भारतीय कानून महिलाओं को सेक्स के मामले में फैसला लेने की इजाजत देते हैं तो विवाह से जुड़े कानून भी इसके तहत आने चाहिए, क्योंकि इसी शादी के तहत हमारे देश में लगभग सारे शारीरिक संबंध बनते हैं.

ये बहाना कि इससे झूठे आरोप लगाए जाएंगे, बेमानी है. मर्डर के भी झूठे आरोप लगाए जाते हैं, तो क्या मर्डर को अपराध न मानें? जाहिर है हम ऐसा नहीं करेंगे.

ये जो इंडिया है ना, यहां जब तक मैरिटल रेप को अपराध नहीं माना जाएगा, एक औरत, एक पत्नी दोयम दर्जे की नागरिक होगी, और ये सही नहीं है

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT
×
×