Exclusive | 2019 में PM की रेस में नहीं, गडकरी का बेबाक इंटरव्यू

Exclusive | 2019 में PM की रेस में नहीं, गडकरी का बेबाक इंटरव्यू

वीडियो

वीडियो एडिटर- मोहम्मद इरशाद आलम और संदीप सुमन

सरकार अपने अब तक के प्रदर्शन को कैसे देखती है? प्रधानमंत्री की चुप्पी क्या कहती है? 2019 चुनाव में बीजेपी की रणनीति क्या रहने वाली है? क्या वो प्रधानमंत्री बन सकते हैं? क्विंट को दिए एक्सक्लूसिव इंटरव्यू में वरिष्ठ पत्रकार करण थापर के ऐसे कई तीखे और सीधे सवालों के जवाब दिए मोदी सरकार के कद्दावर मंत्री नितिन गडकरी ने.

‘अच्छे दिन’ आ गए?

2014 में बीजेपी अच्छे दिन के नारे पर सवार होकर सत्ता में आई. केंद्रीय मंत्री गडकरी ने कहा कि अच्छे दिन की परिभाषा अलग-अलग लोगों के लिए अलग-अलग हो सकती है. उन्होंने सरकार की योजनाओं का उदाहरण देते हुए उनसे लोगों को मिले फायदे का जिक्र किया.

लोगों की आकांक्षाएं हमेशा बढ़ती रहती हैं. लेकिन मुझे लगता है कि तुलना के लिए सबसे अहम है सरकार के पिछले और वर्तमान के ट्रैक रिकॉर्ड को देखना. इससे हम आसानी से समझ सकते हैं. मैं एक उदाहरण दे रहा हूं. उज्जवला योजना के तहत 10 करोड़ गरीबों को गैस सिलिंडर मिल रहा है. क्या ये उनके लिए अच्छा नहीं है? पहले सिर्फ साढ़े तीन करोड़ लोगों के बैंक खाते थे. आज 31 करोड़ बैंक खाते हैं. लोग अकाउंट ऑपरेट कर रहे हैं, लोन ले रहे हैं. क्या ये अच्छी चीज नहीं है?
नितिन गडकरी, केंद्रीय मंत्री

क्या मंत्रियों पर हावी रहते हैं मोदी?

केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी के मुताबिक पीएम मोदी सबको अपनी बात कहने का मौका देते हैं इसलिए कैबिनेट की बैठक में वो भी खुलकर अपने विचार रखते हैं और जरूरत पड़ने पर विरोध भी करते हैं, लेकिन आज तक उन्हें कुछ नहीं कहा गया.

हर मंत्री, कई बार कैबिनेट के विचार और संसद में व्यक्त किए गए विचारों से अलग अपने विचार रखता है. लेकिन मोदी जी में धैर्य है, वो हर किसी की सुनते हैं. कभी-कभी आपको लगता है कि उनका दृष्टिकोण सही है. 
नितिन गडकरी, केंद्रीय मंत्री

नितिन गडकरी ने कहा कि प्रधानमंत्री के बारे में अफवाहें ज्यादा फैलायी जाती हैं.

इकनॉमिक परफॉर्मेंस: मोदी Vs मनमोहन सिंह

करण थापर के यूपीए सरकार और मोदी सरकार के दौरान इकनॉमी की तुलना के जवाब में गडकरी ने अपनी सरकार के फैसलों के जरिए दलील देकर कहा कि भारतीय इकनॉमी बेहतर कर रही है.

मुझे लगता है कि अगले साल हम 8% तक पहुंचेंगे. मैं आपको बताता हूं क्यों?कृषि क्षेत्र में पैदावार बढ़ी है. पिछली तिमाही में, मेरे मंत्रालय ने 12% ग्रोथ हासिल की थी. मैन्यूफैक्चरिंग सेक्टर, इंडस्ट्रियल सेक्टर में भी हमें काफी ग्रोथ की उम्मीदें हैं. हमें और ध्यान देने की जरूरत है. हमें अपने एक्सपोर्ट को बढ़ाना है. हमें ज्यादा से ज्यादा विदेशी निवेश लाना है. लेकिन हमें रुपये को मजबूत करना है. अर्थव्यवस्था में हर जगह, कुछ सेक्टर में प्रगति हमेशा रहती है. सर्विस सेक्टर में बढ़ोतरी हो रही है कृषि सेक्टर पिछड़ा हुआ था लेकिन अब आगे बढ़ रहा है. 
नितिन गडकरी, केंद्रीय मंत्री

2019 में बीजेपी का क्या होगा?

2019 चुनावों के लिए बस 9 महीने का वक्त है. लोकसभा चुनावों में बीजेपी के प्रदर्शन के सवाल पर नितिन गडकरी ने कहा कि उन्हें यकीन है कि बीजेपी को बहुमत मिलेगा. उन्होंने कहा, "जो समझौते और गठबंधन हैं, वो लंबे चलने वाले नहीं हैं"

अगर बीजेपी की सीट संख्या 200 या 220 रहती है, तो कई लोग कहेंगे कि नितिन गडकरी पीएम हो सकते हैं. क्योंकि आप सहयोगी दलों को स्वीकार होंगे. आप इसे कैसे देखते हैं?

मुझे जितना मिलना चाहिए था, उससे ज्यादा मिला है. मैं किसी दौड़ में शामिल नहीं. मैं पार्टी की विचारधारा को मानता हूं. मैं मंत्री के तौर पर खुश हूं. मैं पीएम उम्मीदवार बनना नहीं चाहता.

नितिन गडकरी ने कहा कि उन्हें पूरा भरोसा है कि बीजेपी को ही बहुमत मिलेगा और प्रधानमंत्री मोदी एक बार फिर नरेंद्र मोदी ही प्रधानमंत्री बनेंगे.

(यहां क्लिक कीजिए और बन जाइए क्विंट की WhatsApp फैमिली का हिस्सा. हमारा वादा है कि हम आपके WhatsApp पर सिर्फ काम की खबरें ही भेजेंगे.)

वीडियो
सब्सक्राइब कीजिए
न्यूजलेटर
न्यूज और अन्य अपडेट्स