साहिबान, मेहरबान, कदरदान, क्या कभी देखी है उर्दू में रामलीला?

देखिए अनोखी राम लीला...उर्दू जबान में  

Updated
वीडियो
1 min read

“है राम के वजूद पे हिन्दोस्तान को नाज,

अहल-ए-नजर समझते हैं उस को इमाम-ए-हिंद”

श्रीराम के लिए ये शेर कई सालों पहले उर्दू के मशहूर शायर और पाकिस्तान के राष्ट्र-कवि अल्लामा इकबाल ने लिखा था. हां वही अल्लामा इकबाल जिन्होंने तराना-ए-हिंद सारे जहां से अच्छा भी लिखा था. चलिए ये तो बात हुई उर्दू शायर की लेकिन क्या कभी उर्दू जबान में रामलीला देखी है? या सुनी है?

जी हां, हरियाणा के फरीदाबाद में उर्दू जबान में रामलीला होती है. जहां राम से लेकर रावण तक सब उर्दू में अपने डायलॉग बोलते हैं.

हमारे पूर्वज पाकिस्तान से आए थे. तो उनके साथ उर्दू में लिखी रामलीला भी भारत आ गई. भारत में आने के बाद भी उन लोगों ने उर्दू नहीं छोड़ा. और फिर हम लोगों ने इसे अपना लिया.
अनिल चावला, डायरेक्टर, उर्दू रामलीला

उर्दू रामलीला के डायरेक्टर अनिल चावला बताते हैं कि उनके पूर्वज पाकिस्तान के खैबर-पख्तूनवा इलाके के रहने वाले थे. जो बंटवारे के बाद भारत आ गए थे.

आप भी अगर डूबना चाहते हैं बेहतरीन डायलॉग्स में तो देखें पूरा वीडियो.

कोरोनावायरस से जारी जंग के बीच तमाम अपडेट्स और जानकारी के क्लिक कीजिए यहां

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram और WhatsApp चैनल से जुड़े रहिए यहां)

Published: 
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!