ADVERTISEMENTREMOVE AD

‘निराला’ की याद में पीयूष मिश्रा की खास पेशकश 

पीयूष मिश्रा आपके लिए अपने अंदाज में निराला की सबसे मशहूर कविताएं लेकर आए हैं.

Updated
छोटा
मध्यम
बड़ा

आओ लौट चलें उस बचपन में जब स्कूल की बोरिंग जिंदगी में निराला की कविताएं रंग भर देती थीं. जब किताबों के ढेर में से हिंदी वाली बुक उठाकर आप उसमें अपनी पसंदीदा कविता पढ़ते थे. सूर्यकांत त्रिपाठी निराला की कुछ चुनिंदा कविताओं को आवाज दी है जाने-माने एक्टर पीयूष मिश्रा ने.

निराला के साथ जयशंकर प्रसाद, सुमित्रानंदन पंत और महादेवी वर्मा ने छायावाद युग को जीवंत किया था. निराला की रचनाएं परिमल और अनामिका हिंदी साहित्य में असली छायावाद का उदाहरण हैं, और बचपन में भिखारी वाली कविता तो आपने जरूर पढ़ी होगी.

(इस आर्टिकल को सबसे पहले 21 फरवरी 2016 को पब्लिश किया गया था. क्विंट के आर्काइव से इसे दोबारा पब्लिश किया जा रहा है.)

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

0
Published: 
सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
अधिक पढ़ें