ADVERTISEMENT

बांदा: जहां रेप केस हो जाते हैं दफन, दर्द भरी 4 कहानियां

Documentary: उत्तर प्रदेश के पिछड़े बुंदेलखंड क्षेत्र में 4 सेक्सुअल असॉल्ट सर्वाइवर्स के जीवन की दर्दनाक कहानी

Updated

रिपोर्टर, कैमरापर्सन और प्रोड्यूसर: ऐश्वर्या एस अय्यर

वीडियो एडिटर: प्रशांत चौहान, दीप्ति रामदास

इलस्ट्रेशन: एरम गौर

कैमरापर्सन: अतहर राथर

(सभी चार सेक्सुअल असॉल्ट सर्वाइवर्स और उनके रिश्तेदारों के नाम उनकी पहचान छिपाने के लिए बदल दिए गए हैं. यह डाक्यूमेंट्री यूपी के बांदा जिले, जो बुंदेलखंड के पिछड़े क्षेत्र में है, वहां से एक साल से अधिक समय तक चार सेक्सुअल असॉल्ट सर्वाइवर्स के जीवन को ट्रैक करती है.)

"मैं बहुत डरी हुई हूं, मेरा दिमाग काम नहीं कर रहा है. वे (बलात्कार के आरोपी के परिचित लोग) अभी घर आए और मुझसे कहते रहे कि किसी दस्तावेज पर हस्ताक्षर करो, 1 लाख रुपये लो और समझौता करो. उन्होंने कहा कि अगर मैं ऐसा नहीं करती हूं, तो मेरे बेटे की जान को खतरा होगा."

<div class="paragraphs"><p>यह सुनीता है, चार लोगों द्वारा सामूहिक बलात्कार के बाद समझौता करने के लिए मजबूर, वह डर और शर्म की जिंदगी जीती है.</p></div>

यह सुनीता है, चार लोगों द्वारा सामूहिक बलात्कार के बाद समझौता करने के लिए मजबूर, वह डर और शर्म की जिंदगी जीती है.

(ग्राफिक्स: एरम गौर/द क्विंट)

ये जनवरी 2020 में 50 वर्षीय सुनीता के शब्द हैं, जो अपने टूटे-फूटे घर के बाहर यह कहते हुए विरोध कर रही थी कि जब तक उनके चार सामूहिक बलात्कार के आरोपी गिरफ्तार नहीं हो जाते, वह अन्न-जल ग्रहण नहीं करेंगी. लेकिन, 48 घंटे से भी कम समय में, उन्होंने एक दस्तावेज़ पर अपने अंगूठे का निशान लगा दिया और समझौता कर लिया.

"देखो इस सब के बाद क्या हुआ है, मैं हर मिनट मर रही हूं. मैं मौत के लिए दम घुटने से भी मरना पसंद करूंगी, इससे मुझे शांति मिलेगी," वह इस रिपोर्टर से बात करते हुए टूट जाती हैं, जबकि उनके दाहिने अंगूठे पर नीली स्याही अभी भी सूख रही है. सुनीता ने हमसे बार-बार कहा था कि वह समझौता नहीं करना चाहती, वह चाहती थी कि मामला दर्ज हो, लेकिन चुप रहने के लिए वो मजबूर हो गयी थी.

सुनीता का जीवन उस निरंतर हिंसा में एक उदाहरण है जिसका सामना सब यौन उत्पीड़न पीड़ितों को करना पड़ता है.

ADVERTISEMENT
इसके बाद आने वाली कठिनाइयां बहुत अधिक शोषक, जटिल और अस्पष्ट हैं, जो कि आम लोगों को नजर भी नहीं आती. खासकर अगर महिलाएं यूपी के बांदा जिले के बुंदेलखंड के पिछड़े क्षेत्र की निम्न आय वर्ग की हैं, तो ये दिक्कतें और बढ़ जाती हैं. यहां बड़े पैमाने पर उत्पीड़न होता है, जो साक्षरता, कानूनी ज्ञान या मीडिया कवरेज के लगभग न होने के कारण और तेज हो जाता है.

नए राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड के आंकड़ों के अनुसार, यूपी (सबसे बड़ी आबादी वाला भारत का सबसे बड़ा राज्य) 60,000 मामलों के साथ महिलाओं के खिलाफ अपराधों की सूची में सबसे ऊपर है. यह लगभग 7,500 मामलों में बच्चियों के खिलाफ अपराधों की सूची में भी सबसे ऊपर है. हालांकि, यह डेटा अपराध होने के बाद की भयानक स्तिथि को नहीं दर्शाता है, ये काम हमारी डॉक्यूमेंट्री ने किया है. इस संदिग्ध वास्तविकता की जांच करने के लिए, हमने उत्तर प्रदेश के बांदा जिले की चार ऐसी महिलाओं की कहानियों के साथ रहने का फैसला किया.

<div class="paragraphs"><p>(ऊपर बाएं से नीचे बाएं) किशोरी, सुनीता, गर्विता और नैना यौन उत्पीड़न के एक मामले की रिपोर्ट करने की कोशिश करते समय उनके सामने आने वाली धमकियों&nbsp;और दबाव को साझा करती हैं.</p></div>

(ऊपर बाएं से नीचे बाएं) किशोरी, सुनीता, गर्विता और नैना यौन उत्पीड़न के एक मामले की रिपोर्ट करने की कोशिश करते समय उनके सामने आने वाली धमकियों और दबाव को साझा करती हैं.

(ग्राफिक्स: एरम गौर/द क्विंट)

जब तक हमने उनकी कहानियों पर नजर रखी, उनके साथ संवाद करते समय कुछ भावनाएं बहुत अधिक थीं. सुनीता की कहानी शर्म की है, गर्विता की कहानी शर्मिंदा कर देने वाली है, किशोरी की लगभग थकावट की कहानी है और फिर नैना की हिम्मत की दुर्लभ कहानी है.

ADVERTISEMENT

सुनीता की शर्मसार करने वाली कहानी: 'समझौता करने के बावजूद, मुझे धमकाया जा रहा है'

स्थानीय नरैनी थाने के एसएचओ आरके तिवारी ने बांदा में इस संवाददाता से कहा कि 'उन्होंने मामले की और जांच की होती, लेकिन जब उन्हें पता चला कि वे आपस में समझौता कर रहे हैं' तो उन्होंने हस्तक्षेप नहीं करने का फैसला किया. तिवारी ने आखिर में कहा कि, "ऐसे मामले में, हम हस्तक्षेप नहीं करते हैं, क्योंकि यह एक व्यक्तिगत मामला बन जाता है."

हालांकि सुनीता की कहानी उस समझौते के साथ खत्म नहीं हुई.

बलात्कार के आरोपियों पर पूरी तरह से एहसान करने के बावजूद, उसे अपने खिलाफ किए गए क्रूर अपराध के लिए आज तक दंडित किया जाना जारी है, क्योंकि चारों आरोपी जेल में नहीं बल्कि बाहर हैं.
सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि बलात्कार के मामलों को अदालत के बाहर नहीं सुलझाया जा सकता क्योंकि उन्हें राज्य के खिलाफ अपराध के रूप में देखा जाता है. इसके बावजूद, यूपी पुलिस ने सामूहिक बलात्कार के आरोपों को एक शारीरिक हमले के रूप में देखा, और तो और आरोपियों को समझौता करने का समय भी दे दिया.
ADVERTISEMENT
<div class="paragraphs"><p>सुनीता ने एक दस्तावेज पर हस्ताक्षर किए, जिससे यह सुनिश्चित हुआ कि उसके चार बलात्कार के आरोपी जेल से बाहर रहें.</p></div>

सुनीता ने एक दस्तावेज पर हस्ताक्षर किए, जिससे यह सुनिश्चित हुआ कि उसके चार बलात्कार के आरोपी जेल से बाहर रहें.

(ग्राफिक्स: एरम गौर/द क्विंट)

1 लाख रुपये से उसने खाने के लिए खाना और दवाइयां भी खरीदीं. उसके पति और बेटे के पास नौकरी नहीं है. इस लड़ाई को खुद लड़ने के लिए छोड़ चुके उसके पति ने उससे कहा था कि उसने परिवार को शर्मसार कर दिया है. उसके बेटे गुड्डू ने इस रिपोर्टर को बताया, "मेरे पिता ने उससे (सुनीता) कहा, वह मरी क्यों नहीं? अब परिवार को इस दाग से निपटना होगा."

एक साल बाद भी, दूसरों के बीच अपने ही पति द्वारा शर्मिंदा होने के कारण, सुनीता अभी भी बैठती है और दर्द में उठती है और अपनी रातों की नींद हराम करती है.

ADVERTISEMENT

"वे अभी भी हमें धमका रहे हैं. अब वे कहते हैं कि वे किसी तरह से पैसे वापस ले लेंगे जो उन्होंने मुझे समझौता करने के लिए दिया था. उन्होंने मेरे बेटे को झूठे आरोप में फंसाने की धमकी दी. वे मेरी भैंस चुराने की धमकी भी देते हैं. इसलिए, मैंने उन्हें यहां से हटाकर अपने माता-पिता के घर भेज दिया." वह ये सब परेशान होते हुए उसी जगह पर बैठकर समझाती है जहां उसने एक साल पहले विरोध किया था.

हमें अपनी रोजमर्रा की वास्तविकता की एक दिल दहला देने वाली झलक देते हुए सुनीता कहती है कि, "मैं फिर कभी विरोध नहीं करूंगी. मेरा एक छोटा बेटा है और मेरा घर इन क्षेत्रों का सामना करता है." सुनीता के दिन शर्म और डर से भरे हुए हैं, जहां उसके बेटे का जीवन उसकी निरंतर चुप्पी और उत्पीड़न पर आधारित है.

अब यहां सुनीता के मामले को सामूहिक बलात्कार के मामले के रूप में कभी नहीं देखा जाएगा, तो वहीं हमारी अगली सर्वाइवर, गर्विता अपना मामला दर्ज कराने में तो सक्षम थी, लेकिन उसके लिए उन्होंने एक बड़ी कीमत चुकाई.

ADVERTISEMENT

गर्विता की शर्मिंदा कर देने वाली कहानी: 'जहर खाया, तब दर्ज हुई शिकायत'

"मैंने जहर खा लिया क्योंकि मैं तनाव में थी. मैं जहां भी जाती, वे कहते कि मेरे उत्पीड़न के आरोप झूठे हैं. इसलिए मैंने जहर खा लिया, क्योंकि मुझे हर जगह अपमानित किया जा रहा था."

घटना के बारे में बताते हुए 35 वर्षीय गर्विता ने कहा कि आरोपी मोहम्मद सलीम उसके घर के बाहर उसकी दुकान से सिगरेट खरीदने आया था. उसने मना कर दिया क्योंकि उसके पास पहले से उसके पैसे थे, इससे वह नाराज हो गया और उसने जबरन सिगरेट ली और चला गया. गर्विता ने पुलिस को बुलाया जिसके हस्तक्षेप करने पर सलीम ने बकाया पैसे वापस किए. मामला सुलझ गया था और यहीं खत्म हो सकता था. लेकिन पुलिस को बुलाने कि वजह से सलीम को गुस्सा आ गया. घंटों बाद, वह कथित तौर पर बदला लेने के लिए गर्विता के घर लौट आया.

बांदा: जहां रेप केस हो जाते हैं दफन, दर्द भरी 4 कहानियां

(ग्राफिक्स: एरम गौर/द क्विंट)

उसने कहा, गर्विता का आरोप है, "तुमने मेरे खिलाफ एफआईआर दर्ज की और पुलिस आई. अब मैं तुम्हे दिखाता हूं कि मैं यहां क्यों आया हूं. फिर, जहां हम अभी बैठे हैं, उसने मुझे नीचे धक्का दिया, मेरी साड़ी उतार दी, और मेरा ब्लाउज फाड़ दिया... उसने कहा कि जब तक वह मेरा रेप नहीं करेगा तब तक उसे चैन नहीं मिलेगा."

ADVERTISEMENT

अस्पताल के आपातकालीन वार्ड में 35 वर्षीय गर्विता के जागने के बाद ही आरोपी के खिलाफ शिकायत दर्ज की गई थी. "फिर भी पुलिस ने उस धारा को नहीं जोड़ा कि उसने मेरी साड़ी को हटाने, मुझे नीचे फेंकने और मेरे साथ बलात्कार करने का प्रयास किया. उनमें केवल अतिचार और उत्पीड़न की धाराएं शामिल थीं. क्या उन्हें उन वर्गों को नहीं जोड़ना चाहिए?" उसने इस रिपोर्टर से यह कहते हुए पूछा कि उसे कुछ पता नहीं है कि जांच में क्या हो रहा है.

पुलिस ने नारायणी थाने में मामला दर्ज कर कहा है कि जांच जारी है.

शिकायत के बावजूद गांव में उसका मजाक उड़ाया जाता रहा. वह कहती हैं, ''उसने मेरे साथ रेप करने की कोशिश की. गांव में मेरा मजाक बन गया. मैंने उसके खिलाफ केस दर्ज कराया, लेकिन कुछ भी आगे नहीं बढ़ रहा. मुझे अब इस गांव में रहना पसंद नहीं है क्योंकि जब से मामला शुरू हुआ है, गांव में मेरा लगातार उपहास किया जाता है. लोग मुझसे पूछते हैं कि क्या मैं कुछ हासिल कर पाई, वह अभी भी हमेशा की तरह रह रहा है और घूम रहा है. वह मुझे घूरता रहता है और हंसता रहता है. उसके लिए क्या बुरा हुआ है?"

वह कहती हैं कि, "स्थानीय लोग भी मुझसे मामले की स्थिति के बारे में पूछते रहते हैं, वे पूछते हैं कि क्या हमने समझौता किया है."

बांदा: जहां रेप केस हो जाते हैं दफन, दर्द भरी 4 कहानियां

(ग्राफिक्स: एरम गौर/द क्विंट)

ADVERTISEMENT

यह मदद नहीं करता है कि सलीम का भाई, मुस्तफा, कथित तौर पर पंचायत सदस्यों का करीबी है. वह इस रिपोर्टर सहित लोगों को यह बताते हुए घूमता रहता है कि गर्विता ड्रामा कर रही है. खुद घटना न देखने के बावजूद वह अपने भाई का बचाव करता है.

मुस्तफा कहते हैं, ''उसने ड्रामा किया, नहीं तो मेरे भाई के खिलाफ मामला दर्ज नहीं होता. उसने जहर खाने का नाटक किया जिसके बाद वह अस्पताल गई. फिर वह पुलिस स्टेशन गई और फिर पुलिस ने मेरे भाई को तुरंत उठा लिया.''

इसके बावजूद जब सलीम रिहा हुआ तो वह गर्विता का पीछा करता, उसकी तरफ देखता और मुस्कुराता, उसके घर और दुकान का चक्कर लगाता और उसके कपड़े सुखाने के लिए उसके छत पर आने का इंतजार करता.

एक साल बाद जब हम उससे मिलने गए तो बहुत कुछ नहीं बदला था.

गर्विता या मुस्तफा को नहीं पता था कि उनका मामला कहां खड़ा है. आरोपी सलीम को पैक कर दूसरे शहर भेज दिया गया, इस बार मुंबई में कहीं. जबकि ग्रामीण अभी भी उसके बारे में बात कर रहे थे. जब वह गांव लौटता, तब भी वह उसका पीछा करता, उसकी ओर मुस्कुराता और टिप्पणी करता.

लगातार उपहास से निपटने में असमर्थ, गर्विता को उसके घर को छोड़ के जाना पड़ा. "कई बार, मुझे लगता है कि हमें इस गांव को छोड़ देना चाहिए. यही कारण है कि चार से पांच महीने के लिए, किसी से भी पूछो, घर पर ताला लगा हुआ था. मैं अपने बच्चों को ले कर अपनी मां के घर चली गई थी क्योंकि मुझे यहां रहना पसंद नहीं है," उसने कहा. जब से द क्विंट उनसे मिला है, एक साल बाद, वह मुश्किल से घर गई हैं.

ADVERTISEMENT

किशोरी की थकावट भरी कहानी: 'यौन उत्पीड़न आरोपी के वकील ने मेरी मां को जान से मारने की धमकी दी'

<div class="paragraphs"><p>किशोरी बताती है कि जब वह अपना बयान देने गई तो आरोपी के वकील ने उसे अदालत में धमकाया</p></div>

किशोरी बताती है कि जब वह अपना बयान देने गई तो आरोपी के वकील ने उसे अदालत में धमकाया

(ग्राफिक्स: एरम गौर/द क्विंट)

हमारे चार लोगों में किशोरी सबसे छोटी है. 9 साल जब हम उससे पहली बार मिले और अब 10 साल की है, तो घटना के बाद से उसका जीवन बदल गया है.

"आरोपी, बच्चा (जो 24 साल का है) नामक एक व्यक्ति ने मुझे पकड़ लिया, मेरे मुंह में कपड़े का एक टुकड़ा डाल दिया, मुझे अपनी मौसी के घर ले गया और मेरे साथ गंदी हरकत की. उसने मेरे कपड़े उतार दिए. साथ ही...," किशोरी की आवाज इस समय कम हो जाती है और हम उससे सवाल पूछना बंद कर देते हैं.

उसकी मां, माला, याद करती है कि कैसे उसने अपनी बेटी को पाया और उससे बार-बार पूछा कि क्या हुआ. जानकारी होने पर वह भड़क गई और अगले दिन उसे थाने ले गई. एक शिकायत दर्ज की गई थी, लेकिन उनका आरोप है कि शुरू से ही उन्हें पुलिस की असंवेदनशीलता का सामना करना पड़ा.

जो हुआ उसके बारे में बताते हुए माला ने कहा, "पुलिस अधिकारी (महिला) ने उसके बाल खींचे और उसे डांटा, उससे कहा कि उसके साथ ऐसा कुछ नहीं हुआ है. पुलिस अधिकारी ने कहा, 'बेकार व्यक्ति! तुम झूठ बोल रही हो. तुम ऐसी गंदी बातें कर रही हो. फिर उसने उससे पूछा, 'क्या यह तुम्हारी मां वहां बैठी है?' जब उसने हां कहा तो पुलिस अफसर ने हमारे बीच पर्दा खींच दिया और अंदर से किशोरी के और भी जोर-जोर से रोने की आवाजें आने लगीं."

बांदा: जहां रेप केस हो जाते हैं दफन, दर्द भरी 4 कहानियां

(ग्राफिक्स: एरम गौर/द क्विंट)

ADVERTISEMENT

एक साल बाद, जब हम मां और बेटी से मिलने के लिए लौटे, तो इंटरव्यू के दौरान किए गए दस साल की बच्ची के बयान से हम चौंक गए. जब लड़की जज के सामने अपना बयान देने गई थी तो उसे याद आता है कि कैसे खुली अदालत में उसे धमकाया गया था,''अंदर जाते समय एक आदमी ने कहा कि वह मेरी मां को मार डालेगा और हमे धमकाया कि मैं और मेरी मां जेल में रहेगी."

रिपोर्टर ने पूछा, "जब आपको धमकाया गया तो आपके आसपास कौन था?"

"मेरे आसपास कोई नहीं था. मैं अकेली थी."

परिणामस्वरूप जब वह न्यायाधीश से मिलने गई, तो किशोरी ने कहा, "मैंने वही कहा जो वकील ने मुझे कहने के लिए कहा था, कि मुझे कुछ नहीं हुआ. न्यायाधीश ने फिर से पूछा कि क्या कुछ नहीं हुआ था. मैंने कहा नहीं, कुछ नहीं हुआ था."

मैंने उसकी मां से पूछा कि यह कैसे संभव है, चिड़चिड़ी होकर उसने कहा कि उसे अपने नवजात बेटे की देखभाल करनी थी और इसलिए वह अंदर नहीं जा सकी. साल भर के भीतर, एक मां जो अपनी बेटी के बगल में खड़ी थी, अब हारी और थकी हुई लग रही थी.

माला बताती है कि, "सरपंच मुझसे समझौता करने के लिए कह रहे हैं, बस. वे कह रहे हैं कि मुझे आगे बढ़ना है और अपनी बेटियों की शादी करनी है. तो, क्या मैं अदालत की सुनवाई से निपट पाउंगी? वे कहते हैं कि अगर हम इस मामले को आगे बढ़ाते हैं, तो मेरी बेटी की शादी नहीं होगी. सबकी तरफ से समझौता करने का दबाव है."

किशोरी के पिता साल का अधिकांश समय घर से दूर, राजस्थान में कपड़े बेचते हुए बिताते हैं, इस दबाव से निपटने के लिए माला को अकेले ही छोड़ दिया गया.

माला कहती हैं, "जब मैं बार-बार अदालत जाती हूं, तो मैं खुद डर जाती हूं. मैं सोचती हूं कि मैंने यह मामला क्यों दायर किया. मैं अपनी बेटी को डांट भी देती हूं और उसे किसी के घर न जाने के लिए कहती हूं. मैं उससे कहती हूं कि मैं उसकी वजह से ये सब झेल रही हूं. मैं सोचती हूं कि क्या इस मामले में समझौता होगा, या गवाही समाप्त हो जाएगी. ताकि मुझे फिर से अदालत नहीं जाना पड़े," माला आगे बताती हैं कि उन्होंने समझौता का विषय उठाया है, यह किशोरी के पिता हैं जो इसके सख्त खिलाफ हैं.

ADVERTISEMENT
आरोपों का सामना करने पर पुलिस रक्षात्मक हो गई और सभी आरोपों से इनकार किया. नारायणी थाने के जांच अधिकारी चंद्रपाल सिंह ने कहा कि वह लड़की और उसकी मां को तुरंत फोन कर सकते हैं. उन्होंने कहा, "मैं मामले में था. मैंने उससे दो दिनों तक पूछताछ की और आरोपी को गिरफ्तार कर लिया. लड़की डर गई थी. हमने उसे खाना दिया, और सुनिश्चित किया कि वह अदालत में खाए."

मामले में आरोपी के भाई ने कहा है कि मामला झूठा है और जमीन हड़पने से जुड़ा है. यह पूछे जाने पर कि उनके वकीलों ने अदालत में बच्चे को कैसे धमकाया, उन्होंने इस बारे में कुछ भी नहीं जानने का दावा किया. बच्चा के बड़े भाई अजीत ने कहा, "मैं इस बारे में वकील से बात करूंगा और आपसे बात करूंगा. मुझे यह नहीं पता था."

जैसे-जैसे अदालत में मुकदमा चलता रहा, वैसे-वैसे माला और किशोरी को गांव के बड़ों से समझौता करने की धमकियों और दबाव का समाना करना पड़ता रहा है. इस सब के बावजूद, मामले के फैसले तक पहुंचने की बहुत कम उम्मीद के साथ, एक साल बाद मामले में आरोपी को पॉक्सो अधिनियम के तहत 20 साल जेल की सजा सुनाई गई है.

मुझे फोन पर यह बताते हुए माला ज्यादा खुश नहीं होती. वह कहती हैं, "मैं अब भी चिंतित हूं कि क्या किशोरी कभी शादी करेगी, मैं नहीं चाहती कि वह और बाहर जाए. मुझे चिंता है."

ADVERTISEMENT

नैना की तन्मयता की कहानी: 'पुलिस ने बंद किया केस और बताया तक नहीं'

"हां, मैं पुलिस के पास जाउंगी और उन्हें जेल भेजूंगी. मैं उन्हें (यौन उत्पीड़न के आरोपी) इस तरह नहीं छोडूंगी. मैं कुछ करूंगी," 15 वर्षीय नैना इस रिपोर्टर को ये तब बताती हैं जब पुलिस उसके मामले में जांच बंद कर रही है.

नैना मुझसे कहती हैं, ''उन्होंने हमें यह भी नहीं बताया कि मामला क्यों बंद किया गया है. वे मेरा या मेरे पिता का बयान लेने तक नहीं आए. हम फिर से अदालत में जाएंगे और मामला दर्ज कराएंगे.

नैना का कहना है कि मई 2019 में उनका अपहरण किया गया था और कई महीनों तक उनके साथ मारपीट की गई थी. लेकिन उसके और उसके पिता द्वारा अदालत के कई चक्कर लगाने और अदालत का आदेश मिलने के बाद ही पुलिस ने आखिरकार जनवरी 2020 में मामला दर्ज किया. आरोपियों में एक पुलिसकर्मी भी है.

बांदा: जहां रेप केस हो जाते हैं दफन, दर्द भरी 4 कहानियां

(ग्राफिक्स: एरम गौर/द क्विंट)

ADVERTISEMENT

घटना के बारे में बताते हुए नैना ने कहा कि उसी गांव के चार लड़कों ने उसका अपहरण उसके घर से किया था. उन्होंने उसे एक रिक्शा पर बिठाया और एक ट्रेन में ले गए जो उन्हें गुजरात के सूरत ले गई. नैना ने कहा, "ढाई महीने तक, उन्होंने मेरा यौन उत्पीड़न किया. वे मुझे उनके साथ चीजे करने के लिए मजबूर करते थे, मेरे कपड़े फाड़ते थे और मेरा बलात्कार करने की कोशिश करते थे."

आखिरकार रेस्क्यू मिशन तब हुआ जब एक पुलिसकर्मी और नैना के पिता धर्मपाल आए. "जब मैंने पुलिसकर्मी को सब कुछ बताया, तो उसने कहा कि मुझे सच नहीं बोलना चाहिए और केवल वही कहना चाहिए जो वह मुझसे कहने के लिए कह रहा था. अगर मैं सच बोलूंगी तो मेरे माता-पिता को जेल भेज दिया जाएगा और मुझे नारी निकेतन भेज दिया जाएगा."

नैना ने आगे बताया कि जब वे गुजरात में थे, तब दो कमरे बुक थे. वह कहती है, "एक कमरे में पिताजी रुके थे, दूसरे में पुलिस अधिकारी ने मुझे रखा. मेरे सोने के बाद, वह मुझे महसूस करते थे. जब मैं उनसे पूछती थी कि वह ऐसा क्यों कर रहे हैं, तो वे कहते थे कि मुझे कुछ भी नहीं कहना चाहिए इसके परिणाम बुरे होंगे."

ADVERTISEMENT
बलात्कार के आरोपी की मां सुशीला ने कहा कि चारों लड़कों के खिलाफ आरोप झूठे थे. "लड़की चालाक है. अगर लड़की ऐसी नहीं होती, तो ये चीजें नहीं होतीं. लड़की समस्या है. क्या उसे पैसे मिल रहे थे, पिता उसे क्यों नहीं रोक सका और उसे डांटा क्यों नहीं?" उसने यह भी कहा कि नैना के पिता उस पर काला जादू कर रहे थे, "पिता ने कुछ मनगढ़ंत बनाया है और उसे खाने-पीने के लिए कुछ दिया है. जिससे उसकी बेटी झूठ बोल रही है. वह उसे बताता है कि क्या कहना है. ये लड़की खुद खुद खुलेआम सड़क पर लड़को से चिपक जाती है और फिर थाने में मामला दर्ज कराने जाते हैं."

नैना के चरित्र के बारे में बातें कुछ ऐसी है जो शुरू से ही फैलती रही है, और आज भी जारी है. लेकिन इन सब से प्रभावित हुए बिना नैना और धर्मपाल का ध्यान सिर्फ केस को आगे बढ़ाने पर है.

एक साल बाद जब हम नैना से मिलने लौटे तो नैना ने हमें बताया कि मामला बंद कर दिया गया है.

वह कहती है, "पिछली बार जब आप बांदा आए थे तो मामले की जांच की जा रही थी, लेकिन अब इस मामले को बंद कर दिया गया है. मुझे यह भी नहीं बताया गया कि मामला बंद कर दिया गया है. उन्होंने हमसे बात नहीं की या हमें बताया कि इसमें क्या था. मुझे पता चला कि मेरे पिता ने एक वकील किया था, उन्हें पैसे भी दे दिए थे, और चार्जशीट की एक कॉपी प्राप्त की. रिपोर्ट कहती है कि मेरी गवाही झूठी है, और उनकी गवाही सच है. पुलिस कहती है कि मैंने जो कुछ भी कहा था वह झूठ था."

पुलिस ने हालांकि कहा है कि इस मामले में कोई गड़बड़ी नहीं है और इसे बंद कर दिया गया है. लेकिन, नैना इस रिपोर्टर को हर दूसरे हफ्ते फोन करती रहती है, मूल रूप से बताने के लिए कि मामला अभी तक खुला नहीं है.

बांदा: जहां रेप केस हो जाते हैं दफन, दर्द भरी 4 कहानियां

(ग्राफिक्स: कामरान अख्तर/द क्विंट)

ADVERTISEMENT

फोन करने पर धर्मपाल ने कहा, "मेरी बेटी के साथ भयानक चीजें हुई हैं, मैं केस लड़ने की कोशिश करता रहूंगा. मैं केस को फिर से खोलने की कोशिश करता रहूंगा, भले ही एक या दो साल लग जाएं. हम सुनवाई का इंतजार करेंगे, जो अंततः होना चाहिए. जरूरत पड़ने पर मैं मामले को हाईकोर्ट भी लेकर जाऊंगा."

एसपी बांदा ने यौन उत्पीड़न पर नजर रखने के उपायों की रूपरेखा दी

जनवरी 2020 में जब द क्विंट ग्राउंड पर था, तब तत्कालीन एसपी गणेश शाह हमसे मिले थे और कहा था कि हम अगले दिन एक औपचारिक इंटरव्यू के लिए बैठ सकते हैं. हालांकि जब हम उनका इंटरव्यू लेने लौटे तो हमें बताया गया कि उन्हें सस्पेंड कर दिया गया है. और सवाल पूछने पर हमें पता चला कि ट्रांसफर रैकेट में नाम आने के बाद उन्हें सस्पेंड कर दिया गया था.

वर्तमान एसपी अभिनंदन ने यौन उत्पीड़न से बचे लोगों को ट्रैक करने के लिए पुलिस द्वारा उठाए गए विभिन्न उपायों की रूपरेखा तैयार की है.

ADVERTISEMENT
"विभिन्न स्तरों पर, हम यौन उत्पीड़न के मामलों की निगरानी करते हैं. महिला हेल्प डेस्क के माध्यम से, फिर एंटी-रोमियो दस्ते हैं, फिर स्थानीय बीट कांस्टेबल हैं. ये वे तंत्र हैं जिनके माध्यम से हम प्रयास करते हैं... और यही हमारी सर्वोच्च प्राथमिकता है. अगर महिलाओं के खिलाफ कोई अपराध किया जाता है. हम महिलाओं से संबंधित अपराधों का डेटा भी रखते हैं, और कांस्टेबलों को हम हमेशा यह डेटा देते हैं. वे उस महिला या लड़की के घर जाते हैं, वे परिवार वालों से बात करते हैं और हम सुनिश्चित करते हैं कि आरोपी उन्हें धमकी नहीं दे रहे हैं कि गांव या कस्बे से बाहर निकल जाए या ऐसा कुछ भी नहीं हो रहा है."
एसपी बंदा अभिनंदन ने द क्विंट से कहा

जब उन्हें बताया गया कि जमीन पर ऐसा नहीं हो रहा है. जब बताया गया कि सुनीता की शिकायत कभी एफआईआर नहीं हुई, कि गर्विता को अपना गांव छोड़ने के लिए मजबूर किया गया है, कि किशोरी को खुली अदालत में धमकाया गया था और नैना का मामला उसे बताए बिना बंद कर दिया गया था, तब उन्होंने हमसे मामलों का विवरण मांगा.

हमने उन्हें यह भी बताया कि डॉक्यूमेंट्री प्रकाशित होने के बाद लोगों को जिन खतरों का सामना करना पड़ सकता है, उन्हें लेकर हम चिंतित हैं, जिसे उन्होंने स्वीकार किया. उन्होंने हमें उनके साथ जानकारी साझा करने के लिए कहा, जो हमने किया. उन्होंने कहा, "कृपया विवरण दें, क्योंकि मैं ऐसा कुछ नहीं होने दूंगा. इसलिए कृपया विवरण साझा करें और मैं उचित उपाय करूंगा."

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENT
Published: 
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT