रेप के 26 साल बाद बेटे ने कहा- मां, मैं तुम्हें इंसाफ दिलाऊंगा

राकेश की कोशिश रंग लाई और 3 मार्च 2021 को प्राथमिकी दर्ज की गई.

Published

वीडियो एडिटर: पुर्णेन्दू प्रीतम

"आपने मुझे क्यों छोड़ दिया? आपने मुझे किसी और को क्यों दे दिया? ” - ये वही सवाल थे जो लखनऊ के एक घर में गूंज उठे, जब 2007 में पहली बार राकेश (बदला हुआ नाम) उस महिला से मिला जिसने उसे जन्म दिया था.

11 साल की उम्र में ही स्कूल छूट गया. लालन पालक करने वालों ने उसे बताया कि वो उसके असली माता-पिता नहीं हैं. लेकिन जब वो अपनी असली मां से मिला तब भी राकेश को नहीं पता था कि उसके पिता कौन हैं.

“अगर आप मेरी मां हैं, तो मेरे पिता कौन हैं?” वो कई सालों तक ये सवाल पूछता रहा. जब तक वो छोटा था, मैं उसे डांटता थी और उससे ऐसे गलत सवाल न पूछने के लिए कहती थी.”
राखी, राकेश की सगी मां

अपने बेटे के साथ सच्चाई शेयर करने में असमर्थ, राखी (बदला हुआ नाम) ने बड़ी मुश्किल से इन सवालों को दरकिनार किया. जैसे-जैसे राकेश बड़ा होता गया, वो बार-बार सवाल करने लगा.

लेकिन, जब 2018 में, बेटे ने खुद की जान लेने की धमकी दी, तो राखी के पास कोई विकल्प नहीं बचा और राखी ने बताया कि कैसे उनके साथ दो भाइयों - गुड्डू और नकी हसन, ने 1994 में कथित तौर पर सामूहिक बलात्कार किया था.

“मेरी डिलीवरी के बाद, मैं सोच रही थी कि मैं बच्चे से कैसे मिल सकती हूं या देख सकती हूं. मुझे बताया गया कि मेरी मां ने बच्चे को किसी को दे दिया है. मैं बहुत रोई और अपनी मां और बहन से अपने बच्चे का पता पूछने की कोशिश की लेकिन उन्होंने कहा कि मुझे ये जानने की कोई जरूरत नहीं है कि वो कहां है.”
राखी, गैंगरेप सर्वाइवर

राखी ने 2000 में शादी करने के बाद नए जीवन में कदम रखा था, जिसके बाद उन्होंने दूसरे बेटे को जन्म दिया. हालांकि, दो साल बाद, उनके पति को पहले बच्चे के बारे में पता चल गया और धीरे-धीरे उसने उनके साथ संबंध ख़त्म कर लिए.

पांच साल तक अपनी शादी को बचाने की कोशिश करने के बाद, राखी को 2007 में ससुराल छोड़ने के लिए कहा गया. वो अपने दूसरे बेटे के साथ लखनऊ चली गई. सामूहिक बलात्कार की शिकार, अपने बच्चे से अलग, अपने पति से दूर और अब पूरी तरह से अकेली- राखी के लिए जिंदगी आसान नहीं थी, उन्होंने एक नए शहर में जिंदा रहने के लिए अजीब-अजीब तरह के काम किए.

लगभग उसी समय, राकेश का लालन-पालन करने वाले माता-पिता को पता चला कि राखी लखनऊ चली गई है.

“उन्होंने कहा, ‘जिस मां ने जन्म दिया, उसके साथ रहो’ मुझे अजीब लगा, रोया और फिर उन्हें छोड़ने से मना कर दिया. उन्होंने कहा कि वे बड़े होने के बाद भी मुझे अपने पास नहीं रख सकते और देखभाल के लिए उनके खुद के दो बच्चे भी थे.
राकेश

लेकिन राकेश के लिए कथित आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए राखी को आश्वस्त करना आसान काम नहीं था. लेकिन राकेश की कोशिश रंग लाई और 3 मार्च 2021 को प्राथमिकी दर्ज की गई.

उनका बयान दर्ज किया गया है और उसकी चिकित्सा जांच कर लगी गई है. हालांकि, अभी तक पुलिस ने आरोपियों से पूछताछ नहीं की है.

(एफआईआर में लिखे गए मोबाइल नंबरों के ज़रिए क्विंट ने आरोपियों तक पहुँचने की कोशिश की. जहां एक नंबर चालू नहीं है, वहीं दूसरे नंबर पर फ़ोन मिलाने पर किसी दूसरे शख़्स ने फ़ोन उठाया और कहा कि ये नंबर ग़लत है और आरोपियों से उनका कोई संबंध नहीं है.)

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!