भोजपुरी में सुनिए फैज की नज्म ‘हम देखेंगे...’  

भोजपुरी में भी ये नज्म उतना ही दमखम रखती है, जितना कि फैज ने इसे जिस रूप में हमारे सामने रखा है.

Updated

वीडियो एडिटर: वरुण शर्मा

कैमरापर्सन: शिव कुमार मौर्य

फैज की नज्म ‘हम देखेंगे’ पर विवाद हो रहा है. इसे कम्युनल बताया गया, लेकिन ऐसा है नहीं. इसलिए इस नज्म को हर तरफ से सपोर्ट मिल रहा है. सोशल मीडिया पर भोजपुरी अनुवाद भी वायरल हो रहा और भोजपुरी में भी ये नज्म उतना ही दमखम रखती है, जितना कि फैज ने इसे जिस रूप में हमारे सामने रखा है.

भोजपुरी मुख्य तौर पर देश के पूर्वांचल इलाकों- बिहार, यूपी में बोली जाती है.

इस नज्म के लिखित भोजपुरी वर्जन को ट्विटर पर खूब प्रतिक्रियाएं मिली हैं.

दिगम्बर ने इसका अनुवाद कर फेसबुक पर शेयर किया है. देखिए उनका फेसबुक पोस्ट:

पहली बार अपने मनपसन्द शायर फ़ैज़ की नज्म का भोजपुरी में अनुवाद किया! प्रतिरोध के सुर में अपना सुर मिलाया! हम...

Posted by Digamber on Saturday, January 4, 2020

क्या है फैज अहमद फैज की इस नज्म में?

फैज अहमद फैज ने ये नज्म 1979 में पाकिस्तान के सैन्य तानाशाह जिया-उल-हक के संदर्भ में लिखी थी. फैज पाकिस्तान में सैन्य शासन के विरोध में थे. फैज अपने क्रांतिकारी विचारों के कारण जाने जाते थे और इसी कारण वे कई सालों तक जेल में रहे.

इसकी आखिरी कुछ पंक्तियों में फैज ने लिखा है, “बस नाम रहेगा अल्लाह का, जो गायब भी है हाजिर भी, जो मंजर भी है नाजिर भी और राज करेगी खल्क ए खुदा जो हम भी हैं और तुम भी हो.”


इसकी अंतिम पंक्ति ने IIT कानपुर में विवाद खड़ा कर दिया था.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

Published: 
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!