ADVERTISEMENT

श्रद्धा वाकर हत्याकांड: निगरानी करने के बजाय पैरेंट्स बेटियों की मदद कर सकते हैं

Shraddha Walkar murder : लव जिहाद जैसे प्रवचन देने के बजाए, इस तरह के मामले में महिलाओं के साथ खड़े रहने की जरूरत है.

श्रद्धा वाकर हत्याकांड: निगरानी करने के बजाय पैरेंट्स बेटियों की मदद कर सकते हैं
i

पिछले कुछ दिनों से श्रद्धा वाकर हत्याकांड (Shraddha Walkar Murder Case) सुर्खियों में है. 28 वर्षीय श्रद्धा वाकर मुंबई की रहने थी, हाल ही में खुलाासा हुआ है कि दिल्ली में कथित तौर पर उसके लिव-इन पार्टनर ने उसकी हत्या कर दी थी. इस केस के इर्द-गिर्द जो अप्रसांगिक बातें चल रही हैं, वे चिंता का विषय है. सही बात को छोड़कर सोशल मीडिया प्लेटफार्म इस घटना पर हर संभव दिशा में चर्चाओं से भरे पड़े हैं, जिसमें लव जिहाद से लेकर पीड़िता को दोष देने तक की बातें कही जा रही हैं.

ADVERTISEMENT

रिपोर्ट्स के मुताबिक श्रद्धा वाकर कथित तौर पर इस साल मई में अपने पार्टनर आफताब अमीन पूनावाला के साथ रहने के लिए इसलिए दिल्ली चली गई थी, क्योंकि उसके परिवार को यह अंतर-धर्मिक रिश्ता मंजूर नहीं था. न्यूज रिपोर्ट्स के अनुसार इस रिलेशनशिप की वजह से श्रद्धा के पिता ने उससे नाते-रिश्ते तोड़ दिए थे. अभी भी घटनाओं की टाइमलाइन को लेकर डिबेट चल रही है, लेकिन व्यापक तौर पर यह बताया गया है कि दिल्ली शिफ्ट होने के कुछ ही दिनों बाद पूनावाला और श्रद्धा के बीच बहस हुई. जिसके बाद पूनावाला ने कथित तौर पर श्रद्धा का गला घोंट दिया और उसकी हत्या कर दी. रिपोर्ट्स के अनुसार कथित तौर पर पूनावाला ने श्रद्धा के शरीर के 30 ज्यादा टुकड़े किए थे और कई महीनों के दौरान उन टुकड़ों को आस-पास के इलाकों में ठिकाने लगाता रहा.

पुलिस के मुताबिक, किसी और के प्यार होने के शक की वजह से इस कपल में अक्सर झगड़े होते रहते थे. श्रद्धा के दोस्त के दावा है कि पूनावाला अक्सर श्रद्धा पर शरीरिक हमला करता रहता था. न्यूज एजेंसी ANI को उसने बताया है कि "श्रद्धा आफताब को छाेड़ना चाहती थी लेकिन वह ऐसा नहीं पायी"
ADVERTISEMENT

बिना ठोस सबूत के उपदेश देना, बात करने से बनेगी बात

जैसा कि हमारी आदत है, लोग श्रद्धा वाकर मर्डर केस की चीर-फाड़ करने में लगे हुए हैं, वे घटना के पीछे की वजहाें को जानने की कोशिश कर रहे हैं. दूसरे मायने में देखें तो सब अपनी-अपनी थ्योरी या एजेंड़े को सही साबित करने में लगे हुए हैं. एक ऐसा वर्ग भी है जिसने पहले ही इस मामले को लव जिहाद के रूप में चित्रित कर दिया, जबकि उसके पास खाली मृतक और संदिग्ध के धर्म के अलावा ये (लव जिहाद का मामला) साबित करने के लिए कोई ठोस सबूत नहीं है.

एक और वर्ग है, जो इस घटना को एक भयावह कहानी के तौर पर प्रस्तुत कर रहा है ताकि इसकी वजह से परिवार अपने घर की युवा अविवाहित महिलाओं के जीवन पर लगाम लगाने का प्रयास कर सकें. यह कहा जाता है कि इस तरह की घटनाएं तब होती हैं जब आप अपने पैरेंट्स की बात नहीं सुनते हैं. महिलाओं को अपने पैरेंट्स की राय या फैसले पर भरोसा करना चाहिए क्योंकि वे अनुभव के आधार पर बोलते हैं.

लेकिन अगर इस तरह की घटना किसी अरेंज्ड मैरिज वाली महिला के साथ हुई होती, तो तब क्या होता? क्या होता अगर वाकर और पूनावाला दोनों एक ही धर्म के होते और उनके पैरेंट्स ने उनके रिश्ते को स्वीकार कर लिया होता?

क्या भारतीय पैरेंट्स अपनी बेटी को इस बात के लिए आश्वस्त कर सकते हैं कि उनके द्वारा कराई गई शादी और उनके द्वारा स्वीकृत रिलेशनशिप दुर्व्यवहार और हिंसा से सुरक्षा की गारंटी देंगे? क्या लव जिहाद का राग अलापने वाले इस बात की कसम खा सकते हैं कि केवल अंतर-धार्मिक रिलेशनशिप वाले कपल्स में ही हिंसा होती है?
तो फिर युवा महिलाओं की पुलिसिंग (निगरानी) और उन पर अपनी पसंद थोपना, यहां इस समस्या का हल कैसे हो सकता है? हम महिलाओं को उनके परिवारों के बिना शर्त समर्थन का आश्वासन देकर अपमानजनक रिश्तों से बाहर निकलने में सक्षम बनाने की बात क्यों नहीं कर रहे हैं?

चाहे कुछ भी हो, श्रद्धा वाकर मामला भारतीय पैरेंट्स को अपने बच्चों के साथ कड़वाहट भरे संबंधों के बारे में बात करने के लिए प्रेरित करना चाहिए. शायद ही कभी भारतीय पैरेंट्स अपने बच्चों के साथ रिलेशनशिप में खराब व्यवहार के बारे में बात करते हैं. चूंकि ये मुद्दा पैरेंट्स को असहज कर देता है, इसलिए वे कभी भी बच्चों को ऐसी बात करने के लिए प्रोत्साहित नहीं करते हैं. क्या होगा अगर बच्चे ऐसे सवाल पूछें जिनका जवाब पैरेंट्स नहीं देना चाहते हैं? क्या होगा अगर बच्चे पैरेंट्स को लिविंग रूम के फर्श पर छटपटाते और उबाले मारते हुए छोड़कर हमारे समाज में चल रहे दोहरे मापदंड़ों को उजागर करते हैं?

ADVERTISEMENT

उन रिश्तों का क्या जिनका पैरेंट् की रजामंदी के बावजूद दुखद अंत हुआ?

इसी साल अक्टूबर में, वैवाहिक झगड़े की वजह से एक महिला को उसके पति ने अपनी नौ साल की बेटी के सामने कथित तौर पर मार डाला था. उस बच्ची ने पुलिस को बताया कि उसके माता-पिता अक्सर झगड़ते रहते थे.

सितंबर में, गाजियाबाद के एक व्यक्ति ने कथित तौर पर अपनी पत्नी को बैट से मारा और फिर उसका गला घोंट दिया, जिससे उसकी मौत हो गई. मृतका के माता-पिता ने महिला के पति पर दहेज मांगने का आरोप लगाया था.

मनदीप कौर के मामले को कौन भूल सकता है? अपने पति के हाथों आठ साल तक घरेलू अत्याचार सहने के बाद न्यूयॉर्क में रहने वाली सिख महिला मनदीप कौर ने अगस्त 2022 में आत्महत्या कर ली जिससे उसकी मौत हो गई थी. बाद में कौर के पिता ने अपने दामाद पर 50 लाख रुपये दहेज मांगने का आरोप लगाया.

इस जोड़े या शादी को कौर परिवार का आशीर्वाद (मंजूरी) प्राप्त था फिर भी इस रिश्ते का दर्दनाक अंत हुआ, लेकिन पैरेंट्स द्वारा तय किए गए वैवाहिक जोड़े में दुर्व्यवहार करने वाले पतियों या दहेज की मांग पर प्रवचन या उपदेश कहां है?

हर साल पति या साथ में रहने वाले पार्टनर्स द्वारा अपने साथी पर हिंसा की कई घटनाएं होती हैं, जिनमें से कुछ ही ऐसी होती हैं जो खबर बनती हैं. अफसोस इस बात का है कि हम केवल वाकर -पूनावाला जैसे ही मामलों पर ध्यान देते हैं, जिनका कोई एजेंडा रहता है या वे सनसनीखेज घटनाएं होती हैं.

ADVERTISEMENT

भारत में 30 फीसदी महिलाएं शारीरिक हिंसा का शिकार हुई हैं

घरेलू हिंसा या घरेलू दुर्व्यवहार की हर एक घटना यह दर्शाती है कि इस मुद्दे को हल करने और कमजोर महिलाओं और पुरुषों की रक्षा करने में हम विफल हैं. ऐसी घटनाएं दर्शाती हैं कि हम एक ऐसे समाज का निर्माण करने में असमर्थ रहे हैं जहां एक व्यक्ति इस विश्वास के साथ अपमानजनक या कड़वाहट भरे रिश्ते से बाहर निकल सकता है, उसे समाज से सहानुभूति और सपोर्ट मिलेगा जिसका वह हकदार है. उसे उसके परिवार अस्वीकार नहीं करेंगे या उसके साथी उससे मुंह नहीं मोड़ेंगे.

राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण 5 के अनुसार, भारत में 18 से 49 वर्ष के बीच की 30 फीसदी महिलाओं ने शारीरिक हिंसा का अनुभव किया है. इस आंकड़े से एक बात स्पष्ट है कि कई परिवार अभी भी अपने लड़कों की ऐसी परवरिश नहीं कर रहे हैं कि वे महिलाओं को समान भागीदार के तौर पर देखें. या कम से कम ऐसे इंसान के तौर देखें जिसे भी सम्मान के साथ जीने लायक है. लेकिन, जब घरेलू हिंसा की बात आती है, तो चर्चा यहीं समाप्त नहीं हो सकती.

क्यों न हम अपनी बेटियों और बेटों को रिश्ते की कड़वाहट के शुरुआती संकेतों को पहचानना सिखाएं? हमेशा सामाजिक प्रतिष्ठा से ज्यादा भलाई को प्राथमिकता देने के लिए माता-पिता अपने बच्चों को क्यों नहीं कह सकते?
ADVERTISEMENT

पैरेंट्स का सपोर्ट क्यों जरूरी है?

पैरेंट्स का सपोर्ट न केवल महिलाओं को दुर्व्यवहार या अपमानजनक रिश्तों से बाहर निकलने के लिए प्रोत्साहित कर सकता है बल्कि यह महिलाओं को आवश्यक भावनात्मक, वित्तीय और सामाजिक सपोर्ट भी प्रदान कर सकता है. यह सपोर्ट इस तरह के कदम उठाने के लिए जरूरी होते हैं क्योंकि इस तरह का फैसला उनके जीवन पर बहुआयामी प्रभाव डाल सकता है.

2017 में, मलेशिया में की गई एक स्टडी में यह बात सामने आई थी कि सरकारी एजेंसियों से प्राप्त सहायता के अलावा परिवारों और दोस्तों से बिना किसी शर्त के सपोर्ट होने से घरेलू हिंसा की सर्वाइवर्स महिलाओं को अपमानजनक विवाह से बाहर निकलने की अपनी प्रतिबद्धता को बनाए रखने में मदद मिली है.

केवल पैरेंट्स को ही नहीं बल्कि हम सभी को इस कड़वी सच्चाई को स्वीकार करने की जरूरत है कि हमारे प्रियजन (बेटा या बेटी या कोई नजदीकी) अपने जीवन में ऐसे फैसले लेंगे जो हमें स्वीकार नहीं होंगे. उन फैसलों में से कुछ अच्छे निकल सकते हैं, जबकि अन्य के खराब परिणाम भी हो सकते हैं. जब खराब नतीजे आते हैं तब उस स्थिति में बच्चों या नजदीकी प्रियजन को हमारी चुप्पी या "मैंने तो तुमसे पहले ही कहा था" की जरूरत नहीं होती है. उनको हमारे प्यार, दुलार और दया की जरूरत होती है, जो उन्हें अनिष्ट या नुकसान के रास्ते में जाने से बचा सके और उन्हें एक नई शुरुआत करने में मदद कर सके.

ऐसा करके हम इस तरह की एक और त्रासदी को रोक सकते हैं, लेकिन युवा महिलाओं के शरीर को नियंत्रित करके और उनकी एक्टिविटी में पाबंदी लगाकर ऐसा नहीं कर सकते हैं, क्योंकि इससे अपमानजनक व्यवहार नहीं रुकेगा.

इसके बजाय, आइए हम अपने बच्चों, दोस्तों और साथियों के साथ घरेलू शोषण पर बात करें. आइए इस टैबू विषय के इर्द-गिर्द होने वाले संवाद को बदलें और दोष मढ़ने के खेल में शामिल होने के बजाय इस मामले के इलाज और सपोर्ट जैसे पहलुओं पर फोकस करें.

(यामिनी पुस्ताके भालेराव, द लॉन्ड्री गर्ल ईबुक सीरीज की लेखिका हैं. वह SheThePeople.TV में आइडियाज एडिटर के तौर पर काम कर चुकी हैं. इस लेख में व्यक्त विचार लेखक के अपने हैं. क्विंट न तो इसका समर्थन करता है और न ही इसके लिए जिम्मेदार है.)

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENT
Speaking truth to power requires allies like you.
Q-इनसाइडर बनें
450

500 10% off

1500

1800 16% off

4000

5000 20% off

प्रीमियम

3 माह
12 माह
12 माह
Check Insider Benefits
अधिक पढ़ें
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT
और खबरें
×
×