ADVERTISEMENTREMOVE AD

हम सबको वैक्सीन की इजाजत क्यों नहीं देते? डोज की कमी तो है नहीं  

हमने जितनी वैक्सीन अपने नागरिकों को दी है, उससे कहीं ज्यादा दूसरे देशों को दी है

Published
story-hero-img
छोटा
मध्यम
बड़ा
Hindi Female

क्या आप कभी पुणे गए हैं? ये एक सुंदर, अनूठा शहर है जिसका 2000 साल का अस्तित्व भारत के अशांत इतिहास का एक छोटा रूप है. खिलजी, तुगलक और बहमनी शासकों ने यहां 300 सालों तक राज किया जब तक कि 1600 सदी में अलग-अलग मराठा राजाओं ने इसे समय-समय पर अपने कब्जे में नहीं लिया. इस शताब्दी के दौरान भोंसले परिवार, आदिल शाही राजवंश और मुगलों के बीच यहां की सत्ता को लेकर संघर्ष हुए. पूरे भारत पर राज करने के पहले 1818 में पुणे पर अंग्रेजों का कब्जा हुआ. आधी सदी के बाद गोखले और तिलक के नेतृत्व में भारतीय राष्ट्रवाद का जन्म पुणे में हुआ. महात्मा गांधी भारत छोड़ो आंदोलन के दौरान येरवडा जेल और आगा खान पैलेस में कैद रहे. बा और महादेव देसाई की यहीं मौत हुई. यहां तक कि महात्मा गांधी का हत्यारा भी पुणे से ही था.

ADVERTISEMENTREMOVE AD
मैं इतिहास के अभिशप्त हिस्सों को क्यों याद कर रहा हूं? क्योंकि पुणे हमेशा से वीरता और त्रासदी से जूझता रहा है. विडंबना ये है कि अब, जब स्वतंत्र भारत कोविड 19 से अपनी सबसे बड़ी चुनौती का सामना कर रहा है, पुणे एक बार फिर अपने तेजी से विभाजित तकदीर से लड़ रहा है. दुख की बात ये है कि ये दर्द हमारे ही नीति निर्माताओं की अदूरदर्शिता के कारण मिला है.

पुणे का कोविड 19 संकट

फिलहाल, पुणे में कोविड 19 के करीब-करीब 25,000 एक्टिव मामले हैं जो देश में किसी एक शहर के लिए सबसे ज्यादा हैं. पिछले 12 महीनों में करीब-करीब 4.50 लाख पुणे निवासी कोराना की चपेट में आए हैं. आज, देश के हर आठ नए मामलों में एक पुणे का है, हर दिन लगभग 3,000 मामले आ रहे हैं. मुंबई और दिल्ली के बाद यहां सबसे ज्यादा 10,000 मौतें भी हुई हैं.

0

पुणे का कोविड 19 पराक्रम

चिराग तले अंधेरा एक बहुत ही जोरदार मुहावरा है. ये पुणे की कोविड 19 की वास्तविकता पर पूरी तरह फिट बैठता है. क्योंकि जो शहर कोरोना वायरस से सबसे ज्यादा प्रभावित है वही सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (एसआईआई) की जन्मभूमि भी है जो इस स्वास्थ्य समस्या को खत्म करने के लिए पूरी दुनिया में बहादुरी के साथ लड़ाई लड़ रही है.

एसआईआई की स्थापना 1966 में प्रतिष्ठित और मस्तमौला डॉ. सायरस पूनावाला ने की थी. वो काफी सफल रहे. आज, एसआईआई हर साल 1.5 अरब डोज के साथ दुनिया का सबसे बड़ा इम्यूनो बायोलॉजिकल्स का उत्पादक है. दुनिया में हर तीन में से दो बच्चे को सीआईआई में बनी कम से कम एक वैक्सीन ही दी जाती है. अब उनके उद्यमी बेटे अदार पूनावाला इसे संभाल रहे हैं. 2020 की दूसरी छमाही में एसआईआई ने तब तक बिना मंजूरी वाली ऑक्सफोर्ड वैक्सीन पर साहसिक दांव खेला. उन्होंने ट्रायल में चल रही वैक्सीन के बड़े स्तर पर उत्पादन के लिए करीब 800 मिलियन डॉलर जुटाए. उन्होंने बीबीसी न्यूज को बताया कि “मैंने समय से पहले 6 करोड़ डोज तैयार कर लिए थे और उन्हें अपने गोदाम में बंद कर दिया था.”

ADVERTISEMENT
अदार पूनावाला को अब हर महीने 6 करोड़ डोज की डिलीवरी करने का भरोसा है. इस संख्या को याद रखें-6 करोड़- क्योंकि मैं जल्द ही इस पर लौटूंगा.  

पुणे का ईज ऑफ डूइंग बिजनेस.. उफ्फ, वैक्सीनेशन

अपने जबरदस्त ऑटो और इंफॉरमेशन टेक्नोलॉजी इंडस्ट्री के कारण पुणे को भारत का डेट्रॉएट और सिएटल कहा जा सकता है. शहर के 25 लाख कामगारों का एक बड़ा हिस्सा संगठित सेक्टर में काम करता है जिनको टैग, ट्रैक और मॉनिटर करना आसान है. इसलिए अगर पुणे जल्द से जल्द 50 लाख वयस्कों (70 लाख की कुल आबादी में) को वैक्सीन लगा दे तो ये कोविड 19 को पूरी तरह से, हर तरह से मात दे सकता है. अब एक गहरी सांस लीजिए और कुछ मुख्य आंकड़ों को देखिए.

  • एसआईआई पुणे में हर महीने 6 करोड़ डोज का उत्पादन कर सकती है, जिसका आधा से ज्यादा हिस्सा विदेश भेजा जा सकता है. भारत बायोटेक जैसी दूसरी कंपनियां भी हर महीने एक करोड़ से ज्यादा डोज का उत्पादन कर सकती हैं. इस उत्पादन की तुलना में हम हर महीने देश में बमुश्किल 5 करोड़ डोज का इस्तेमाल कर रहे हैं.
  • बेहाल पुणे को कोविड फ्री होने के लिए सिर्फ एक करोड़ डोज की जरूरत है (50 लाख वयस्कों को दो डोज के हिसाब से). दरअसल पुणे के उद्योगों को तेजी के साथ अपने कर्मचारियों को वैक्सीन देने की चुनौती से खुशी होगी. इससे वयस्कों की एक बड़ी जनसंख्या को वैक्सीन लग जाएगी. जिला प्रशासन को भी कोई परेशानी नहीं उठानी होगी.
  • इसलिए एसआईआई को अपने प्यारे शहर पुणे को महामारी से मुक्ति दिलाने के लिए सिर्फ अपने एक महीने के निर्यात का एक-तिहाई-सिर्फ एक तिहाई हिस्सा और वो भी सिर्फ एक महीने के लिए- यहां देना होगा!
  • और इस पूरे काम को पूरा का पूरा 8 हफ्ते में खत्म किया जा सकता है!
ADVERTISEMENTREMOVE AD

पुणे के अलावा 13 दूसरे शहरों में भी जहां ज्यादा मामले हैं वहां कोविड 19 को इसी तरह मात दी जा सकती है.

हम सभी भारत में करीब दिखाई दे रहे कोरोना की दूसरी लहर से डरे हुए हैं. लेकिन सौभाग्य से इस बार संक्रमण असाधारण तौर पर कुछ जगहों पर ही ज्यादा हैं. सिर्फ 13 जिले ही ऐसे हैं जहां हर दिन 200 से अधिक मामले आ रहे हैं. अगर हम प्रति जिला 30-40 लाख वयस्कों का औसत भी लें, तो इन हॉटस्पॉट इलाकों में दूसरी लहर पर काबू पाने के लिए कुल 10 करोड़ डोज की जरूरत पड़ेगी तब जाकर यूनिवर्सल इम्यूनाइजेशन या सबका टीकाकरण हो सकेगा।

तो हमें किस बात ने रोक रखा है?

लेकिन एक बड़ी समस्या है जिसने सबकुछ रोक रखा है. हमारे नीति निर्माताओं ने वैक्सीन के हर किसी तक पहुंच पर पाबंदी लगाई हुई है. एक वयस्क व्यक्ति सीधे-सीधे जाकर वैक्सीन नहीं ले सकता. पुरुष या महिला की उम्र कम से कम 60 साल होनी चाहिए या 45 का ऊपर होने पर उसे दूसरी गंभीर बीमारियां होनी चाहिए. ये शर्म की बात है.

जब देश अपनी टीकाकरण क्षमता का आधे से भी कम का इस्तेमाल कर रहा है तो ये बात हैरान करती है कि हम खतरे में पड़ी आबादी को वैक्सीन लेने से रोक रहे हैं.

दरअसल जब आप इन तथ्यों को देश में वैक्सीनेशन शुरू होने के बाद रख कर देखें तो त्रासदी और उभर कर दिखाई देती है (मैं ये आर्टिकल लिखने के दिन तक लगभग, पूर्ण संख्या का इस्तेमाल कर रहा हूं).

ADVERTISEMENT
  • भारत में 3.5 करोड़ टीके दिए जा चुके हैं, छह करोड़ डोज निर्यात किए गए हैं. हां मुझे पता है कि आप हैरान हैं, लेकिन सच्चाई यही है कि हमने जितनी वैक्सीन अपने नागरिकों को दी है उससे कहीं ज्यादा दूसरे देशों को दी है, एक बहुत ही खराब 60:35 का औसत. क्या इस अनुपात को उल्टा नहीं होना चाहिए?
  • 1 मार्च से जब से हमने निजी स्वास्थ्य केंद्रों पर टीकाकरण को अनुमति दी है, हम हर दिन औसतन बमुश्किल 15 लाख टीके तक पहुंच पा रहे हैं- जो कि हमारी वैक्सीनेशन क्षमता 60 लाख डोज प्रति दिन का एक-चौथाई है. इसलिए हमारी टीकाकरण क्षमता का तीन-चौथाई हिस्सा ऐसे ही बेकार हो रहा है.

अंत में, निष्कर्ष निकालने के लिए, आइए, सख्ती और सरलता से ये सवाल पूछते हैं: हम खतरे में पड़े वयस्कों को, उनकी उम्र या बीमारी पर ध्यान दिए बिना, टीका लेने से क्यों रोक रहे हैं जब हमारी वैक्सीनेशन की क्षमता बहुत ज्यादा है और बड़ी मात्रा में टीके भी उपलब्ध हैं?

(राघव बहल क्विंटिलियन मीडिया के को-फाउंडर और चेयरमैन हैं, जिसमें क्विंट हिंदी भी शामिल है. राघव ने तीन किताबें भी लिखी हैं-'सुपरपावर?: दि अमेजिंग रेस बिटवीन चाइनाज हेयर एंड इंडियाज टॉरटॉइस', "सुपर इकनॉमीज: अमेरिका, इंडिया, चाइना एंड द फ्यूचर ऑफ द वर्ल्ड" और "सुपर सेंचुरी: व्हाट इंडिया मस्ट डू टू राइज बाइ 2050")

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENTREMOVE AD
सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
अधिक पढ़ें
ADVERTISEMENT
×
×