ADVERTISEMENTREMOVE AD

दूसरे एक्सपेरिमेंट नहीं चले तो मायावती चलीं भाई-भतीजावाद की ओर

मायावती ने जो सोचा, जब जो समझा, वही किया और उसी को सही माना

Published
story-hero-img
i
छोटा
मध्यम
बड़ा

साल 1993, जगह लखनऊ का बेगम हजरत महल पार्क. लीडर ऑफ दलित कांशीराम ने मायावती का हाथ उठाकर उन्हें अपना उत्तराधिकारी घोषित किया था. साल 2019, जगह लखनऊ का बीएसपी कार्यालय. मायावती ने अपने भाई आनंद कुमार को राष्ट्रीय उपाध्यक्ष और भतीजे आकाश आनंद को पार्टी का नेशनल कोऑर्डिनेटर घोषित कर दिया. तब कांशीराम ने भाई-भतीजे से दूर बीएसपी के उत्तराधिकारी का ऐलान किया था और अब मायावती ने भाई और भतीजे को डिप्टी सुप्रीमो बना डाला है. इस तरह, जो कल तक परिवारवाद के खिलाफ जहर उगलती थी, वो पार्टी अब खुद परिवारवाद की राह पर है.

ADVERTISEMENTREMOVE AD
गौर करने की बात है कि मायावती ऐसी हैं क्यों? 2010 में लखनऊ के रमाबाई अंबेडकर पार्क में मायावती ने नोटों की माला पहनी. इसकी चौतरफा आलोचना हुई. लेकिन, अगले ही दिन पार्टी कार्यालय में मायावती ने फिर नोटों की माला पहनी और साबित कर दिया कि जो वो सोचती हैं वही करती हैं. वो जिद्दी हैं और शायद इसी जिद का नतीजा है कि अब भाई और भतीजा पार्टी नेतृत्व में हैं.

मायावती की जिद

एक और मसला हुआ जब नारा लगा ‘तिलक तराजू और तलवार, इनको मारो जूते चार’. फिर एक नारा लगा ‘चढ़ गुंडों की छाती पर, मोहर लगेगी हाथी पर’. नारा फिर एक लगा ‘हाथी नहीं गणेश है, ब्रह्मा विष्णु महेश है’. नारों की इस कड़ी का अंतिम नारा था ‘मीम और भीम’. इन नारों पर नजर डालें तो मायावती का पूरा सफर और जिद साफतौर पर सामने आते हैं. पहले अगड़ी जातियों की मुखालफत, फिर यादवों के खिलाफ हल्ला बोल. सफर आगे बढ़ा और सोशल इंजीनियरिंग ने दलित हाथी को ब्राह्मणों का गणेश बना दिया. और अब ये सफर मुसलमानों और दलित के कॉम्बिनेशन को लेकर आगे बढ़ रहा है. ‘न खाता न बही, जो बहनजी कहें वही सही’.

इसमें कोई शक नहीं कि कांशीराम के दलित मूवमेंट में मायावती ने एग्रेशन का तड़का लगाया है. यही वजह है कि मायावती ने जो सोचा, जब जो समझा, वही किया और उसी को सही माना.

कांशीराम के करीबी आर के चौधरी, बाबू सिंह कुशवाहा, दीनानाथ भास्कर, साधुराम कुशवाहा, नसीमुद्दीन सिद्दीकी, दद्दू प्रसाद, इंद्रजीत सरोज, स्वामी प्रसाद मौर्य, रामवीर उपाध्याय, जुगलकिशोर, बरखूराम वर्मा, केके गौतम जैसे नेता सिर्फ मायावती की जिद में तितर-बितर हो गए. ये सभी नेता कांशीराम के ‘सॉफ्ट दलित मूवमेंट’ के पैरोकार थे, जबकि मायावती ने इस मूवमेंट को ‘पॉलिटिकल एम्बिशिन’ बना डाला.

1993 में कांशीराम ने समाजवादी पार्टी से हाथ मिलाकर एक बुनियाद रखी. लेकिन गेस्ट हाउस कांड होते ही 1995 में मायावती ने बीजेपी से समर्थन लेकर सरकार बनाने में कोई हिचक नहीं दिखाई. 1997 और 2002 में भी ऐसा ही हुआ. जैसे मायावती को इस बात की फिक्र ही नहीं थी कि बीजेपी और बीएसपी दो अलग-अलग पॉलिटिकल कॉरिडोर हैं या यूं कहें कि राजनीति विचारधारा में दोनों 36 के मानिंद हैं.

पार्टी के गिरते ग्राफ का ठीकरा किसी और पर

कोई शक नहीं कि पार्टी का ग्राफ लगातार नीचे जा रहा है. 2012 के विधानसभा चुनाव में बीएसपी हाशिये पर चली गई और दो साल बाद 2014 के लोकसभा चुनाव में पार्टी का खाता तक नहीं खुला. 2017 के विधानसभा चुनाव में बीएसपी को सिर्फ 19 सीटें मिलीं और गुजरे 2019 के लोकसभा चुनाव में पार्टी के सिर्फ 10 सांसद चुने गए, वो भी अखिलेश यादव से हाथ मिलाने के बाद.

2014 के लोकसभा चुनाव में बीएसपी को तकरीबन 14 फीसदी दलितों ने वोट किया, जबकि बीजेपी को दलितों के 24 परसेंट वोट मिले. लेकिन एक बार फिर मायावती अपनी पार्टी और दलित मूवमेंट की गिरती साख का ठीकरा समाजवादी पार्टी पर फोड़ चुकी हैं.

मायावती ने साफ कहा, “अखिलेश यादव ने बुरी तरह चुनाव हारने के बाद भी फोन तक नहीं किया. अखिलेश ने मुसलमानों को ज्यादा टिकट न देने की बात कही थी और वो ही यादव वोटों के बिखराव के लिए जिम्मेदार हैं.” मायावती का तो यह भी आरोप है कि बीएसपी के प्रदेश अध्यक्ष आरएस कुशवाहा को समाजवादी पार्टी के नेता सदन राम कोविंद चौधरी ने सलेमपुर सीट से चुनाव हराया. मायावती का कहना है कि उन्होंने अखिलेश से इसकी शिकायत भी की. लेकिन, उन्होंने कोई कार्रवाई नहीं की.
ADVERTISEMENTREMOVE AD

1993 से 2019 तक मायावती के सफर को स्कैन किया जाए तो तस्वीर एकदम साफ हो जाती है कि उनकी पॉलिटिक्स अगर कोई तय करता है तो वो हैं खुद मायावती.

5 मई 2019 की प्रतापगढ़ रैली में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा था कि अखिलेश यादव और राहुल गांधी आपस में हाथ मिला चुके हैं. पीएम ने कहा, "ये दोनों मायावती की पीठ पर छुरा घोंप रहे हैं. मायावती को यह धोखा चुनाव के बाद पता चलेगा." लेकिन मायावती ने अगले ही दिन प्रेस कॉफ्रेंस बुलाकर मोदी के इस बयान को मोदी की एक चाल बताया था.

ADVERTISEMENTREMOVE AD

बीएसपी 2022 विधानसभा चुनाव कैसे लड़ेगी?

बहरहाल, अब मुद्दा यह है कि मायावती 2022 का विधानसभा चुनाव लड़ेंगी कैसे? जाहिर है, उनको भी समझ में आ चुका है कि बीजेपी को गठबंधन के जरिए नहीं हराया जा सकता, लिहाजा वे अकेले लड़ेंगी. मायावती भी जानती हैं कि प्रमोशन में आरक्षण की जो व्यवस्था उन्होंने लगाई थी, उसे अखिलेश यादव ने खत्म कर दिया था. जिसकी वजह से दलित उनसे (मायावती से) नाराज हैं.

अपने भाई आनंद को उन्होंने 2010 में पार्टी उपाध्यक्ष बनाया था और बाद में ये कह कर हटा दिया था कि उनपर परिवारवाद का आरोप लग रहा है. लेकिन फिर भाई और भतीजे को राष्ट्रीय उपाध्यक्ष और नेशनल को-ऑर्डिनेटर बनाकर मायावती ने साफ कर दिया है कि उन्हें अब पार्टी की चिंता है, नेताओं का टोटा है और परिवार से बेहतर शायद कोई पार्टी नहीं चला सकता.

फिलहाल, मायावती की जिद और जिद्दी फैसलों के बीच ये फैसले की एक और कड़ी है, जो कब तक जुड़ी रहेगी और कब टूट जाएगी इसका अंदाजा लगाना मुश्किल ही नहीं, नामुमकिन भी है.

शायद मायावती को ममता बनर्जी का स्टाइल ऑफ पॉलिटिक्स पसंद आ गया है और उन्हें समझ में आ रहा है कि अब देश की राजनीति में ‘मोदी बनाम राहुल’ की जगह ‘मोदी बनाम ममता’ ने ले ली है. शायद यही वजह है कि मायावती ने भाई, भतीजे की जानिब से पार्टी चलाने और ‘मोदी बनाम ममता’ की पॉलिटिक्स को उत्तर प्रदेश में ‘मोदी बनाम मायावती’ के तौर पर स्थापित करने का ब्लू प्रिंट तैयार किया है.

फिलहाल दो साल तक इंतजार करना होगा और फिर देखना होगा कि मायावती के इन फैसलों की बयार कैसी बही.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
अधिक पढ़ें
×
×