ADVERTISEMENTREMOVE AD

राफ्टिंग पर पाबंदी रही तो ऋषिकेश में एडवेंचर का मजा चला जाएगा

राफ्टिंग और पैराग्लाइडिंग पर रोक से पर्यटकों में मायूसी

Updated
 राफ्टिंग पर पाबंदी रही तो ऋषिकेश में एडवेंचर का मजा चला जाएगा
i
Like
Hindi Female
listen

रोज का डोज

निडर, सच्ची, और असरदार खबरों के लिए

By subscribing you agree to our Privacy Policy

पिछले वीकएंड मैं अपने कुछ दोस्तों के साथ हरिद्वार-ऋषिकेश के लिए निकला था. काफी प्लानिंग के बाद हमारा ग्रुप तैयार हुआ था और हम भारी उत्साह में राफ्टिंग करने इस ट्रिप पर जा रहे थे. लेकिन ऋषिकेश पहुंचते ही सारे जोश और उत्साह पर गंगा का ठंडा पानी पड़ गया. पता चला कि अब यहां ना तो राफ्टिंग होगी और ना पैराग्लाइडिंग. उत्तराखंड हाईकोर्ट के आदेश पर सब कुछ बंद करा दिया गया है.

पहले यकीन नहीं हुआ. लेकिन खबर पक्की थी. हम सभी दोस्त मायूस थे. राफ्टिंग की वजह से आया जोश और जुनून गायब हो चुका था.

ये भी देखें- वाराणसी: अस्सी घाट तो चमका दिया, बाकी 84 घाटों का क्या होगा

ADVERTISEMENTREMOVE AD

हमारी तरह दोस्तों की दो-तीन और भी टोली वहां मिली. जब उन्हें भी खबर पता चली तो मस्ती और शोर-शराबा थम गया. समझ नहीं आ रहा था कि अब ऋषिकेश में हम क्या करेंगे.

कोर्ट का फैसला एक बड़ा झटका

कोर्ट के फैसले पर सवाल नहीं उठा रहे, लेकिन ये भी सच है कि इससे एडवेंचर टूरिज्म पसंद करने वाले हमारे जैसे हजारों सैलानियों को मायूसी हुई है. राफ्टिंग के रोजगार में जुटे लोगों के लिए भी ये किसी बड़े झटके से कम नहीं है.

ADVERTISEMENTREMOVE AD
शांत और खामोश सा दिख रहा है अब ऋषिकेश का नजारा
(फोटोः प्रसन्न प्रांजल)
ADVERTISEMENTREMOVE AD

बदला-बदला सा दिखा नजारा

मैं पिछले 6 साल से हर साल गर्मी के मौसम में लगातार ऋषिकेश जाता रहा हूं. लेकिन इस बार जब ऋषिकेश पहुंचा तो काफी कुछ बदला-बदला सा लगा. जो युवा अपने जोश और साहस का इम्तिहान लेने यहां आते थे वो नजर नहीं आ रहे थे.

शिवपुरी से लेकर ऋषिकेश जहां दिनभर राफ्टिंग का जुनून दिखता था वो पूरा इलाका इतना शांत दिखा कि नदी की धारा भी सुस्त नजर आने लगी. 
कभी इस तरह राफ्टिंग करते हुए दिखते थे सैलानी
(फोटोः सोशल मीडिया)

राम झूला और लक्ष्मण झूला के आसपास जिन इलाकों में कभी राफ्टिंग और पैराग्लाइडिंग दुकानदार पर्यटकों को आवाज लगाकर बुलाते नजर आते थे. वहां सन्नाटा पसरा था. दुकानों के शटर डाउन थे. जो दुकाने खुली थीं वहां भी दुकानदारों के चेहरे पर मायूसी साफ दिख रही थी. मैंने एक दुकानदार मोहन पेटवाल से पूछा कि क्या राफ्टिंग का कोई सीन है?

“अब तो गंगा में हम बोट उतार भी नहीं सकते, राफ्टिंग कहां से करवाएंगे. कोर्ट ने हमारे साथ नाइंसाफी की है. कुछ लोगों की गलती की सजा हमें मिल रही है. हमारा घर-परिवार इससे चलता था. अब पता नहीं कैसे क्या होगा.”
दुकानदार, ऋषिकेश
ADVERTISEMENTREMOVE AD
ADVERTISEMENTREMOVE AD

रोजगार पर पड़ेगा असर

कोर्ट का ये फैसला राफ्टिंग के बिजनेस में लगे लोगों के साथ-साथ उत्तराखंड सरकार के लिए बड़ा झटका है. क्योंकि उत्तराखंड सरकार को एडवेंचर टूरिज्म और वाटर स्पोर्ट्स से बड़ी कमाई होती है. इस इलाके में राफ्टिंग के लिए करीब 300 लाइसेंस दिए गए थे और सीजन में करीब 400-450 बोट गंगा की लहरों पर दौड़ती थी.

राफ्टिंग से काफी लोगों का रोजगार जुड़ा था. इस वजह से गढ़वाल क्षेत्र के टिहरी और पौड़ी गढ़वाल जिलों के गंगा से जुड़े इलाकों से लोगों का शहरों की तरफ जाना लगभग बंद हो गया था. लेकिन अब इस पर रोक लगने के बाद असर पड़ेगा.

गंगा नदी के आस-पास होने वाली एक्टिविटी पर हाईकोर्ट की चिंता वाजिब है. क्योंकि मैंने भी पहले ये नोटिस किया था कि राफ्टिंग के नाम पर गंगा के किनारे टूरिस्ट शराब का भरपूर सेवन करते नजर आते थे, और नदी में कूड़ा कचरा डालकर उसे प्रदूषित किया जा रहा था. पर्यावरण के हिसाब से ये बिल्कुल भी जायज नहीं था. हाईकोर्ट ने साफ-साफ कहा है कि ये बर्दाश्त नहीं किया जा सकता.

ADVERTISEMENTREMOVE AD
ऋषिकेश आने वाले पर्यटकों में मायूसी
(फोटोः प्रसन्न प्रांजल)
ADVERTISEMENTREMOVE AD

बॉल सरकार की कोर्ट में

ऋषिकेश में राफ्टिंग हो या नहीं ये अब राज्य सरकार के एक्शन पर तय होगा. उत्तराखंड हाईकोर्ट ने साफ कहा है कि राफ्टिंग पर लगी रोक स्थायी नहीं है पर जब तक सरकार पर्यावरण और लोगों की सुरक्षा के लिए साफ नीति नहीं बनाता तब तक रोक बनी रहेगी.

सरकार को इसके लिए दो हफ्ते का वक्त दिया गया है.

ये भी पढ़ें- उत्तराखंड में नहीं होगी रिवर राफ्टिंग और पैराग्लाइडिंग, HC का बैन

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

Published: 
सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
और खबरें
×
×