Lohri 2020: जानिए लोहड़ी का महत्व, इसलिए डालते हैं आग में रेवड़ी

लोहड़ी को सूर्य के दक्षिणायन से उत्तरायण होने का पर्व भी माना जाता है.

Updated
धर्म और अध्यात्म
2 min read
Happy Lohri 2020: जानिए लोहड़ी से जुड़ी कुछ खास बातें.
i

लोहड़ी (Lohri) का त्योहार हर साल 13 जनवरी को मनाया जाता है. यह मुख्य रूप से पंजाबियों का त्योहार है. लोहड़ी का पर्व शरद ऋतु में मनाया जाता है. इस त्योहार की खास रौनक पंजाब में देखने को मिलती है. हालांकि इस पर्व को हरियाणा और दिल्ली भी धूमधाम से मनाया जाता है. लोहड़ी को सूर्य के दक्षिणायन से उत्तरायण होने का पर्व भी माना जाता है.

लोहड़ी ( Lohri ) को फसलों का त्योहार माना जाता है. इस समय फसलों की कटाई की जाती है. लोहड़ी पर विशेष रुप से गन्ने की कटाई की जाती है. यही कारण है कि इस त्योहार पर गुड़ और गजक का भी इस्तेमाल किया जाता है.

Lohri की आग में इसलिए अर्पित करते हैं गजक-रेवड़ी

लोहड़ी की आग में गजक और रेवड़ी अर्पित करना शुभ माना जाता है. इस पर्व पर भी होलिका दहन की तरह ही लकड़ियों का ढ़ेर बनाया जाता है. शाम के समय लकड़ियों को जलाकर आग के आसपास लोग नाचते-गाते हैं. माताएं अपने छोटे बच्चों को लोहड़ी की आग तपाती हैं.

हिंदु शास्त्रों के अनुसार, अग्नि में अर्पित की गई सामग्री देवताओं तक पहुंचती है. लोहड़ी की पवित्र आग में मूंगफली, तिल के लड्डू और रेवड़ी के अलावा गजक को भी अर्पित किया जाता है. इस सामग्री को तिलचौली कहते हैं. आग में इस सामग्री को अर्पित तक भगवान से धनधान्य से भरपूर होने का आशीर्वाद मांगते हैं. इसके अलावा अग्निदेव से आने वाले साल में भी कृषि उन्नत होने की कामना की जाती है.

Lohri 2020: पुरुष भंगड़ा और महिलाएं करती हैं गिद्दा

लोहड़ी का त्योहार समाज के कल्याण भाव को भी दिखाता है. इस दिन पुरुष भंगड़ा और महिलाएं गिद्दा करती हैं. लोग सांस्कृतिक गीत गाकर डांस करते हैं और एक-दूसरे को लोहड़ी की बधाई देते हैं.

कोरोनावायरस से जारी जंग के बीच तमाम अपडेट्स और जानकारी के क्लिक कीजिए यहां

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram और WhatsApp चैनल से जुड़े रहिए यहां)

Published: 
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!