ADVERTISEMENTREMOVE AD

Dhanteras-Diwali पर कहां करें निवेश, जिससे मिलेगा ज्यादा रिटर्न? 5 टिप्स

Glod Investment: सोना खरीदने की योजना बना रहे निवेशकों के पास क्या विकल्प है?

Updated
story-hero-img
i
छोटा
मध्यम
बड़ा
Hindi Female

धनतेरस (Dhanteras) से शुरू हो रहा दिवाली (Diwali) का पर्व लोगों को निवेश का मौका भी देता है, सोने-चांदी (Gold Investment) में निवेश, प्रॉपर्टी (Property) में या कहीं और. इस दिन को शुभ मानते हुए निवेश की योजना कई लोग मना रहे होंगे. साथ ही पहली बार निवेश करने वाले भी इस त्योहार का इंतजार कर रहे होंगे.

तो धनतेरस और दिवाली के अवसर पर कहां कर सकते हैं निवेश, कैसी हो सकती है निवेश की रणनीति? पहली बार निवेश कर रहे हैं तो कैसे और कहां से करें शुरुआत?

Dhanteras-Diwali पर कहां करें निवेश, जिससे मिलेगा ज्यादा रिटर्न? 5 टिप्स

  1. 1. सोना खरीदने की योजना बना रहे निवेशकों के पास क्या विकल्प है?

    धनतेरस पर सोने में निवेश करने का विकल्प अच्छा है. जब शेयर मार्केट में बहुत उतार चढ़ाव हो और गिरावट बनी हुई हो तो ऐसे में सोना कभी निराश नहीं करता है, लॉन्ग टर्म में ही सही लेकिन सोना अच्छा रिटर्न देता है. इस समय सोना खरीदने का मौका अच्छा है, क्योंकि दाम पिछले साल के मुकाबले कम है. इस समय एमसीएक्स पर सोने की कीमत 50 हजार रुपये के आसपास चल रही है. ऐसे में तीन तरीकों से सोने में निवेश किया जा सकता है.

    गोल्ड ईटीएफ (ETF): निवेशकों के पास स्टॉक एक्सचेंज पर गोल्ड ईटीएफ की यूनिट खरीदने और बेचने का विकल्प होता है. गोल्ड ईटीएफ सालभर में ही अच्छा रिटर्न देते हैं. इसके लिए आपको डीमैट अकाउंट चाहिए होगा.

    सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड: सोने में सुरक्षित निवेश सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड को माना जाता है क्योंकि यह भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा जारी किए जाते हैं, इसमें सोने की गुणवत्ता की चिंता भी नहीं होती है. SGB पर सालाना 2.5 फीसदी का ब्याज भी मिलता है. बॉन्ड की मैच्योरिटी पूरी होने पर निवेशकों को 1 ग्राम सोना की मौजूदा कीमत के हिसाब से भुगतान किया जाता है.

    डिजिटल गोल्ड:डिजिटल गोल्ड ऑनलाइन सोना खरीदने का तरीका है. इसके जरिए गोल्ड आपके पास फिजिकल ना होकर डिजिटल वॉलेट में स्टोर हो जाएगा. इसकी भी आप खरीदी बिक्री कर सकते हैं. वहीं आप डिजिटल गोल्ड को फिजिकल गोल्ड में भी कुछ अतिरिक्त चार्जेज देकर बदल सकते हैं.

    Expand
  2. 2. किन सेक्टर्स में कर सकते हैं निवेश?

    मिंट से बातचीत में अपसाइड एआई के को-फाउंडर धनतेरस, दिवाली के त्योहार के साथ अतनु अग्रवाल ने कहा कि हम मशीन के जरिए इंवेस्ट करते हैं जो कि निवेश करने से पहले मार्केट को समझता है, इसका फायदा है कि ये लोगों की तरह किसी भावना में निवेश नहीं करता. अतनु अग्रवाल ने बताया कि निवेशक फार्मा सेक्टर्स, बैंकिग, फाइनेंशियल और इंश्यॉरेंस सेक्टर्स, सीमेंट, इंडस्ट्रीयल सेक्टर्स या केमिक्ल में निवेश कर सकते हैं.

    इसके अलावा यह भी ध्यान रखना चाहिए कि धनतेरस, दिवाली के त्योहार के अलावा मार महंगाई की भी है और खतरा मंदी का है. इसलिए कुछ ऐसे सेक्टर्स में भी निवेश करना चाहिए जो महंगाई/मंदी से दूर हो या उनपर इसका असर नहीं पड़ता हो. एक्सपर्ट इसके लिए खासकर दो सेक्टर्स का सुझाव देते हैं. एक है, एफएमसीजी- फास्ट मूविंग कंज्यूमर गुड यानी की खाने पीने का आइटम, जैसे दूध, मैगी या फ्रिज, टीवी, आदी और दूसरा है पावर एनर्जी के सेक्टर्स.

    Expand
  3. 3. कैसा हो पोर्टफोलियो?

    इस दिवाली आप अपने पोर्टफोलियो को भी ठीक कर ले. सबसे जरूरी बात जब शेयर बाजार में बड़ा उतार चढ़ाव हो, महंगाई और मंदी का खतरा हो तो ऐसे में अर्थशास्त्री शरद कोहली कहते हैं आपको अपने पोर्टफोलियो का 10 से 15 फीसदी निवेश गोल्ड में रखना चाहिए. इसके अलावा- एक ही फंड हाउस के सभी फंड न लें, फाइनेंशियल एक्सपर्ट से सलाह से और खराब फंड की पहचान कर उससे बाहर निकले. पोर्टफोलियो को डाइवर्सिफाय करना तो जरूरी है लेकिन कई बार बहुत ज्यादा डाइवर्सिफिकेशन भी नुकसानदायक होता है.

    इसके अलावा एक्सपर्ट सुझाते हैं जो बिल्कुल रिस्क नहीं लेना चाहते हैं वे एफडी में निवेश करें जिसपर आजकल ठीक-ठीक रिटर्न मिल रहा है, इसके अलावा प्रोविडेंट फंड, सरकारी बॉन्ड में निवेश की सलाह भी जाती है. गोल्ड में निवेश करना है तो सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड में ही निवेश करें और अपने पोर्टफोलियो को बेहतर बनाएं.

    Expand
  4. 4.  निवेश की रणनीति कैसी हो?

    मिंट से बातचीत में अतनु अग्रवाल ने बताया कि, पैसा बनाने के लिए मजबूत निवेश चाहिए. मजबूत निवेश का एक मतलब होता है आप ऐसी जगहों पर निवेश करें जिनका आपस में कोई लेना देना नहीं है. जैसे इक्विटी (शेयर मार्केट) और फिक्सड डिपॉजिट इन दोनों में कोई संबंध नहीं है. एक तरफ जहां शेयर बाजार में उतार चढ़ाव होता है वहां फिक्सड डिपॉजिट में ब्याज दर एक ही होती है. इसलिए आप स्टॉक्स, डेट (Debt) और एफडी तीनों में निवेस करें. इसी तरह गोल्ड, रियल एस्टेट और क्रिप्टो में भी आपस में कोई संबंध नहीं है.

    Expand
  5. 5. निवेश के लिए ज्यादा पैसे नहीं है तो SIP करे

    अगर कोई इस दिवाली पर पहली बार निवेश करना शुरू करना चाहता है या किसी की शिकायत हो कि उसके पास निवेश के लिए ज्यादा पैसे नहीं है तो ऐसे लोग एसआईपी में निवेश कर सकते हैं. आप अपनी छोटी सी बचत का हर महीने सिस्‍टमेटिक इन्‍वेस्‍टमेंट प्‍लान (SIP) के जरिए निवेश कर सकते हैं. म्‍यूचुअल फंड्स की कई ऐसी स्‍कीम्‍स हैं, जिनमें महज 100 रुपये की मंथली SIP भी हो सकती है. आप तय कर सकते हैं कि आप हर महीने कितना निवेश करना चाहते हैं. SIP में सालों साल तक निवेश करके रखने से छोटा सा छोटा फंड भी बड़ा रिटर्न देता है.

    SIP में निवेश करना बहुत आसान है. आप किसी भी फाइनेंस से जुड़ी एप को डाउनलोड कर निवेश कर सकते हैं या तो आपके बैंक के जरिए भी एसआईपी में निवेश हो जाएगा. इसके लिए केवल नो योर कस्‍टमर (KYC) पूरा करना होता यानी आधार कार्ड, पैन कार्ड जैसी डॉक्‍यूमेंट्स.

    (हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

    Expand

सोना खरीदने की योजना बना रहे निवेशकों के पास क्या विकल्प है?

धनतेरस पर सोने में निवेश करने का विकल्प अच्छा है. जब शेयर मार्केट में बहुत उतार चढ़ाव हो और गिरावट बनी हुई हो तो ऐसे में सोना कभी निराश नहीं करता है, लॉन्ग टर्म में ही सही लेकिन सोना अच्छा रिटर्न देता है. इस समय सोना खरीदने का मौका अच्छा है, क्योंकि दाम पिछले साल के मुकाबले कम है. इस समय एमसीएक्स पर सोने की कीमत 50 हजार रुपये के आसपास चल रही है. ऐसे में तीन तरीकों से सोने में निवेश किया जा सकता है.

गोल्ड ईटीएफ (ETF): निवेशकों के पास स्टॉक एक्सचेंज पर गोल्ड ईटीएफ की यूनिट खरीदने और बेचने का विकल्प होता है. गोल्ड ईटीएफ सालभर में ही अच्छा रिटर्न देते हैं. इसके लिए आपको डीमैट अकाउंट चाहिए होगा.

सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड: सोने में सुरक्षित निवेश सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड को माना जाता है क्योंकि यह भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा जारी किए जाते हैं, इसमें सोने की गुणवत्ता की चिंता भी नहीं होती है. SGB पर सालाना 2.5 फीसदी का ब्याज भी मिलता है. बॉन्ड की मैच्योरिटी पूरी होने पर निवेशकों को 1 ग्राम सोना की मौजूदा कीमत के हिसाब से भुगतान किया जाता है.

डिजिटल गोल्ड:डिजिटल गोल्ड ऑनलाइन सोना खरीदने का तरीका है. इसके जरिए गोल्ड आपके पास फिजिकल ना होकर डिजिटल वॉलेट में स्टोर हो जाएगा. इसकी भी आप खरीदी बिक्री कर सकते हैं. वहीं आप डिजिटल गोल्ड को फिजिकल गोल्ड में भी कुछ अतिरिक्त चार्जेज देकर बदल सकते हैं.

ADVERTISEMENTREMOVE AD

किन सेक्टर्स में कर सकते हैं निवेश?

मिंट से बातचीत में अपसाइड एआई के को-फाउंडर धनतेरस, दिवाली के त्योहार के साथ अतनु अग्रवाल ने कहा कि हम मशीन के जरिए इंवेस्ट करते हैं जो कि निवेश करने से पहले मार्केट को समझता है, इसका फायदा है कि ये लोगों की तरह किसी भावना में निवेश नहीं करता. अतनु अग्रवाल ने बताया कि निवेशक फार्मा सेक्टर्स, बैंकिग, फाइनेंशियल और इंश्यॉरेंस सेक्टर्स, सीमेंट, इंडस्ट्रीयल सेक्टर्स या केमिक्ल में निवेश कर सकते हैं.

इसके अलावा यह भी ध्यान रखना चाहिए कि धनतेरस, दिवाली के त्योहार के अलावा मार महंगाई की भी है और खतरा मंदी का है. इसलिए कुछ ऐसे सेक्टर्स में भी निवेश करना चाहिए जो महंगाई/मंदी से दूर हो या उनपर इसका असर नहीं पड़ता हो. एक्सपर्ट इसके लिए खासकर दो सेक्टर्स का सुझाव देते हैं. एक है, एफएमसीजी- फास्ट मूविंग कंज्यूमर गुड यानी की खाने पीने का आइटम, जैसे दूध, मैगी या फ्रिज, टीवी, आदी और दूसरा है पावर एनर्जी के सेक्टर्स.

0

कैसा हो पोर्टफोलियो?

इस दिवाली आप अपने पोर्टफोलियो को भी ठीक कर ले. सबसे जरूरी बात जब शेयर बाजार में बड़ा उतार चढ़ाव हो, महंगाई और मंदी का खतरा हो तो ऐसे में अर्थशास्त्री शरद कोहली कहते हैं आपको अपने पोर्टफोलियो का 10 से 15 फीसदी निवेश गोल्ड में रखना चाहिए. इसके अलावा- एक ही फंड हाउस के सभी फंड न लें, फाइनेंशियल एक्सपर्ट से सलाह से और खराब फंड की पहचान कर उससे बाहर निकले. पोर्टफोलियो को डाइवर्सिफाय करना तो जरूरी है लेकिन कई बार बहुत ज्यादा डाइवर्सिफिकेशन भी नुकसानदायक होता है.

इसके अलावा एक्सपर्ट सुझाते हैं जो बिल्कुल रिस्क नहीं लेना चाहते हैं वे एफडी में निवेश करें जिसपर आजकल ठीक-ठीक रिटर्न मिल रहा है, इसके अलावा प्रोविडेंट फंड, सरकारी बॉन्ड में निवेश की सलाह भी जाती है. गोल्ड में निवेश करना है तो सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड में ही निवेश करें और अपने पोर्टफोलियो को बेहतर बनाएं.

ADVERTISEMENT

 निवेश की रणनीति कैसी हो?

मिंट से बातचीत में अतनु अग्रवाल ने बताया कि, पैसा बनाने के लिए मजबूत निवेश चाहिए. मजबूत निवेश का एक मतलब होता है आप ऐसी जगहों पर निवेश करें जिनका आपस में कोई लेना देना नहीं है. जैसे इक्विटी (शेयर मार्केट) और फिक्सड डिपॉजिट इन दोनों में कोई संबंध नहीं है. एक तरफ जहां शेयर बाजार में उतार चढ़ाव होता है वहां फिक्सड डिपॉजिट में ब्याज दर एक ही होती है. इसलिए आप स्टॉक्स, डेट (Debt) और एफडी तीनों में निवेस करें. इसी तरह गोल्ड, रियल एस्टेट और क्रिप्टो में भी आपस में कोई संबंध नहीं है.

ADVERTISEMENTREMOVE AD

निवेश के लिए ज्यादा पैसे नहीं है तो SIP करे

अगर कोई इस दिवाली पर पहली बार निवेश करना शुरू करना चाहता है या किसी की शिकायत हो कि उसके पास निवेश के लिए ज्यादा पैसे नहीं है तो ऐसे लोग एसआईपी में निवेश कर सकते हैं. आप अपनी छोटी सी बचत का हर महीने सिस्‍टमेटिक इन्‍वेस्‍टमेंट प्‍लान (SIP) के जरिए निवेश कर सकते हैं. म्‍यूचुअल फंड्स की कई ऐसी स्‍कीम्‍स हैं, जिनमें महज 100 रुपये की मंथली SIP भी हो सकती है. आप तय कर सकते हैं कि आप हर महीने कितना निवेश करना चाहते हैं. SIP में सालों साल तक निवेश करके रखने से छोटा सा छोटा फंड भी बड़ा रिटर्न देता है.

SIP में निवेश करना बहुत आसान है. आप किसी भी फाइनेंस से जुड़ी एप को डाउनलोड कर निवेश कर सकते हैं या तो आपके बैंक के जरिए भी एसआईपी में निवेश हो जाएगा. इसके लिए केवल नो योर कस्‍टमर (KYC) पूरा करना होता यानी आधार कार्ड, पैन कार्ड जैसी डॉक्‍यूमेंट्स.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

सोना खरीदने की योजना बना रहे निवेशकों के पास क्या विकल्प है?

धनतेरस पर सोने में निवेश करने का विकल्प अच्छा है. जब शेयर मार्केट में बहुत उतार चढ़ाव हो और गिरावट बनी हुई हो तो ऐसे में सोना कभी निराश नहीं करता है, लॉन्ग टर्म में ही सही लेकिन सोना अच्छा रिटर्न देता है. इस समय सोना खरीदने का मौका अच्छा है, क्योंकि दाम पिछले साल के मुकाबले कम है. इस समय एमसीएक्स पर सोने की कीमत 50 हजार रुपये के आसपास चल रही है. ऐसे में तीन तरीकों से सोने में निवेश किया जा सकता है.

गोल्ड ईटीएफ (ETF): निवेशकों के पास स्टॉक एक्सचेंज पर गोल्ड ईटीएफ की यूनिट खरीदने और बेचने का विकल्प होता है. गोल्ड ईटीएफ सालभर में ही अच्छा रिटर्न देते हैं. इसके लिए आपको डीमैट अकाउंट चाहिए होगा.

सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड: सोने में सुरक्षित निवेश सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड को माना जाता है क्योंकि यह भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा जारी किए जाते हैं, इसमें सोने की गुणवत्ता की चिंता भी नहीं होती है. SGB पर सालाना 2.5 फीसदी का ब्याज भी मिलता है. बॉन्ड की मैच्योरिटी पूरी होने पर निवेशकों को 1 ग्राम सोना की मौजूदा कीमत के हिसाब से भुगतान किया जाता है.

डिजिटल गोल्ड:डिजिटल गोल्ड ऑनलाइन सोना खरीदने का तरीका है. इसके जरिए गोल्ड आपके पास फिजिकल ना होकर डिजिटल वॉलेट में स्टोर हो जाएगा. इसकी भी आप खरीदी बिक्री कर सकते हैं. वहीं आप डिजिटल गोल्ड को फिजिकल गोल्ड में भी कुछ अतिरिक्त चार्जेज देकर बदल सकते हैं.

ADVERTISEMENTREMOVE AD

किन सेक्टर्स में कर सकते हैं निवेश?

मिंट से बातचीत में अपसाइड एआई के को-फाउंडर धनतेरस, दिवाली के त्योहार के साथ अतनु अग्रवाल ने कहा कि हम मशीन के जरिए इंवेस्ट करते हैं जो कि निवेश करने से पहले मार्केट को समझता है, इसका फायदा है कि ये लोगों की तरह किसी भावना में निवेश नहीं करता. अतनु अग्रवाल ने बताया कि निवेशक फार्मा सेक्टर्स, बैंकिग, फाइनेंशियल और इंश्यॉरेंस सेक्टर्स, सीमेंट, इंडस्ट्रीयल सेक्टर्स या केमिक्ल में निवेश कर सकते हैं.

इसके अलावा यह भी ध्यान रखना चाहिए कि धनतेरस, दिवाली के त्योहार के अलावा मार महंगाई की भी है और खतरा मंदी का है. इसलिए कुछ ऐसे सेक्टर्स में भी निवेश करना चाहिए जो महंगाई/मंदी से दूर हो या उनपर इसका असर नहीं पड़ता हो. एक्सपर्ट इसके लिए खासकर दो सेक्टर्स का सुझाव देते हैं. एक है, एफएमसीजी- फास्ट मूविंग कंज्यूमर गुड यानी की खाने पीने का आइटम, जैसे दूध, मैगी या फ्रिज, टीवी, आदी और दूसरा है पावर एनर्जी के सेक्टर्स.

0

कैसा हो पोर्टफोलियो?

इस दिवाली आप अपने पोर्टफोलियो को भी ठीक कर ले. सबसे जरूरी बात जब शेयर बाजार में बड़ा उतार चढ़ाव हो, महंगाई और मंदी का खतरा हो तो ऐसे में अर्थशास्त्री शरद कोहली कहते हैं आपको अपने पोर्टफोलियो का 10 से 15 फीसदी निवेश गोल्ड में रखना चाहिए. इसके अलावा- एक ही फंड हाउस के सभी फंड न लें, फाइनेंशियल एक्सपर्ट से सलाह से और खराब फंड की पहचान कर उससे बाहर निकले. पोर्टफोलियो को डाइवर्सिफाय करना तो जरूरी है लेकिन कई बार बहुत ज्यादा डाइवर्सिफिकेशन भी नुकसानदायक होता है.

इसके अलावा एक्सपर्ट सुझाते हैं जो बिल्कुल रिस्क नहीं लेना चाहते हैं वे एफडी में निवेश करें जिसपर आजकल ठीक-ठीक रिटर्न मिल रहा है, इसके अलावा प्रोविडेंट फंड, सरकारी बॉन्ड में निवेश की सलाह भी जाती है. गोल्ड में निवेश करना है तो सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड में ही निवेश करें और अपने पोर्टफोलियो को बेहतर बनाएं.

ADVERTISEMENT

 निवेश की रणनीति कैसी हो?

मिंट से बातचीत में अतनु अग्रवाल ने बताया कि, पैसा बनाने के लिए मजबूत निवेश चाहिए. मजबूत निवेश का एक मतलब होता है आप ऐसी जगहों पर निवेश करें जिनका आपस में कोई लेना देना नहीं है. जैसे इक्विटी (शेयर मार्केट) और फिक्सड डिपॉजिट इन दोनों में कोई संबंध नहीं है. एक तरफ जहां शेयर बाजार में उतार चढ़ाव होता है वहां फिक्सड डिपॉजिट में ब्याज दर एक ही होती है. इसलिए आप स्टॉक्स, डेट (Debt) और एफडी तीनों में निवेस करें. इसी तरह गोल्ड, रियल एस्टेट और क्रिप्टो में भी आपस में कोई संबंध नहीं है.

ADVERTISEMENTREMOVE AD

निवेश के लिए ज्यादा पैसे नहीं है तो SIP करे

अगर कोई इस दिवाली पर पहली बार निवेश करना शुरू करना चाहता है या किसी की शिकायत हो कि उसके पास निवेश के लिए ज्यादा पैसे नहीं है तो ऐसे लोग एसआईपी में निवेश कर सकते हैं. आप अपनी छोटी सी बचत का हर महीने सिस्‍टमेटिक इन्‍वेस्‍टमेंट प्‍लान (SIP) के जरिए निवेश कर सकते हैं. म्‍यूचुअल फंड्स की कई ऐसी स्‍कीम्‍स हैं, जिनमें महज 100 रुपये की मंथली SIP भी हो सकती है. आप तय कर सकते हैं कि आप हर महीने कितना निवेश करना चाहते हैं. SIP में सालों साल तक निवेश करके रखने से छोटा सा छोटा फंड भी बड़ा रिटर्न देता है.

SIP में निवेश करना बहुत आसान है. आप किसी भी फाइनेंस से जुड़ी एप को डाउनलोड कर निवेश कर सकते हैं या तो आपके बैंक के जरिए भी एसआईपी में निवेश हो जाएगा. इसके लिए केवल नो योर कस्‍टमर (KYC) पूरा करना होता यानी आधार कार्ड, पैन कार्ड जैसी डॉक्‍यूमेंट्स.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

Published: 
सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
अधिक पढ़ें
ADVERTISEMENT
×
×