ADVERTISEMENT

भारत को हर साल पैदा करने होंगे 81 लाख रोजगार : वर्ल्ड बैंक 

नोटबंदी और जीएसटी की वजह इकोनॉमी में पैदा उथल-पुथल ने नौकरियों पर लगाम लगाई

Published
भारत को हर साल पैदा करने होंगे 81 लाख रोजगार : वर्ल्ड बैंक 
i

रोज का डोज

निडर, सच्ची, और असरदार खबरों के लिए

By subscribing you agree to our Privacy Policy

भारत को अपनी रोजगार दर बरकरार रखने के लिए सालाना 81 लाख रोजगार पैदा करने की जरूरत है. वर्ल्ड बैंक ने अपनी रिपोर्ट में यह बात कही. रिपोर्ट में कहा गया है कि देश की आर्थिक वृद्धि चालू वित्त वर्ष में 7.3 फीसदी रहने की उम्मीद है. जिसके अगले दो वर्षों में बढ़कर 7.5 प्रतिशत होने का अनुमान है. रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत नोटबंदी और जीएसटी व्यवस्था के नकारात्मक प्रभाव से बाहर आ चुका है.

ADVERTISEMENT

साल में दो बार जारी होने वाली साउथ एशिया इकोनॉमिक फोकस रिपोर्ट ' जॉबलेस ग्रोथ ' में बैंक ने कहा कि भारत की अर्थव्यवस्था में सुधार की बदौलत इस क्षेत्र ने दुनिया में सबसे तेजी से बढ़ते क्षेत्र का दर्जा फिर से हासिल कर लिया है. भारत के संबंध में कहा गया है कि उसकी आर्थिक वृ्द्धि 2017 में 6.7 फीसदी से बढ़कर 2018 में 7.3 फीसदी रह सकती है. निजी निवेश और निजी खपत में सुधार से इसके निरंतर आगे जाने की उम्मीद है. रिपोर्ट में अनुमान जताया गया है कि देश की वृद्धि दर 2019-20 और 2020-21 में बढ़कर 7.5 फीसदी हो जाएगी. भारत को वैश्विक वृद्धि का फायदा उठाने के लिए निवेश और निर्यात बढ़ाने का सुझाव दिया है.

2018 में 70 लाख नौकरियां पैदा करने का दावा लेकिन रोजगार के मोर्चे पर हालात ठीक नहीं 
(फोटो: The Quint/Ankita Das)
ADVERTISEMENT

वर्ल्ड बैंक ने कहा है

हर महीने 13 लाख नए लोग कामकाज करने की उम्र में प्रवेश कर जाते हैं. और भारत को अपनी रोजगार दर को बनाए रखने के लिए 81 लाख नौकरियां पैदा करनी चाहिए, जो कि 2005-15 के आंकड़ों के विश्लेषण के अनुसार लगातार गिर रही है.
ADVERTISEMENT

वर्ल्ड बैंक ने इसकी मुख्य वजह महिलाओं का नौकरी बाजार से दूर रहने को करार दिया है. वर्ल्ड बैंक के दक्षिण एशिया क्षेत्र के प्रमुख अर्थशास्त्री मार्टिन रामा ने कहा , "2025 तक हर महीने 18 लाख से अधिक लोग कामकाज करने की उम्र में पहुंचेंगे और अच्छी खबर यह है कि आर्थिक वृद्धि नई नौकरियां पैदा कर रही हैं.

ADVERTISEMENT

दरअसल, मोदी सरकार के दो अहम फैसलों नोटबंदी और जीएसटी ने अर्थव्यवस्था में काफी उथलपुथल पैदा की है. नोटबंदी की वजह से कैश की कमी होने से आर्थिक गतिविधियां बेहद धीमी हो गईं. मैन्यूफैक्चरिंग और सर्विस सेक्टर दोनों इससे प्रभावित हुए. इसके साथ ही जीएसटी लागू होने के बाद भी अर्थव्यवस्था में एक आशंका का माहौल दिखा. जीएसटी की जटिलताओं की वजह से बड़ी तादाद में कारोबारयों ने आयकर रिटर्न नहीं भरा.

यह भी पढ़ें - रोजगार के मामले में खस्ताहाल सरकार, प्राइवेट में भी नौकरी की कमी

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENT
सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
500
1800
5000

or more

प्रीमियम

3 माह
12 माह
12 माह
मेंबर बनने के फायदे
अधिक पढ़ें
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT
और खबरें
×
×