ADVERTISEMENTREMOVE AD

इनकमिंग मोबाइल कॉल की घंटी अब 30 सेकेंड तक बजेगी, ट्राई का फैसला

रिंगिंग टाइम को लेकर भारतीय एयरटेल और जियो के बीच झगड़ा चल रहा था, जिसे ट्राई ने सुलझा दिया है

Published
story-hero-img
i
छोटा
मध्यम
बड़ा
Hindi Female

अब मोबाइल पर इनकमिंग कॉल की घंटी कम से कम 30 सेकंड तक बजेगी. लैंडलाइन फोन के लिए इनकमिंग घंटी 60 सेकंड की होगी. टेलीकॉम रेगुलेटर ने कहा है कि आने वाली फोन कॉल का अगर तुरंत जवाब न मिले तो उसे तुरंत न काटें. अभी तक इनकमिंग कॉल की घंटी की कोई समय सीमा तय नहीं थी. दरअसल इस मुद्दे पर भारती एयरटेल और रिलायंस जियो के बीच झगड़ा चल रहा था. लेकिन ट्राई ने इसे सुलझाते हुए यह व्यवस्था दी है.

ADVERTISEMENTREMOVE AD

भारत एयरटेल ने कहा था कि रिंगिंग टाइम 45 सेकंड का होना चाहिए. उसका कहना था कि कॉल रिसीव करने वाले ऑपरेटरों को इसके लिए पर्याप्त समय देना चाहिए. जबकि जियो ने इसे घटा कर 20 से 25 सेकंड करने की मांग की थी. उसका कहना था कि इससे स्पेक्ट्रम रिसोर्स की बचत होगी. जबकि वोडाफोन आइडिया ने रिंगर टाइम 30 सेकंड करने की मांग की थी.

0

टेलीकॉम कंपनियां खुद कर रही थीं रिंगिंग का समय तय

टेलीकॉम कंपनियां कॉल कनेक्ट करने के चार्ज से होने वाली इनकम का फायदा उठाने के लिए खुद ही रिंगिंग का समय कम कर रही थीं, जिससे दूसरे नेटवर्क वाले उपभोक्ता उसके नेटवर्क पर कॉल बैक करने को बाध्य हों. रिलायंस जियो ने रिंगिंग का समय खुद ही घटाकर 25 सेकंड कर दिया है.

ADVERTISEMENTREMOVE AD

रिलायंस जियो ने ट्राई से भारती एयरटेल और वोडाफोन इंडिया पर भारी जुर्माना लगाने की मांग की थी. जियो का कहना था कि ये कंपनियां कॉल से घंटी से जुड़े नियमों को तोड़ रही हैं और लाइसेंसिंग नियमों का भी उल्लंघन कर रही हैं. जबकि भारती एयरटेल का कहना था कि जियो ट्राई को भ्रमित करने की कोशिश कर रही है. कई टेलीकॉम ऑपरेटर्स खुद ही कॉल के रिंग टाइम को कम कर रहे थे. बहरहाल ट्राई ने इन झगड़ों को सुलझाते हुए नया फैसला दे दिया है. इससे रिंगिंग टाइम पर विवाद फिलहाल रुक गया है.

ADVERTISEMENTREMOVE AD

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
अधिक पढ़ें
×
×