दादा साहब फाल्के | जिन्होंने सिखाया कि कहानी पर्दे पर धड़क सकती है
आज 30 अप्रैल को दादा साहब फाल्के का जन्मदिवस है.
आज 30 अप्रैल को दादा साहब फाल्के का जन्मदिवस है.फोटो:Rahul Gupta/The Quint)

दादा साहब फाल्के | जिन्होंने सिखाया कि कहानी पर्दे पर धड़क सकती है

एक ऐसा शख्स जिसने 1910 में फिल्म 'द लाइफ ऑफ क्राइस्ट' देखने के बाद से लगातार दो महीने तक उस समय रिलीज हुई सारी फिल्मों को देखने के बाद यह निर्णय लिया कि वह फिल्में बनाएगा और भारतीय फिल्म जगत में एक नया इतिहास रचेगा. और ऐसा हुआ भी. 3 मई, 1913 में दादा साहब फाल्के ने 'राजा हरिशचंद्र' नाम की पहली फिल्म बनाई, जो मुंबई में रिलीज की गई.इस फिल्म ने इतिहास रच दिया. उनके हुनर ने सिनेमा जगत को एक अलग पहचान दी. आज उनकी जयंती के मौके पर हम आपको बताने जा रहे हैं उनकी पहली फिल्म के बारे में-

Loading...
 दादा साहब फाल्के का फिल्मी सफर 
दादा साहब फाल्के का फिल्मी सफर 
(इंफोग्राफ: Rahul Gupta/The Quint)

यह भी पढ़ें: दादा साहेब फाल्के फिल्म महोत्सव के लिए चुनी गईं असमिया लघु फिल्में

यह भी पढ़ें: दादासाहेब फाल्के अकादमी सबसे विश्वसनीय : पुसालकर

कोरोनावायरस से जारी जंग के बीच तमाम अपडेट्स और जानकारी के क्लिक कीजिए यहां

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram और WhatsApp चैनल से जुड़े रहिए यहां)

Follow our बॉलीवुड section for more stories.

    Loading...