बार-बार भारत-चीन की सीमा पर क्यों होती है झड़प?समझिए पूरा विवाद

भारत और चीन के बीच सीमा विवाद की सबसे बड़ी वजह है दोनों देशों के बीच सीमा संबंधित किसी समझौते का नहीं होना

Updated
कुंजी
5 min read
सीमा पर भारत और चीन में पिछले लगभग एक महीने से तनाव चल रहा था
i
स्नैपशॉट

लद्दाख की गलवान घाटी में बीती रात (चीन से) एक हिंसक झड़प में भारतीय सेना के एक अधिकारी और 2 जवान शहीद हो गए. सेना ने बताया कि स्थिति को शांत करने के लिए दोनों देशों के वरिष्ठ सैन्य अधिकारी बातचीत कर रहे हैं. न्यूज एजेंसी एएनआई के मुताबिक, सेना ने कहा है कि झड़प में दोनों पक्षों से (सैनिक/अधिकारी) हताहत हुए हैं.

सीमा पर भारत और चीन में पिछले लगभग एक महीने से तनाव चल रहा था. तनाव के बीच ये खबर आने से विपक्ष ने सरकार पर सवाल उठाए हैं और पीएम से जवाब मांगा है.

विवाद को ठीक से समझने के लिए आपको दोनों देशों के बीच सीमा विवाद का इतिहास, सीमा क्षेत्र का भूगोल और इससे जुड़े हुए मुद्दे समझने की जरूरत है.

क्यों है सीमा विवाद?

भारत और चीन के बीच सीमा विवाद की सबसे बड़ी वजह है दोनों देशों के बीच सीमा संबंधित किसी समझौते का नहीं होना. इसके अलावा कम से कम तीन ऐसी वजह हैं जो समय-समय पर तनाव को जन्म देते रहते हैं.

  • पहली वजह है तिब्बत, जिस पर चीन ने 1950 में कब्जा कर लिया। इसके साथ ही चीन ने तिब्बत के साथ 1914 में ब्रिटिश भारत के समझौते को मानने से यह कहते हुए मना कर दिया कि तिब्बत को समझौते का अधिकार ही नहीं था क्योंकि वह हमेशा से चीन का हिस्सा रहा है। यह समझौता मैकमोहन लाइन के नाम से जाना जाता है। अपनी इसी सोच के कारण चीन अरुणाचल प्रदेश को तिब्बत का हिस्सा बताता है।
  • दूसरी वजह है अक्साई चीन, जिस पर चीन ने 1962 में कब्जा कर लिया था। भारत अक्साई चीन पर दावा छोड़ने को तैयार नहीं है।
  • तीसरी वजह यह है वास्तविक नियंत्रण रेखा को लेकर असमंजस की स्थिति। ऐसा इसलिए है क्योंकि हिमालयन क्षेत्र होने और सीमा संबंधी समझौते के अभाव में एलएसी की स्थिति कई जगह स्पष्ट नहीं हो पाती है। भारत और चीन के सैनिक परस्पर उलझ जाते हैं और समय-समय पर विवाद देखने को मिलते हैं।

भारत-चीन सीमा का कैसा है स्वरूप?

भारत-चीन के बीच 3,488 किमी लंबी सीमा है. इसे तीन हिस्सों में देखें तो-

  • एक हिस्सा है उत्तर में जम्मू-कश्मीर
  • दूसरा हिस्सा मध्य में हिमाचल प्रदेश और उत्तराखण्ड
  • तीसरा हिस्सा है पूरब में सिक्किम और अरुणाचल

वास्तविक नियंत्रण रेखा पर ग्लेशियर, बर्फ के रेगिस्तान, पहाड़ और नदियां हैं। अक्सर दोनों देशों में यह भ्रम पैदा हो जाता है कि उसकी सीमा का उल्लंघन हो रहा है। सड़कों का निर्माण, टेंट बनाना, सैन्य गतिविधि आदि के कारण आशंकाएं बढ़ती चली जाती हैं

मई में बॉर्डर पर कहां-कहां हुईं झड़पें?

  • पेंगौंग त्सो झील : यहां 5 मई को दोनों देशों के 200 सैनिक आमने-सामने हो गये. भारत ने चीनी सैनिकों की मौजूदगी पर एतराज जताया. पूरी रात टकराव के हालात रहे. अगले दिन तड़के भी झड़पें हुईं.
  • नाथूला दर्रा : 9 मई को यहां 150 सैनिक आमने-सामने थे. एक-दूसरे पर मुक्के से हमला किया.
  • लद्दाख : 9 मई को लद्दाख में एलओसी पर चीन ने हेलीकॉप्टर भेजा तो जवाब में भारत ने लड़ाकू विमान सुखोई 30 भेज दिया.

पेंगौंग झील, गालवन घाटी, नाथूला क्यों हैं ‘हॉट’?

  • पेंगोंग त्सो झील : लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा पर 14 हजार फुट की ऊंचाई पर अवस्थित पेंगोंग त्सो झील 134 किमी लंबी है. इसका 45 किमी हिस्सा भारत में आता है. भारत की उत्तरी सीमा पर चीन की ओर से एक तिहाई झड़प की घटनाएं इसी इलाके में होते हैं. रणनीतिक तौर पर इसका महत्व है. यह चुशूल घाटी के रास्ते में पड़ता है जिसका इस्तेमाल भारत पर हमला करने के लिए चीन कर सकता है. चीन ने यहां कई तरीके के निर्माण कर रखे हैं.
  • गालवन घाटी : लद्दाख और अक्साई चीन के बीच गालवन घाटी स्थित है. यही वास्तविक नियंत्रण रेखा है जो चीन के दक्षिणी शिनजियांग से मिलती है. 1962 में यह इलाका जंग का प्रमुख केंद्र रहा था. एलओसी पर निर्माण नहीं करने की सहमति है. मगर, चीन पहले ही अपने इलाके में सैन्य निर्माण कर चुका है मगर भारत को ऐसा करने से रोकता है.
  • नाथूला दर्रा : 14,200 किमी फीट की ऊंचाई पर स्थित नाथुला दर्रा वास्तव में सिक्किम और दक्षिणी तिब्बत के चुम्बी घाटी को जोड़ता है जो गंगटोक के पूरब में 54 किमी की दूरी पर है. यहां से कैलाश मानसरोवर की तीर्थ यात्रा के लिए भारतीय जत्था गुजरता है. नाथूला दर्रे को लेकर 1890 में चीन और ब्रिटिश कालीन भारत के बीच संधि हुई थी. 2006 में नाथुला दर्रा तब खोला गया जब दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय व्यापार समझौते हुए. 10 मई को भारत और चीन के बीच इस इलाके में झड़प होना इसलिए चिंताजनक है क्योंकि यहां कोई विवाद नहीं रहा है.

डोकलाम का क्या है महत्व?

डोकलाम का महत्व 2017 की घटना के बाद यह है कि भारत अब चीन को जवाब दे सकता है. 2017 में चीन सड़क बनाने की कोशिश कर रहा था, जिस पर भारत और चीन की सेना 70 दिनों तक एक-दूसरे के खिलाफ डटी रहीं. भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और चीन के राष्ट्रपति शी के बीच जिनपिंग डोकलाम विवाद के बाद दो बार अनौपचारिक वन टू वन मुलाकात हुई. बगैर एजेंडे वाली इस शिखर वार्ता से शांति लौटी.

भौगोलिक और सामरिक नजरिए से देखें डोकलाम के नजदीक सिक्किम का बॉर्डर है और यह चीन और भूटान के बीच ट्राई-जंक्शन बनाता है. वास्तव में डोकलाम को लेकर विवाद चीन और भूटान के बीच है मगर भारत के लिए इसका रणनीतिक महत्व है. एक बार यह इलाका अगर चीन के कब्जे में आ गया तो उत्तर पूर्वी राज्यों को देश से जोड़ने वाली 20 किमी चौड़ी चिकेन्स नेक तक उसकी पहुंच हो जाएगी.

तवांग पर क्यों रहती है चीन की नजर?

अरुणाचल प्रदेश के तवांग को चीन तिब्बत का हिस्सा बताता है. सांस्कृतिक समानता और बौद्ध तीर्थस्थल से जोड़कर भी वह अपने दावे को पेश करता है. 1914 में ब्रिटिश भारत और तिब्बत के बीच हुए समझौते में अरुणाचल के उत्तरी हिस्से तवांग और दक्षिणी हिस्से को भारत का हिस्सा मान लिया गया था. 1962 में चीन ने तवांग पर कब्जा कर लिया था मगर भौगोलिक स्थिति अनुकूल नहीं रहने से उसने यहां से लौट जाना उचित समझा. तवांग की सामरिक स्थिति भारत के लिए अधिक महत्वपूर्ण है इसलिए चीन भी इस पर कड़ी नजर रखता है.

क्या कभी सीमा विवाद सुलझाने की कोशिशें हुईं?

1962 युद्ध से पहले भारत और चीन दोनों ने सीमा विवाद पर चुप्पी बनाए रखी. भारत मैकमोहन लाइन के भरोसे था, मगर चीन के मन में कुछ और था. आगे चलकर जब सीमा को लेकर आए दिन किचकिच होने लगी तो दोनों देशों ने मैनेजमेंट समितियां बनाईं. इसका मकसद सीमा निर्धारण होने तक शांति बनाए रखने की है. कोशिश यह है कि विवाद न हो. जब विवाद हो तो तनाव न बढ़े. और, किसी तरह से युद्ध को न होने दिया जाए. दोनों देशों के विशेष प्रतिनिधियों के बीच 20 से ज्यादा बैठकें हो चुकी हैं. आखिरी बैठक 21 दिसंवबर 2019 को हुई थी.

नेपाल से लिपुलेख विवाद में भी है चीन की भूमिका?

लिपुलेख, लिम्पियाधुरा और कालापानी के त्रिकोणभूमि पर जो ताजातरीन विवाद नेपाल ने खड़ा किया है उसमें प्रत्यक्ष रूप से चीन कहीं नहीं है. मगर, इस क्षेत्र से चीन का हित जुड़ा हुआ है. 2015 में भारत और चीन के बीच लिपुलेख एग्रीमेंट हुआ था जिससे नेपाल नाराज हो गया. इस एग्रीमेंट का मकसद तीर्थयात्रियों की सुविधा और तिब्बत के साथ व्यापार को बढ़ावा देना था. 8 मई 2020 को दारचुला लिपुलेख लिंक रोड के उद्घाटन के बाद यह विवाद आगे बढ़ गया. यह भी याद रखने की जरूरत है कि कैलाश मानसरोवर की यात्रा 1950 के दशक में रुक गयी थी जब चीन ने तिब्बत को अपने कब्जे में ले लिया. भारत ने 1959 में लिपुलेख दर्रे पर सैनिक टुकड़ियां तैनात कर दीं.

नेपाल उस मानचित्र को मंजूरी देने की कोशिश में है जिसमें जिसमें काली नदी के उद्गम स्थल लिम्पियाधुरा से कालापानी और इस त्रिकोणात्मक भूमि के उत्तर पूर्व स्थित लिपुलेख को नेपाल में दिखाया गया है. 22 मई को नेपाल की कैबिनेट इस आशय का प्रस्ताव पास कर चुकी है.

हालांकि सदन में आवश्यक दो तिहाई बहुमत नहीं मिल पाने की वजह से यह प्रस्ताव फिलहाल टाल दिया गया है।

कोरोनावायरस से जारी जंग के बीच तमाम अपडेट्स और जानकारी के क्लिक कीजिए यहां

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram और WhatsApp चैनल से जुड़े रहिए यहां)

Published: 
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!