ADVERTISEMENTREMOVE AD

Nepal Plane Crash: कैसे हुआ हादसा? विमान कितना पुराना था? नेपाल हादसे पर सवाल

Pokhara Plane Crash Explained: विमान पर कितने लोग सवार थे? उसमें भारतीय कितने थे?

Published
कुंजी
3 min read
story-hero-img
i
छोटा
मध्यम
बड़ा
Hindi Female

Nepal Plane Crash Explained: नेपाल में 68 यात्रियों और चार क्रू मेंबर्स के साथ 15 जनवरी, रविवार को येती एयरलाइंस का ATR-72 विमान दुर्घटनाग्रस्त (Nepal Plane Crash) हो गया. नेपाल नागरिक उड्डयन प्राधिकरण ने देर शाम एक बयान जारी किया, जिसमें कहा गया कि दुर्घटना में 68 लोगों के मरने की पुष्टि हुई है. तलाशी अभियान को आज के लिए रोक दिया गया है और चार यात्रियों का पता नहीं चल पाया है.

यह कौन सा विमान था? इसमें कितने भारतीय सवार थे? हादसा कैसे हुआ? यहां आपको एक साथ Nepal Plane Crash में अबतक सामने आई जानकारी देते हैं.

Nepal Plane Crash: कैसे हुआ हादसा? विमान कितना पुराना था? नेपाल हादसे पर सवाल

  1. 1. Nepal Plane Crash: हादसा कैसे हुआ?

    यह विमान राजधानी काठमांडू से मध्य नेपाल में स्थित पोखरा जा रहा था. काठमांडू से पोखरा के लिए सुबह 10 बजकर 32 मिनट पर उड़ान भरने वाला येती एयरलाइंस का एटीआर 72 विमान रविवार सुबह शहर के नयागांव में दुर्घटनाग्रस्त हो गया. चीनी सहायता से बने नवनिर्मित पोखरा हवाईअड्डे पर उतरने के दौरान विमान में आग लग गई. रडार से हटने से पहले विमान ने सुबह 10.50 बजे कंट्रोल टावर से संपर्क किया था.

    हालांकि दुर्घटना क्यों हुई, इसके मारे में आधिकारिक डिटेल्स अभी तक बाहर नहीं आयी है. येती एयरलाइंस के एक प्रवक्ता ने न्यूज एजेंसी रॉयटर को बताया कि विमान "टुकड़ों में टूट गया है". सामने आए तस्वीरों और वीडियो में दुर्घटनास्थल से काला धुआं निकलता दिख रहा है.

    गौरतलब है कि पोखरा में रविवार की सुबह अच्छी-खासी धूप खिली थी. नेपाल के वित्त मंत्री बिष्णु पौडेल ने रिपोर्टर्स को बताया कि सरकार ने दुर्घटना के कारणों की जांच के लिए एक पैनल का गठन किया है, और इसकी रिपोर्ट 45 दिनों के भीतर आने की उम्मीद है.
    Expand
  2. 2. Nepal Plane Crash: हादसे का शिकार होने वाला विमान कौन सा था?

    दुर्घटनाग्रस्त हवाई जहाज 15 साल पुराना था और इस ट्विन इंजन वाले ATR 72 विमान को नेपाल की येती एयरलाइंस संचालित करती थी. ATR 72 को एयरबस और इटली के लियोनार्डो द्वारा मिलकर बनाया जाता है. यह व्यापक रूप से इस्तेमाल किया जाने वाला ट्विन इंजन टर्बोप्रॉप विमान है. येती एयरलाइंस की वेबसाइट के अनुसार, उसके पास कुल छह ATR 72-500 विमानों का बेड़ा है.

    येती एयरलाइंस ने ट्वीट कर जानकारी दी है कि दुर्घटना को देखते हुए आपातकालीन और रेस्क्यू फ्लाइट्स को छोड़कर 16 जनवरी को सभी उड़ानें रद्द कर दी गयीं हैं.

    Expand
  3. 3. Nepal Plane Crash: विमान पर कितने लोग सवार थे? उसमें भारतीय कितने थे?

    विमान पर मौजूद यात्रियों में तीन शिशु, तीन बच्चे और 62 वयस्क थे. इसके अलावा 4 क्रू मेंबर थे. नेपाल के नागरिक उड्डयन प्राधिकरण के अनुसार, यात्रियों में 53 नेपाली, पांच भारतीय, चार रूसी, एक आयरिश, एक ऑस्ट्रेलियाई, एक अर्जेंटीना, दो कोरियाई और एक फ्रांसीसी शामिल थे.

    विमान में सवार पांच भारतीय गाजीपुर के रहने वाले हैं. येती एयरलाइंस द्वारा भी इन पांच भारतीयों की पहचान की गई है. इनके नाम हैं: अभिषेक कुशवाहा, विशाल शर्मा, अनिल कुमार राजभर, सोनू जायसवाल और संजय जायसवाल. संजय जायसवाल को छोड़कर बाकी युवक गाजीपुर से थे और आपस में दोस्त थे.

    चारों 13 जनवरी को गाजीपुर से नेपाल घूमने गए थे और यह आज हादसा हुआ है. पोखरा कई भारतीयों के लिए एक लोकप्रिय पर्यटन स्थल है.

    भारतीय दूतावास ने हेल्पलाइन नंबर जारी कर कहा कि वह स्थानीय अधिकारियों के संपर्क में है और स्थिति की निगरानी कर रहा है। भारतीय दूतावास द्वारा जारी हेल्पलाइन नंबर क्रमश 1. काठमांडू : दिवाकर शर्मा : +977-9851107021 और 2. पोखरा : लेफ्टिनेंट कर्नल शशांक त्रिपाठी: प्लस 977-9856037699.

    Expand
  4. 4. Nepal Plane Crash: नेपाल में रहा है हिंसक विमान दुर्घटना का इतिहास

    यह पहला वाकया नहीं है जब नेपाल में किसी प्लेन दुर्घटना में इतनी बड़ी संख्या में लोगों की मौत हुई है. नेपाल में प्लेन हादसों का लंबा इतिहास रहा है. अकेले पिछले 30 सालों के अंदर नेपाल ने ऐसे 27 प्लेन हादसे देखे हैं.

    यह दुर्घटना 1992 के बाद से नेपाल की सबसे अधिक मौतों वाली दुर्घटना है. 1992 में पाकिस्तान इंटरनेशनल एयरलाइंस के विमान में सवार सभी 167 लोगों की मौत उस समय हो गई जब वह काठमांडू के रास्ते में दुर्घटनाग्रस्त हो गया.

    बता दें कि भारतीय प्रधानमंत्री और केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री ने भी इस हादसे पर शोक जताया है.

    (हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

    Expand

Nepal Plane Crash: हादसा कैसे हुआ?

यह विमान राजधानी काठमांडू से मध्य नेपाल में स्थित पोखरा जा रहा था. काठमांडू से पोखरा के लिए सुबह 10 बजकर 32 मिनट पर उड़ान भरने वाला येती एयरलाइंस का एटीआर 72 विमान रविवार सुबह शहर के नयागांव में दुर्घटनाग्रस्त हो गया. चीनी सहायता से बने नवनिर्मित पोखरा हवाईअड्डे पर उतरने के दौरान विमान में आग लग गई. रडार से हटने से पहले विमान ने सुबह 10.50 बजे कंट्रोल टावर से संपर्क किया था.

हालांकि दुर्घटना क्यों हुई, इसके मारे में आधिकारिक डिटेल्स अभी तक बाहर नहीं आयी है. येती एयरलाइंस के एक प्रवक्ता ने न्यूज एजेंसी रॉयटर को बताया कि विमान "टुकड़ों में टूट गया है". सामने आए तस्वीरों और वीडियो में दुर्घटनास्थल से काला धुआं निकलता दिख रहा है.

गौरतलब है कि पोखरा में रविवार की सुबह अच्छी-खासी धूप खिली थी. नेपाल के वित्त मंत्री बिष्णु पौडेल ने रिपोर्टर्स को बताया कि सरकार ने दुर्घटना के कारणों की जांच के लिए एक पैनल का गठन किया है, और इसकी रिपोर्ट 45 दिनों के भीतर आने की उम्मीद है.
ADVERTISEMENTREMOVE AD

Nepal Plane Crash: हादसे का शिकार होने वाला विमान कौन सा था?

दुर्घटनाग्रस्त हवाई जहाज 15 साल पुराना था और इस ट्विन इंजन वाले ATR 72 विमान को नेपाल की येती एयरलाइंस संचालित करती थी. ATR 72 को एयरबस और इटली के लियोनार्डो द्वारा मिलकर बनाया जाता है. यह व्यापक रूप से इस्तेमाल किया जाने वाला ट्विन इंजन टर्बोप्रॉप विमान है. येती एयरलाइंस की वेबसाइट के अनुसार, उसके पास कुल छह ATR 72-500 विमानों का बेड़ा है.

येती एयरलाइंस ने ट्वीट कर जानकारी दी है कि दुर्घटना को देखते हुए आपातकालीन और रेस्क्यू फ्लाइट्स को छोड़कर 16 जनवरी को सभी उड़ानें रद्द कर दी गयीं हैं.

0

Nepal Plane Crash: विमान पर कितने लोग सवार थे? उसमें भारतीय कितने थे?

विमान पर मौजूद यात्रियों में तीन शिशु, तीन बच्चे और 62 वयस्क थे. इसके अलावा 4 क्रू मेंबर थे. नेपाल के नागरिक उड्डयन प्राधिकरण के अनुसार, यात्रियों में 53 नेपाली, पांच भारतीय, चार रूसी, एक आयरिश, एक ऑस्ट्रेलियाई, एक अर्जेंटीना, दो कोरियाई और एक फ्रांसीसी शामिल थे.

विमान में सवार पांच भारतीय गाजीपुर के रहने वाले हैं. येती एयरलाइंस द्वारा भी इन पांच भारतीयों की पहचान की गई है. इनके नाम हैं: अभिषेक कुशवाहा, विशाल शर्मा, अनिल कुमार राजभर, सोनू जायसवाल और संजय जायसवाल. संजय जायसवाल को छोड़कर बाकी युवक गाजीपुर से थे और आपस में दोस्त थे.

चारों 13 जनवरी को गाजीपुर से नेपाल घूमने गए थे और यह आज हादसा हुआ है. पोखरा कई भारतीयों के लिए एक लोकप्रिय पर्यटन स्थल है.

भारतीय दूतावास ने हेल्पलाइन नंबर जारी कर कहा कि वह स्थानीय अधिकारियों के संपर्क में है और स्थिति की निगरानी कर रहा है। भारतीय दूतावास द्वारा जारी हेल्पलाइन नंबर क्रमश 1. काठमांडू : दिवाकर शर्मा : +977-9851107021 और 2. पोखरा : लेफ्टिनेंट कर्नल शशांक त्रिपाठी: प्लस 977-9856037699.

ADVERTISEMENT

Nepal Plane Crash: नेपाल में रहा है हिंसक विमान दुर्घटना का इतिहास

यह पहला वाकया नहीं है जब नेपाल में किसी प्लेन दुर्घटना में इतनी बड़ी संख्या में लोगों की मौत हुई है. नेपाल में प्लेन हादसों का लंबा इतिहास रहा है. अकेले पिछले 30 सालों के अंदर नेपाल ने ऐसे 27 प्लेन हादसे देखे हैं.

यह दुर्घटना 1992 के बाद से नेपाल की सबसे अधिक मौतों वाली दुर्घटना है. 1992 में पाकिस्तान इंटरनेशनल एयरलाइंस के विमान में सवार सभी 167 लोगों की मौत उस समय हो गई जब वह काठमांडू के रास्ते में दुर्घटनाग्रस्त हो गया.

बता दें कि भारतीय प्रधानमंत्री और केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री ने भी इस हादसे पर शोक जताया है.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENTREMOVE AD
सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
अधिक पढ़ें
ADVERTISEMENT
×
×