ADVERTISEMENTREMOVE AD

"जानें जा रही हैं, हौसला टूट रहा है": ब्लैकआउट के बीच गाजा के सबसे बड़े अस्पताल के डॉक्टर

एक डॉक्टर ने द क्विंट को बताया, "हम नहीं जानते कि क्या करें. हम और जिंदगियां खो रहे हैं और सिर्फ देखते रहने के अलावा कुछ नहीं कर सकते हैं."

Published
फिट
5 min read
story-hero-img
i
छोटा
मध्यम
बड़ा
Hindi Female

गाजा शहर के अल-शिफा अस्पताल में काम करने वाले एक फिलिस्तीनी डॉक्टर, जिन्होंने नाम न छापने की रिक्वेस्ट की, ने कहा, "यह विनाशकारी है... कोई भोजन या ईंधन नहीं है. पानी या बिजली तक पहुंच नहीं होने के कारण जिंदगियां खत्म हो रही हैं."

अल-शिफा अस्पताल, गाजा स्ट्रिप का सबसे बड़ा मेडिकल कॉम्प्लेक्स और केंद्रीय अस्पताल, एक रिफ्यूजी कैम्प और बॉम्ब शेल्टर में बदल गया है, जहां गंभीर रूप से घायल लोग इस उम्मीद में छिपे हुए हैं कि वे एक और दिन देखने के लिए जीवित रहेंगे, डॉक्टर ने कहा.

गाजा सिटी, गाजा स्ट्रिप पर एक फिलिस्तीनी शहर, में 7 अक्टूबर को आतंकवादी समूह हमास के 'आश्चर्यजनक' हमले के कुछ दिनों बाद इजरायली हमलों के बीच, अब 'पूरी तरह से घेराबंदी' कर दी गई है, और वहां अब कोई भोजन, पानी या बिजली नहीं है. AFP की रिपोर्ट के अनुसार, इजरायल और फिलिस्तीन में संयुक्त रूप से मरने वालों की संख्या 3,000 का आंकड़ा पार कर गई है, जबकि गाजा में कम से कम 1,354 लोग मारे गए हैं.

11 अक्टूबर को द क्विंट के अल-शिफा अस्पताल के डॉक्टरों से बात करने के सिर्फ चार घंटे बाद, गाजा पूरी तरह से अंधकार में डूब गया, गाजा स्ट्रिप के एकमात्र बिजली स्टेशन में ईंधन खत्म हो गया. जबकि दिन की शुरुआत में अधिकारियों ने कहा था कि ईंधन लगभग 12 घंटे तक चलेगा. पावर स्टेशन ने अपेक्षा से जल्दी काम करना बंद कर दिया.

डॉक्टर ने द क्विंट को बताया, "हम नहीं जानते कि क्या करें. हम और भी जानें खो देंगे, लेकिन देखते रहने के अलावा कुछ नहीं कर सकते.".

ADVERTISEMENTREMOVE AD

बहुत सारे मरीज, बहुत कम संसाधन

10 अक्टूबर को फिलिस्तीन स्वास्थ्य मंत्रालय की प्रेस रिलीज के अनुसार, आठ अस्पताल (क्षेत्र में) गाजा स्ट्रिप की "जरूरतों को पूरा करने के लिए पर्याप्त नहीं हैं", जहां कम से कम 2.3 मिलियन लोग रहते हैं. इनमें से कई अस्पताल पूरी तरह फंक्शनल भी नहीं हैं जैसे अल-शिफा की नीओनेटल यूनिट, जो डैमेज हो गई है या बीट हनौन अस्पताल, जो अब ऑपरेशनल नहीं है.

7 अक्टूबर के बाद पहले कुछ दिनों के लिए, दवाओं जैसी आवश्यक आपूर्ति मिस्र के रास्ते गाजा में भेजी गई थी. लेकिन 10 अक्टूबर को इस इलाके पर भी बमबारी हुई.

"बमबारी के पैमाने को देखते हुए, दुर्भाग्य से हम अपनी मेडिकल फैसिलिटी की सुरक्षा की गारंटी देने में असमर्थ हैं. ऐसे सिचुएशन में काम करना बहुत कॉम्प्लिकेटेड हो जाता है. 10 अक्टूबर को, हमारी सुविधाओं के करीब हुए बम विस्फोटों ने गाजा सिटी में हमारे क्लिनिक और उस घर, जहां हमारे अंतरराष्ट्रीय कलीग रहते थे, को आंशिक रूप से नष्ट कर दिया,'' फिलिस्तीन के लिए मेडेसिन्स सैन्स फ्रंटियर्स (MSF) कार्यक्रम की प्रमुख सारा शैटो ने कहा.

MSF एक अंतरराष्ट्रीय, स्वतंत्र संगठन है, जो संघर्ष, महामारी और आपदाओं से प्रभावित लोगों को चिकित्सा सहायता प्रदान करता है.

शैटो ने द क्विंट को बताया, "तुरंत, हमने सबसे पहले स्वास्थ्य मंत्रालय को आवश्यक दवाएं और मेडिकल सप्लाइज डोनेट किए, जिनके अस्पताल पूरी क्षमता से काम कर रहे हैं. बड़ी संख्या में लोग घायल हैं."
0

'बमबारी लगातार हो रही है...'

एक दूसरे डॉक्टर, जो अल-शिफा के साथ भी काम कर रहे हैं, ने कहा कि अब, हेल्थकेयर प्रोफेशनल भी लगातार बमबारी के कारण भार संभालने में असमर्थ हैं. उन्होंने कहा, हर एक जान जिन्हें वो बचाते हैं, के बदले 10 और मरीज अस्पताल में आते हैं.

"हर पांच मिनट में लोग अस्पतालों में आ रहे हैं. अगर मैं आपको तस्वीरें भेज सकूं, तो आप देखेंगे कि हर जगह मरीज हैं. लॉन में, गलियारों में, सीढ़ियों पर बैठे हैं. हमारे पास हर जगह मरीज हैं. हम लोगों को ऑपरेशन थियेटर भी नहीं ले जा सकते क्योंकि बिजली नहीं है. लगातार बमबारी हो रही है. यदि आप एक की जान बचा भी लेते हैं, तब तक 10 नए मरीज आ जाते हैं. हमें नहीं पता कि क्या करें," डॉक्टर ने समझाया.

"हम एक ऐसे युद्ध की शुरुआत में हैं, जो लग रहा है कि लंबे समय तक चल सकता है. फिर भी हम महत्वपूर्ण संसाधनों की इतनी जल्दी कमी देख रहे हैं, अस्पतालों में सप्लाइज की कमी हो रही है," घासन अबू सिट्टा एक सर्जन और मेडिकल असिस्टन्स फॉर पैलेसटाइन के ट्रस्टी, जो अल-शिफा अस्पताल में मरीजों का इलाज कर रहे हैं, ने सोशल मीडिया पर कहा था.

शैटो ने कहा कि बमबारी के पैमाने को देखते हुए हेल्थकेयर प्रोफेशनल के लिए मूव करना "लगभग असंभव" है.

शैटो ने कहा, "गाजा में हमारे सहयोगियों के अनुसार, जो दुर्भाग्य से पिछले युद्धों से गुजर चुके हैं, ऐसा पहले कभी नहीं हुआ. इन्टेन्सिटी के मामले में, ऐसी बमबारी उन्होंने पहले कभी नहीं देखी है."

"बमबारी लगभग लगातार हो रही है. बहुत कम ब्रेक हैं. हम यह देखने की कोशिश कर रहे हैं कि क्या स्वास्थ्य मंत्रालय आउट पेशेंट केयर के लिए मरीजों को हमारे पास ट्रांसफर कर सकते हैं, लेकिन उसके लिए हमारी टीमों को मूव करना होगा. केवल 200 या 300 मीटर, लेकिन इस केस में, वे 200 या 300 मीटर जोखिम से भरे हैं."
ADVERTISEMENT

अस्पताल कैसे मैनेज कर रहे हैं?

"हम दवाओं या ऑक्सीजन की आपूर्ति के बारे में नहीं सोच रहे हैं. इस ट्रेजेडी का पैमाना इतना अधिक है, हम केवल बेसिक एसेन्शियल, जिनकी जल्द ही हमारे पास कमी हो सकती है, के साथ जितना संभव हो सके उतने लोगों की जान बचा रहे हैं. मरीजों की सूची की शीट पर शीट हैं और हम उन लोगों तक जा रहे हैं, जिन्हें बचाने के लिए हमारे पास संसाधन हैं," डॉक्टर ने कहा.

सना बेग, MSF की संचार निदेशक, ने द क्विंट को बताया कि कुछ अस्पताल अपने जनरेटर के लिए ईंधन पर निर्भर हैं और हो सकता है कि उनके पास केवल कुछ दिनों के लिए ही पर्याप्त ईंधन हो.

बेग ने कहा, "एक अस्पताल, जहां MSF काम करता है, ने हमें बताया कि वे वाहनों के लिए ईंधन बचाने के लिए हर दो दिन के बदले कर्मचारियों की रोटेशन हर हफ्ते बदले जा रहे हैं. गाजा में पूर्ण नाकाबंदी की घोषणा केवल इस स्थिति को बढ़ाने में योगदान देगी."

मानवीय संगठन ने अपने दो महीने के आपातकालीन भंडार से मेडिकल सप्लाइज को गाजा के अल-अवदा अस्पताल में ट्रांसफर कर दिया है, जहां उन्होंने कथित तौर पर पिछले तीन दिनों में ही तीन सप्ताह के स्टॉक का उपयोग किया है.

"हम अस्पतालों में आवश्यक चिकित्सा आपूर्ति की कमी देख रहे हैं. ग्राउंड लेवल पर हमारे आपातकालीन स्टॉक सीमित हैं और वो जल्दी खत्म हो जाएंगे अगर हम बाहर से चिकित्सा उपकरण और दवाएं नहीं ला सके तो. हम गाजा में स्वास्थ्य प्रणाली का समर्थन करने की कोशिश कर रहे हैं, लेकिन ऐसा करने पर, हमें आपातकालीन टीमों को यहां लाने और उन टीमों, जो युद्ध के सिचुएशन के लिए सूटेड नहीं हैं, को बाहर निकालने में सक्षम होने की आवश्यकता होगी. सुरक्षित मार्ग स्थापित करने की आवश्यकता है और पहचान की परवाह किए बिना हिंसा के इस चक्र में फंसे लोगों को संरक्षित किया जाना चाहिए."
सना बेग, MSF की संचार निदेशक
ADVERTISEMENTREMOVE AD

'जब तक वे अस्पतालों पर हमला नहीं करते, तब तक हम कोशिश जारी रखेंगे'

डॉक्टरों ने कहा कि पिछले चार दिनों से, फिलिस्तीनी अस्पतालों में काम कर रहे कई हेल्थकेयर प्रोफेशनल घर नहीं जा पा रहे हैं. इस बीच, कई दूसरे लोग जो घेराबंदी शुरू होने पर घर पर थे, अस्पतालों तक पहुंचने में असमर्थ थे.

एक डॉक्टर ने द क्विंट को बताया, "मुझे नहीं पता कि मेरे कुछ सहकर्मी अभी जीवित हैं भी या नहीं.”

लेकिन वे कहते हैं कि आगे बढ़ने के अलावा कोई विकल्प नहीं है.

दूसरे ने कहा, "हां, मैं अपने परिवार और अपने जीवन के लिए चिंतित हूं. लेकिन हमें निर्दोष लोगों की जान बचानी है, जब तक वे अस्पतालों पर हमला नहीं करते."

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
अधिक पढ़ें
ADVERTISEMENT
×
×