ADVERTISEMENTREMOVE AD

कोरोना वैक्सीन से कम होती है पुरुषों की फर्टिलिटी? फेक दावे का सच

Updated
Health News
4 min read
story-hero-img
i
छोटा
मध्यम
बड़ा
Hindi Female

सोशल मीडिया पर ये दावा किया जा रहा है कि COVID-19 वैक्सीन से पुरुषों की फर्टिलिटी कम हो जाती है. इंग्लिश में वायरल हो रहे कई तरह के मैसेज के साथ ही इस दावे के साथ हिंदी अखबार की एक क्लिप भी शेयर की जा रही है.

यूरोलॉजिस्ट डॉ. सुरेश भगत ने क्विंट फिट से बातचीत में इस दावे को फेक बताया. अमेरिका में रीप्रोडक्शन को लेकर काम करने वाली रिसर्च संस्थाएं सोसायटी फॉर मेल रीप्रोडक्शन एंड यूरोलॉजी (SMRU) और सोसायटी फॉर द स्टडी ऑफ मेल रीप्रोडक्शन (SSMR) भी वैक्सीन के पुरुषों की फर्टिलिटी पर असर करने वाले दावे को पहले ही खारिज कर चुकी हैं.

ADVERTISEMENTREMOVE AD

कोरोना वैक्सीन से पुरुषों की बच्चे पैदा की क्षमता पर असर पड़ने के जो दावे किए जा रहे हैं, उनमें कितनी सच्चाई है, जानने के लिए सुनिए क्विंट फिट का कोविड फैक्ट चेक पॉडकास्ट:

दावा

कई तरह के मैसेजेस के जरिए वैक्सीन लेने के बाद फर्टिलिटी कम होने के दावे किए जा रहे हैं. अंग्रेजी में शेयर किए गए इस मैसेज में वैक्सीन लेने के बाद पुरुषों और महिलाओं दोनों की फर्टिलिटी कम होने का दावा किया गया है.

पोस्ट का अर्काइव देखने के लिए यहां क्लिक करें

(सोर्स : स्क्रीनशॉट/ट्विटर)

यही दावा करते अन्य पोस्ट्स का अर्काइव देखने के लिए यहां और यहां क्लिक करें.

हिंदी अखबार की एक कटिंग शेयर करते हुए भी ये दावा किया जा रहा है कि वैक्सीन लेने के बाद पुरुषों की फर्टिलिटी पर असर पड़ेगा.

पोस्ट का अर्काइव देखने के लिए यहां क्लिक करें

(सोर्स: स्क्रीनशॉट/ट्विटर)

अखबार की ये कटिंग ट्विटर पर कई यूजर शेयर कर रहे हैं.

0

पड़ताल में हमने क्या पाया?

वैक्सीन से पुरुषों की फर्टिलिटी पर कोई असर पड़ता है या नहीं, इसकी पुष्टि के लिए हमने वैक्सीन से जुड़ी अलग-अलग रिसर्च रिपोर्ट्स सर्च कीं.

अमेरिका में पुरुषों की फर्टिलिटी और रीप्रोडक्शन के विषय पर शोध करने वाली दो शीर्ष संस्थाओं सोसायटी फॉर मेल रीप्रोडक्शन एंड यूरोलॉजी (SMRU) और सोसायटी फॉर द स्टडी ऑफ मेल रीप्रोडक्शन (SSMR) ने एक बयान जारी कर स्पष्ट किया है कि कोविड वैक्सीन का पुरुषों की फर्टिलिटी पर अब तक किसी तरह का बुरा असर साबित नहीं हुआ है. इसलिए फर्टिलिटी की चाह रखने वाले पुरुषों को भी वैक्सीन दी जा सकती है. ये बयान 9 जनवरी, 2021 तक प्राप्त डेटा के आधार पर जारी किया गया है.

ADVERTISEMENT

SMRU और SSMR ने अपने संयुक्त बयान में आगे कहा,

क्लीनिकल ट्रायल में 16% पुरुषों को फाइजर वैक्सीन की दूसरी डोज लेने के बाद हल्का बुखार आया था. बुखार की वजह से पुरुषों के स्पर्म प्रोडक्शन में कुछ वक्त के लिए गिरावट आ सकती है. लेकिन, ये गिरावट कुछ समय के लिए ही होगी. स्पर्म में आने वाली ये गिरावट वैक्सीन की वजह से नहीं है, ये किसी भी तरह के बुखार में आ सकती है.

यूनाइटेड किंगडम के हेल्थ डिपार्टमेंट ने भी वैक्सीन के बाद होने वाली इनफर्टिलिटी के दावों को पूरी तरह निराधार बताया है.

ऐसी कोई विश्वसनीय स्टडी रिपोर्ट हमें नहीं मिली, जिससे पुष्टि होती हो कि वैक्सीन लेने से पुरुषों की फर्टिलिटी पर कोई असर पड़ता है.

ADVERTISEMENTREMOVE AD

दावे की पुष्टि के लिए हमने यूरोलॉजिस्ट डॉ. सुरेश भगत से संपर्क किया. डॉ. सुरेश ने वैक्सीन से पुरुषों की फर्टिलिटी पर पड़ने वाले किसी भी तरह के विपरीत प्रभाव वाले दावे को पूरी तरह निराधार बताया.

“वैक्सीन लेने के बाद हल्का बुखार जरूर आता है. अब तक ऐसा कोई डेटा या साइंटिफिक रिपोर्ट नहीं आई है, जिससे पुष्टि होती हो कि वैक्सीन लेने के बाद पुरुषों की फर्टिलिटी कम होती है. ये दावा पूरी तरह फेक है.”
डॉ. सुरेश भगत, यूरोलॉजिस्ट

महिलाओं की फर्टिलिटी को लेकर भी हो चुके हैं झूठे दावे

दिसंबर 2020 में ये दावा किया गया कि फाइजर वैक्सीन लेने के बाद महिलाओं में भी इनफर्टिलिटी की समस्या हो सकती है. वायरल मैसेज में कहा गया था कि वैक्सीन में मौजूद syncytin-1 प्रोटीन महिलाओं की इनफर्टिलिटी का कारण बन सकता है. वेबकूफ की पड़ताल में ये दावा फेक साबित हुआ था.

ADVERTISEMENT

वैक्सीन से इनफर्टिलिटी की शिकायत नहीं

वैक्सीन वायरस या दूसरे रोगाणु के खिलाफ हमारे इम्यून सिस्टम को तैयार करती है.

अगर वैक्सीन से फर्टिलिटी पर असर हो रहा होता, तो वैक्सीन लगवाने वाले लोगों में इनफर्टिलिटी की शिकायतें आतीं. लेकिन, अब तक ऐसा कोई भी ट्रेंड देखने को नहीं मिला है .

वैक्सीन कई चरणों के ट्रायल्स से होकर गुजरती हैं. वैक्सीन के ट्रायल में शामिल हजारों पुरुषों-महिलाओं में अब तक वैक्सीन से इनफर्टिलिटी की शिकायत नहीं आई है.

ADVERTISEMENTREMOVE AD

अखबार की इस वायरल कटिंग का सच क्या है ?

अलग-अलग कीवर्ड सर्च करने पर भी हमें वह सोर्स नहीं मिला, जहां वायरल कटिंग में दिख रहा आर्टिकल पब्लिश हुआ हो. इस वायरल कटिंग की हेडिंग में ये दावा किया गया है कि युवाओं को वैक्सीन की बजाए एंटी-फर्टिलिटी इंजेक्शन लगाया जाएगा.

लेकिन आर्टिकल में अंदर एंटी फर्टिलिटी इंजेक्शन का जिक्र ही नहीं है. आर्टिकल के अंदर कोरोना के अस्तित्व पर सवाल उठाए गए हैं. ये दावे डॉ. विश्वरूप रॉय चौधरी, डॉ. तरुण कोठारी और डॉ विकास जगदले के हवाले से किए गए हैं.

यहां बता दें कि डॉ. विश्वरूप फेक न्यूज की दुनिया में नया नाम नहीं हैं. 2010 से ही वे लगातार लोगों को भ्रमित करने वाले दावे करते रहे हैं. विश्वरूप के भ्रामक दावों की क्विंट की वेबकूफ टीम पहले भी पड़ताल कर चुकी है.

ADVERTISEMENT

मतलब साफ है- सोशल मीडिया पर किया जा रहा ये दावा झूठा है कि कोरोना वैक्सीन लेने से पुरुषों की फर्टिलिटी कम हो जाएगी.

(ये स्टोरी द क्विंट के कोविड-19 वैक्सीन से जुड़े प्रोजेक्ट का हिस्सा है, जो खासतौर पर ग्रामीण क्षेत्र की महिलाओं के लिए शुरू किया गया है.)

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENTREMOVE AD
Published: 
सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
अधिक पढ़ें
ADVERTISEMENT
×
×