ADVERTISEMENT

कोविड फाइटर डॉक्टर की अपील- मेंटल हेल्थ का रखें ख्याल, दिए 3 सुझाव

Updated
Fit Hindi
2 min read
कोविड फाइटर डॉक्टर की अपील- मेंटल हेल्थ का रखें ख्याल, दिए 3 सुझाव

रोज का डोज

निडर, सच्ची, और असरदार खबरों के लिए

By subscribing you agree to our Privacy Policy

उत्तर प्रदेश के लखनऊ में युवा सर्जन डॉ. नीरज कुमार मिश्रा को कोरोना ने छह महीने में दो बार चपेट में ले लिया. दूसरी बार उन्हें कोरोना हुआ तो यह पहले से ज्यादा गंभीर था. फिलहाल, डॉ. नीरज ICU से बाहर आ गए हैं, लेकिन अब भी ऑक्सीजन सपोर्ट पर हैं.

डॉक्टर नीरज का कहना है कि कोरोना मरीजों के इलाज के दौरान उनके मेंटल हेल्थ का ख्याल रखना भी बेहद जरूरी है क्योंकि लंबे समय तक अस्पताल में भर्ती रहने के दौरान उन्होंने पाया कि कोरोना बीमारी के दौरान मरीजों को अकेलेपन से खतरा है.

ADVERTISEMENT
मरीजों के पास कोई नहीं होता. उन्हें सिर्फ चारों तरफ मशीनें, उसकी आवाजें और कुछ बीमार लोग ही नजर आते हैं. इससे मरीज मानसिक रूप से कमजोर महसूस करते हैं और उन्हें पैनिक डिसऑर्डर होता है. ऐसे में इलाज में मानसिक और भावनात्मक मदद की बहुत जरूरत होती है ताकि वे निगेटिव सोच से दूर रहें.
डॉ. नीरज कुमार मिश्रा, सर्जन और पूर्व RDA प्रेसिडेंट, KGMU लखनऊ

उन्होंने अपने अनुभव के आधार पर 3 जरूरी सुझाव दिए और अपील की है इसे कोविड इलाज के प्रोटोकॉल में शामिल किया जाए ताकि मरीज की रिकवरी जल्दी हो सके और वे मानसिक तौर पर भी स्वस्थ रहें.

1. अध्यात्म का लिया जा सकता है सहारा, ताकि मरीजों का ध्यान बंटे और पॉजिटिविटी आए

2. साइकलॉजिस्ट, मेंटल केयर और मोटिवेशनल लोगों को जोड़कर एक टीम बने

3.सुरक्षा प्रोटोकॉल का पालन करते हुए मरीज के घरवालों को 5 मिनट के लिए मिलवाएं

ADVERTISEMENT

दरअसल, खुद के इलाज के दौरान डॉ नीरज के लिए अपना मानसिक स्वास्थ्य संभालना मुश्किल रहा. हाल ही, उनके भाई की कोविड-19 की वजह से मौत हुई. उनके माता-पिता भी कोरोना संक्रमण की वजह से हॉस्पिटल में भर्ती रहे. डॉ नीरज का कहना है कि सख्त इलाज और अकेलापन बीमारी को गंभीर कर सकता है. कोविड वार्ड में मरीजों के लिए अकेलापन खतरनाक साबित हो सकता है इसलिए इलाज के प्रोटोकॉल में बदलाव की जरूरत है ताकि बेहतर परिणाम मिल सकें.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENT
Published: 
सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
500
1800
5000

or more

प्रीमियम

3 माह
12 माह
12 माह
मेंबर बनने के फायदे
अधिक पढ़ें
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT
और खबरें
×
×