ADVERTISEMENT

COVID की दूसरी लहर:डर का दिमाग पर असर?इन उपायों से मिल सकती है मदद

Updated
Fit Hindi
4 min read
COVID की दूसरी लहर:डर का दिमाग पर असर?इन उपायों से मिल सकती है मदद

रोज का डोज

निडर, सच्ची, और असरदार खबरों के लिए

By subscribing you agree to our Privacy Policy

26 साल की अनिशा हाल ही कोविड संक्रमण से उबरी हैं लेकिन इन दिनों उन्हें अपने परिवार की चिंता है जो अब तक संक्रमण से बचे हुए हैं.

कोरोनावायरस की दूसरी लहर में अस्पतालों के बाहर लोगों की चीख-पुकार, ऑक्सीजन की कमी, श्मशान में जलती लाशों के विजुअल मीडिया और सोशल मीडिया पर बहुत आम हो गए हैं. ये खबर और सूचनाएं अब डर बनकर हमारे दिमाग में जगह बनाती जा रही है.

अनिशा भी इसी डर से घिरी हैं. जाहिर है, इस डर का मानसिक स्वास्थ्य पर असर पड़ रहा है.

ADVERTISEMENT

इंटरनेशनल एसोसिएशन ऑफ अप्लाइड साइकोलॉजी की एक स्टडी के परिणामों ने संकेत दिया कि सोशल मीडिया के जरिये आपदा की खबर कंज्यूम करने वाले लोगों में डिप्रेशन का रिस्क ज्यादा पाया गया है. ये मानसिक स्वास्थ्य को खराब कर सकता है.

डिजास्टर स्ट्रेसर(Disaster stressor) एक रिस्क फैक्टर हो सकता है जो अवसाद में सोशल मीडिया के इस्तेमाल के हानिकारक प्रभाव को और बढ़ाता है. स्ट्रेसर आपके आस-पास की घटनाएं या स्थितियां हैं जो तनाव को ट्रिगर कर सकती हैं. स्टडी के मुताबिक, सोशल मीडिया पर आपदा के बारे में ज्यादा जानकारी नकारात्मक प्रभाव को ट्रिगर कर सकती है, जो बाद में मानसिक स्वास्थ्य समस्याओं में बदल सकते हैं.

कुल मिलाकर जब बुरी खबरें हमेशा बनी रहें तो आपका मूड लगातार निगेटिव रहने लगता है जो आगे चलकर एंग्जायटी और डिप्रेशन पैदा कर सकता है.

ADVERTISEMENT

अनिशा का कहना है कि इन दिनों अचानक उनकी पल्स रेट और धड़कन तेज हो जाती है. कोरोना वायरस पर मीडिया कवरेज देखकर उन्हें डर लगता है कि अगर परिवार में और किसी को संक्रमण हो गया तो अस्पताल में जगह नहीं मिलेगी. दवाईयों और ऑक्सीजन का इंतजाम भी नहीं हो सकेगा.

गुड़गांव में फोर्टिस मेमोरियल रिसर्च इंस्टीट्यूट में मेंटल हेल्थ एंड बिहेवोरियल साइंस हेड डॉक्टर कामना छिब्बर कहती हैं कि लंबे समय तक चलने वाले तनाव से फटीग(Fatigue) हो जाता है और उसे बर्दाश्त करने की क्षमता कम होने लगती है. ये थकान सबके मन में आने लगी है. मौजूदा समय में सभी चिंता और तनाव से घिरे हुए हैं. लोग निगेटिव खबर को सुनते ही खुद से जोड़कर देखते हैं कि अगर ऐसी स्थिति उनके साथ हुई तो वो क्या करेंगे. इस स्थिति में घबराहट, बेचैनी होने लगती है.

वो कहती हैं- मानसिक रूप से स्वस्थ और अस्वस्थ लोगों पर इसका असर एक सा ही होता है. नींद खराब हो सकती है, भूख पर असर हो सकता है, प्रोडक्टिविटी और रिलेशनशिप पर भी असर पड़ता है, चिड़चिड़ापन होने लगता है.

"अगर आप पहले से ही किसी मानसिक बीमारी से जूझ रहे हों तो ये स्थिति आपके लिए ट्रिगर बन सकती हैं. जिन लोगों में काफी समय से लक्षण न हों, उनमें लक्षण के दोबारा उभरने की संभावना है. जिन लोगों में पहले से ही लक्षण हों, वो गंभीर हो सकते हैं."

वो कहती हैं-

“हरेक को ये सोचना होगा कि ये हालात सिर्फ आपके साथ नहीं है, सबके साथ है. सबको एक साथ मिलकर इससे निकलने की जरूरत है. कंट्रोल में रहने वाली चीजों पर फोकस करें. इस वक्त हमारा कंट्रोल इन चीजों पर है कि हम सुरक्षा और सावधानी बरत सकते हैं. नींद, एक्सरसाइज और खुराक पर ध्यान दें. एक्टिविटी बढ़ाएं. रूटीन में रहें.”
कामना छिब्बर
ADVERTISEMENT

फोर्टिस मुंबई में कंसल्टेंट साइकिएट्रिस्ट डॉ. केदार तिल्वे कहते हैं- हम सबकी जिंदगी में कुछ न कुछ तनाव होता है लेकिन मौजूदा हालात में ये देखने को मिल रहा है कि आपकी नॉर्मल रूटीन, दैनिक क्रियाएं जिससे कोई डर नहीं था, उन्हें लेकर एक डर पैदा हो गया है.

“ब्रेन सिस्टम जब ओवरड्राइव में चला जाता है तो सामान्य स्टिम्यलस (stimulus) को भी परसीव्ड थ्रेटनिंग स्टिम्यलस(Perceived threatening stimulus) की तरह लेने लगता है. कोरोनावायरस के दौर में बार-बार हाथ धोना, बाहर निकलकर घर वापस आने पर नहाना, खुद को सैनिटाइज करना- इन एक्टिविटी का आप पालन कर रहे हैं और ध्यान रख रहे हैं कि ये आपसे छूट न जाए. ऐसे हालात में आपका एंग्जायटी सिस्टम ओवरवर्क करने लगा है और ये तनाव को बढ़ाता है.”
डॉ. केदार तिल्वे
ADVERTISEMENT

क्या हैं उपाय?

डॉ. केदार तिल्वे कहते हैं कि लोग अपने स्तर पर इसका उपाय ढूंढें और खुद के साथ-साथ दूसरों का भी ख्याल रखें.

  • न्यूज सोर्स को लिमिट करें. एक लोकल और एक ग्लोबल या नेशनल चैनल चुनें, जहां से आप सूचनाएं ले सकें.

  • फोन में डिजिटल टाइमर ऐप इंस्टॉल करें. इससे आप सोशल मीडिया का सीमित समय तक इस्तेमाल कर सकेंगे. ये आपको बेवजह इंटरनेट सर्फिंग से रोकेगा.

  • अखबार पढ़ें. न्यूज चैनल देखने का समय तय करें. पूरे परिवार के साथ आधा घंटा सुबह और आधा घंटा शाम में न्यूज चैनल देखें और देखने के बाद 5 मिनट चर्चा करें ताकि आपके साथ-साथ अन्य सदस्यों की भी खबरों को लेकर पैदा हुई एंग्जायटी कम हो.

  • अखबारों में आने वाली पॉजिटिव खबरों पर चर्चा करें, क्योंकि निगेटिव खबरों की भीड़ में हम पॉजिटिव खबरों को नजरअंदाज कर देते हैं. अपने घर में वल्नरेबल लोगों को वो खबर पढ़कर सुनाने को कहें ताकि वो भी पॉजिटिव रहें.

  • घर में रहने और एक्टिविटी नहीं करने की वजह से आपको समय पर नींद नहीं आने की दिक्कत पेश आ सकती है. लेकिन स्लीप साइकिल का ख्याल रखें. मान लीजिए अगर आपने रात में सोने का समय 12 और सबह जागने का समय 7 बजे तय किया है लेकिन आप देर से सोए हों तो भी सुबह समय पर जागें. थकान महसूस होने पर दिन में पावर नैप ले लें, लेकिन स्लीप साइकिल बरकरार रखें.

  • योगा करें. जॉगिंग के लिए बाहर न जा सकने पर चिड़चिड़ाहट महसूस करने की बजाय बरामदे में टहलें, सीढ़ियां चढ़-उतर कर एक्सरसाइज करें. माहौल को देखते हुए आदतों में थोड़ा बदलाव लाएं

  • दोस्तों और रिश्तेदारों से बात करते रहें.

  • जरूरत पड़ने पर कंसल्टेंट की सलाह लें.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENT
Published: 
सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
500
1800
5000

or more

प्रीमियम

3 माह
12 माह
12 माह
मेंबर बनने के फायदे
अधिक पढ़ें
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT
और खबरें
×
×