ADVERTISEMENTREMOVE AD
मेंबर्स के लिए
lock close icon

होली पर कैसे रखें अपने बालों और स्किन का ख्याल? शहनाज हुसैन के टिप्स

Pre & Post-Holi Skincare Tips: केमिकल वाले रंगों से बाल और त्वचा को बचाने के उपाय

Published
फिट
5 min read
story-hero-img
i
छोटा
मध्यम
बड़ा
Hindi Female

Pre & Post-Holi Skincare Tips in Hindi: होली का त्यौहार लोगों के दिलों में खास जगह रखता है. होली रंगों और पकवानों का त्योहार है. पुराने समय में होली खेलने में आर्गेनिक रंगों का प्रयोग किया जाता था, जिससे बालों और त्वचा में निखार आ जाता था. प्राकृतिक रंगों से सेहत पर भी सकारात्मक प्रभाव पड़ता था. लेकिन पिछले कुछ सालों से आर्गेनिक रंगों की जगह केमिकल रंगों ने जगह ले ली है, जिनके उपयोग से बाल, त्वचा और सेहत पर बुरा असर पड़ता है. केमिकल वाले रंगों से बाल और त्वचा रूखी-बेजान हो जाती है.

मशहूर ब्यूटीशियन शहनाज हुसैन ने होली के केमिकल वाले रंगों से स्किन और बालों को खराब होने से बचाने के आसान नुस्खे हमें बताए.

ADVERTISEMENTREMOVE AD

होली खेलने से पहले करें ये तैयारियां

केमिकल वाले रंगों से होली खेलने पर बाल झड़ने शुरू हो जाते हैं. त्वचा में जलन और खुजली होने लगती है. हालांकि कुछ लोग होली के रंगों से बचने के लिए अपने आपको घरों तक ही सीमित रखते हैं लेकिन शहनाज हुसैन कहती हैं कि रंगों से बचने की बजाय आपको कुछ सावधानियों के साथ इस त्यौहार का भरपूर मजा लेना चाहिए.

1. 6 महीने से कम उम्र के बच्चों को केमिकल युक्त रंगों से जरूर बचाएं, क्योंकि उनकी त्वचा काफी नाजुक होती है और उनकी प्रतिरोधक क्षमता भी काफी कमजोर होती है, जिसके चलते केमिकल युक्त रंग उन्हें ज्यादा नुकसान पहुंचा सकते हैं. लेकिन अपने बेबी को होली के त्यौहार के प्रतीकात्मक रूप में लाल चंदन का टीका लगाना मत, भूलिए क्योंकि यह उसकी पहली होली है.

2. अक्सर होली खेलते हुए हम अपनी आंखों की सुरक्षा की परवाह कम करते हैं, जो घातक साबित हो सकता है. होली खेलते समय कॉन्टैक्ट लेंस का इस्तेमाल नहीं करें. कई बार कॉन्टैक्ट लेंस के माध्यम से रंग आपकी आंखों में जा सकता है और आप इंफेक्शन का शिकार हो सकते हैं. कॉन्टैक्ट लेंस की बजाय आप सनग्लास का इस्तेमाल कीजिए, जिससे रंग आपकी आंखों में न जा सके. होली खेलते समय अपनी आंखों को न रगड़े और न हाथ लगाएं. इससे आप इंफेक्शन से बच सकते हैं.

3. होली खेलते समय पूरी बाजू वाला कपड़ा पहनें. ऐसा करने से आपकी त्वचा रंगों के सीधे संपर्क में नहीं आएगी.

4. रंग खेलना शुरू करने से पहले त्वचा के खुले अंगों को मॉइस्चराइज जरूर करें. इससे रंग आपकी त्वचा के छिद्रों के माध्यम से अंदर तक नहीं जा सकेगा और आपको रंग छुड़ाने में भी आसानी होगी.

5. अगर आप किसी सांस संबंधी परेशानी से जूझ रहे हैं, तो भीड़ से दूर रहें और अपनी फैमिली और दोस्तों के साथ घर पर ही होली मनाएं.

6. होली का त्यौहार ज्यादातर खुले आसमान में खेला जाता है, जिससे सूर्य की गर्मी से भी त्वचा पर बुरा प्रभाव पड़ता है. खुले आसमान में हानिकारक यू.वी. किरणों के साथ-साथ नमी की कमी की वजह से त्वचा के रंग में कालापन आ जाता है. ऐसे खुले में होली खेलने के बाद त्वचा निर्जीव बन जाती है.

7. अपनी त्वचा की रक्षा केे लिए होली खेलने से 20 मिनट अपनी स्किन पर 20 एस.पी.एफ. (20 SPF) सनस्क्रीन लगा लीजिए. यदि आपकी त्वचा डैमेजेड है तो 20 एस.पी.एफ. से ज्यादा की सनस्क्रीन का उपयोग करना चाहिए. ज्यादातर सनस्क्रीन में माइस्चराईजर पहले से रहता है पर अगर आपकी स्किन बहुत ड्राई है तो पहले सनस्क्रीन लगाने के बाद कुछ समय रुक कर माइस्चराईजर लगा लें. आप अपनी बाजू तथा सभी खुले अंगों पर माईस्चराइजर, लोशन या क्रीम का उपयोग करें.

0

8. होली खेलने से पहले सिर में बालों पर हेयर सीरम या कंडीशनर का उपयोग करें। इससे बालों को गुलाल के रंगों की वजह से पहुंचने वाले सुखेपन से सुरक्षा मिलेगी तथा सूर्य की किरणों से होने वाले नुकसान से भी बचाव मिलेगा।

9. आजकल बाजार में हेयर क्रीम आसानी से उपलब्ध हो जाता है. थोड़ी से हेयर क्रीम लेकर उसे दोनों हथेलियों पर फैलाकर बालों की हल्की-हल्की मालिश करें. आर्गेनिक नारियल तेल से भी आप अपने बालों की मालिश कर सकते हैं. इससे भी केमिकल वाले रंगों से बालों को होने वाले नुकसान से बचाया जा सकता है.

10. होली के रंगों से नाखूनों को बचाने के लिए नाखूनों पर नेल वार्निश की मालिश करनी चाहिए.

होली के रंग ऐसे हटाएं

1. होली खेलने के बाद त्वचा तथा बालों पर जमें रंगों को हटाना काफी मुश्किल काम होता है. उसके लिए सबसे पहले चेहरे को बार-बार साफ पानी से धोएं. इसके बाद कलीजिंग मिल्क या लोशन लगा लें. कुछ समय रहने देने के बाद इसे गीले काटन से साफ करें. आंखों के आसपास हल्के-हल्के साफ करना न भूलें. क्लींजिंग जेल से चेहरे पर जमें रंगों को हटाने में काफी मदद मिलती है.

2. अपना घरेलू क्लीनजर बनाने के लिए आधा कप ठण्डे दूध में तिल, जैतून, सूर्यमुखी या कोई भी वनस्पति तेल मिला लीजिए. काटन वूल पैड को इस मिश्रण में डूबोकर त्वचा को साफ करें.

3. शरीर से केमिकल रंगों को हटाने में तिल के तेल की मालिश महत्वपूर्ण भूमिका अदा करती है. इससे न केवल केमिकल रंग हट जाएंगे बल्कि स्किन को अतिरिक्त सुरक्षा भी मिलेगी. तिल के तेल की मालिश से सूर्य की किरणों से हुए नुकसान की भरपाई में मदद मिलती है. नहाते समय शरीर को लूफ या वाश कपड़े की मदद से स्क्रब कीजिए. नहाने के तत्काल बाद शरीर तथा चेहरे पर माइस्चराईजर का उपयोग कीजिए. इससे शरीर में नमी बनाए रखने में मदद मिलेगी.

ADVERTISEMENTREMOVE AD

4. स्किन में खुजली है तो पानी के मग में दो चम्मच सिरका मिलाकर उसे स्किन पर लगाएं. इससे खुजली खत्म हो जाएगी. इसके बाद भी त्वचा में खुजली जारी रहती है और स्किन पर लाल चकत्ते-दाने उभर आते हैं, तो समझें कि आपको रंगों से एलर्जी हो गई है. ऐसे में डॉक्टर की सलाह लें.

5. बालों से रंग निकालने के लिए उसे साफ-साफ पानी से बार-बार धोएं. इसके बाद बालों को हर्बल शैम्पू से धोएं. उंगलियों की मदद से शैम्पू को पूरे सिर पर फैला लें. इसे पूरी तरह लगाने के बाद पानी से अच्छी तरह धो लें.

6. बालों से रंग निकालने के लिए बियर को अन्तिम हथियार के रूप में प्रयोग किया जा सकता है. बियर में नींबू का जूस मिलाकर शैम्पू के बाद सिर पर उड़ेल लें. इसे कुछ मिनट बालों पर लगा रहने के बाद साफ पानी से धो डालें.

होली के बाद के कुछ दिन ऐसे रखें स्किन और बालों का ख्याल 

होली के अगले दिन दो चम्मच शहद को आधा कप दही में मिलाकर थोड़ी सी हल्दी में मिलाएं. इस पेस्ट को चेहरे, बाजू और सभी खुले अंगों पर लगा लें. इसे 20 मिनट लगा रहने दें. उसके ताजे पानी से धो लें. इससे स्किन से टैनिंग हट जाएगी और स्किन मुलायम हो जाएगी.

होली के बाद के दिनों में अपनी स्किन और बालों की अच्छी देखभाल करें. एक चम्मच शुद्ध नारियल तेल में एक चम्मच अरंडी का तेल मिलाकर इसे गर्म करके अपने बालों पर लगा लें. एक तौलिए को गर्म पानी में भिंगोंकर पानी को तौलिये से निचोड़ दें. तौलिए को सिर पर लपेटकर 5 मिनट तक रहने दें. इस प्रक्रिया को 4-5 बार दोहराएं, एक घंटे बाद बाल धो लें.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
अधिक पढ़ें
×
×