ADVERTISEMENTREMOVE AD

योग दिवस 2019 : योग का इतिहास वेद से वेगस तक

देखिए योग का समय-समय पर बदलता स्टाइल.

Updated
फिट
1 min read
छोटा
मध्यम
बड़ा

भारत में योग परंपरा और शास्त्रों का विस्तृत इतिहास रहा है.

योग की मौजूदगी का लोक संस्कृति, हिंदू घाटी सभ्यता काल, वैदिक और उपनिषद, धरोहरों, बौद्ध, जैन के रीति-रिवाजों और रामायण-महाभारत काव्यों में उल्लेख है.

माना जाता है कि योग का जन्म भारत में ही हुआ. गीता में श्रीकृष्ण ने कहा है ‘योगः कर्मसु कौशलम’ (कर्मो में कुशलता को योग कहते हैं). हालांकि यह वाक्य योग की परिभाषा नहीं है.

ऐसा कहा जाता है कि सूर्य नमस्कार भी योग साधाना से ही प्रभावित है. इसके अलावा, दक्षिण एशिया के आध्यामिक परंपराओं में भी इस योग का वर्णन किया गया है. ये वह समय था, जब योग गुरु इसकी शिक्षा देते थे. इसके आध्यात्मिक मूल्य को खास महत्व दिया जाता था.

पूर्व वैदिक काल (2700 बीसी) और उसके बाद पतंजलि युग में भी योग होने के ऐतिहासिक साक्ष्य मौजूद है.

देखिए योग का समय-समय पर बदलता रूप.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

Published: 
सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
अधिक पढ़ें
×
×