ADVERTISEMENT

जामुन खाने के फायदे और आहार में शामिल करने के मजेदार तरीके

जामुन को इन मजेदार तरीकों से अपने आहार में शामिल करें.

Published
फिट
3 min read
जामुन खाने के फायदे और आहार में शामिल करने के मजेदार तरीके
i

जामुन या काली बेर हमेशा गर्मियों और मानसून के दौरान आनंद लेने के लिए एक रंगीन और स्वादिष्ट फल रहा है. लेकिन इसके स्वाद के अलावा, इस फल के कई स्वास्थ्य और औषधीय लाभ हैं, जो इसे हमारे नियमित आहार में एक एक्सीलेंट फल बनाते हैं.

यह पेट दर्द को दूर करने के लिए जाना जाता है, और इसमें एंटी-स्कॉर्बुटिक, और डियूरेटिक (diuretic) गुण होते हैं. जामुन के पॉलीफेनोलिक गुण कैंसर, हार्ट की बीमारी, डायबिटीज, अस्थमा और गठिया से लड़ने के काम आते हैं.

ADVERTISEMENT

जामुन के नियमित सेवन से पेट फूलना, आंत् ऐंठना, पेट के विकार जैसे विभिन्न पाचन विकारों को रोकने में मदद मिलती है. जामुन के एंटी बैक्टीरियल गुणों का उपयोग दांतों और मसूड़ों को मजबूत बनाने के लिए और जामुन के बीजों का उपयोग मुंहासों के इलाज के लिए किया जाता है.

आइए विस्तार से जामुन खाने के लाभ और अपने आहार में शामिल करने के विभिन्न तरीकों को जानने की कोशिश करते हैं.

पाचन

मानसून और गर्मी की तपिश हमारे पाचन तंत्र पर भारी पड़ती है. खराब पाचन या पाचन संबंधी समस्याएं शरीर के विभिन्न कार्यों या अंगों को प्रत्यक्ष या परोक्ष रूप से प्रभावित कर सकती हैं.

जामुन यहां बहुत मददगार हो सकता है. यह पेट को ठीक रखता है और पेट दर्द से राहत देता है. इसके अलावा, जामुन को दर्द के प्रबंधन के लिए एक प्रभावी उपाय माना जाता है, विशेष रूप से पाचन तंत्र या गठिया से संबंधित.

स्वस्थ त्वचा को बढ़ावा देता

जामुन के रस का नियमित सेवन आपको स्वस्थ और चमकदार त्वचा देता है. यह रक्त को डिटॉक्सीफाई और शुद्ध करने में मदद करता है और इस प्रकार आपकी त्वचा को अंदर से चमकदार बनाता है.

फल के कसैले गुण मुंहासों और फुंसियों को कम करने, त्वचा की बनावट में सुधार करने और झुर्रियों को रोकने में मदद करते हैं. यह त्वचा में हानिकारक पदार्थों से लड़ने में भी मदद करता है और समय से पहले बूढ़ा होने से भी रोकता है.

ADVERTISEMENT

मधुमेह को मैनेज करने में मदद करता

फल में जंबोलाना होता है, जिसमें डायबिटीज विरोधी गुण होते हैं. जामुन के बीज इंसुलिन उत्पादन और ब्लड शुगर के स्तर को भी मैनेज में मदद करते हैं. इस प्रकार जामुन टाइप 2 डायबिटीज के लक्षण जैसे प्यास और बार-बार पेशाब आने को कम कर सकता है.

हीमोग्लोबिन

जामुन विटामिन सी और आयरन का एक बढ़िया स्रोत हैं और ये पोषक तत्व हीमोग्लोबिन की संख्या को बढ़ाने में मदद करते हैं. आयरन ब्लड को शुद्ध करने के लिए जिम्मेदार होता है. हीमोग्लोबिन की संख्या में वृद्धि आपके ब्लड को अंगों तक अधिक ऑक्सीजन ले जाने और आपके शरीर को स्वस्थ रखने की अनुमति देता है.

जामुन को हम अपनी डाइट में कैसे शामिल कर सकते हैं?

  • आप एक जार में जामुन, पुदीना, चीनी या गुड़ और नींबू मिलाकर बाजार में आसानी से मिलने वाले आइसक्रीम होल्डर में फ्रीज कर सकते हैं. इस मिश्रण को कुछ घंटों के लिए फ्रिज में रख दें और आपका जामुन पॉप्सिकल तैयार है.

  • आप जामुन-क्विनोआ रेसिपी का आनंद ले सकते हैं, जो सेहतमंद और स्वादिष्ट है. बिना बोर हुए पूरे साल इसका आनंद लिया जा सकता है. इसमें उबले हुए क्विनोआ का पोषण और खीरे, टमाटर और हरे प्याज के साथ जामुन का स्वाद मिला हुआ होता है.

  • आप जामुन को चीनी और इलायची के साथ मिलाकर अपने कस्टर्ड में मिला सकते हैं. यह एक अच्छा रंग देगा और नियमित कस्टर्ड के स्वाद को बढ़ा देगा.

  • जामुन का आनंद लेना का सबसे अच्छा तरीका है, पेड़ों से सीधे ताजे और पके हुए जामुन तोड़ कर खाएं.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

क्विंट हिंदी पर लेटेस्ट न्यूज और ब्रेकिंग न्यूज़ पढ़ें, fit के लिए ब्राउज़ करें

टॉपिक:  fruit for diabetics 

ADVERTISEMENT
अधिक पढ़ें
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT
और खबरें
×
×