ADVERTISEMENTREMOVE AD
मेंबर्स के लिए
lock close icon

केरल: जरूरी है बाढ़ प्रभावितों के मानसिक स्वास्थ्य की देखभाल

जीवन में अप्रत्याशित घटनाएं मानसिक तौर पर हिला देती हैं.

Updated
फिट
5 min read
story-hero-img
i
छोटा
मध्यम
बड़ा
Hindi Female

केरल में एक 19 साल के छात्र ने आत्महत्या कर ली क्योंकि बाढ़ के पानी में उसके सारे डॉक्यूमेंट्स बर्बाद हो गए थे. राहत शिविर से वापस लौटे एक 54 वर्षीय शख्स ने बाढ़ की वजह से तबाह हुए अपने घर की हालत देखकर खुद को फांसी लगा ली. बाढ़ से जान-माल की हानि के बाद इससे लोगों को पहुंचे मानसिक आघात का नतीजा आत्महत्या के तौर पर सामने आ रहा है.

बाढ़ का पानी कम होने के साथ जहां एक ओर राज्य सरकार इस आपदा से हुई कुल हानि का लेखा-जोखा तैयार करेगी, वहीं इसे झेलने वाले लोग बाढ़ में बहे अपनी जिंदगी के हिस्सों को बटोरकर फिर से बसने की कोशिश करेंगे. बाढ़ के बाद तमाम बीमारियां फैलने की आशंका के मद्देनजर केरल में डॉक्टरों की टीम तैनात कर दी गई है. इसी के साथ बाढ़ से प्रभावित लोगों के मानसिक स्वास्थ्य का भी ख्याल रखने की जरूरत है, ताकि वो इस सदमे से उबर सकें.

लोगों में सदमे के बाद तनाव यानी पोस्ट-ट्रॉमेटिक स्ट्रेस डिसऑर्डर (PTSD), अवसाद और चिंता हर प्राकृतिक आपदा का परिणाम होता है. साल 2001 में गुजरात में आया भूकंप हो, 2004 में आई सुनामी, 2005 में मुंबई की बाढ़ हो या 2010 में चेन्नई की बाढ़.

जीवन में अप्रत्याशित घटनाएं मानसिक तौर पर हिला देती हैं.
केरल में बाढ़ के बाद नाव के जरिए अपने घर से निकलता शख्स.
(फोटो: एपी)

केरल के स्वास्थ्य मंत्री केके शैलजा ने बाढ़ से प्रभावित हुए लोगों को सांत्वना दी है कि वे अकेले नहीं हैं. मुख्यमंत्री पिनरई विजयन ने भरोसा दिया है कि सरकार लोगों के साथ है. अधिकारियों ने बताया है कि बाढ़ प्रभावितों के मानसिक स्वास्थ्य का ख्याल काउंसलर और मनोवैज्ञानिकों की मदद से रखा जा रहा है.

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा ने कहा है कि अगर राज्य सरकार चाहे तो जरूरत पड़ने पर राष्ट्रीय मानसिक स्वास्थ्य और न्यूरो विज्ञान से साइको-सोशल टीमें भी तैनात कर दी जाएंगी.

आइए समझते हैं कि किसी भी प्राकृतिक आपदा का पीड़ितों पर मनोवैज्ञानिक दृष्टि से क्या प्रभाव पड़ता है और उससे जल्द से जल्द निपटना क्यों जरूरी होता है?

प्राकृतिक आपदा में हुई हानि का प्रभाव

कोच्चि में मेडिकल ट्रस्ट हॉस्पिटल के मुख्य मनोचिकित्सक डॉ सीजे जॉन कहते हैं कि लोगों के जीवन में अप्रत्याशित घटनाएं उनके मानसिक स्वास्थ्य पर स्थाई प्रभाव डाल सकती हैं.

तमिलनाडु के कुड्डालोर गांव में सुनामी आने के दो महीने बाद एक अध्ययन किया गया था. इसमें 12.7 फीसदी व्यस्कों में पोस्ट-ट्रॉमेटिक स्ट्रेस डिसऑर्डर के चिड़ाचिड़ाहट और भावनात्मक शून्यता जैसे लक्षण देखे गए थे. 1993 में लातूर भूकंप और 2005 में मुंबई की बाढ़ से प्रभावित लोगों पर किए गए कई अध्ययन पोस्ट-ट्रॉमेटिक स्ट्रेस डिसऑर्डर की पुष्टि करते हैं.

जीवन में अप्रत्याशित घटनाएं मानसिक तौर पर हिला देती हैं.
बाढ़ के पानी में एक बुजुर्ग
(फोटो: एपी)
ऐसी आपदाओं से सबसे पहले जान को खतरे का डर होता है. फिर कीमती सामान, घर, संपत्ति को खोने का दुःख और जीवन में आने वाली कठिनाइयां हावी होती हैं. ये तनाव अवसाद और चिंता का कारण बन सकता है. आपदा के गुजरने के बाद उसकी यादों से डर लग सकता है और पोस्ट-ट्रॉमेटिक स्ट्रेस डिसऑर्डर हो सकता है. 
डॉ सीजे जॉन, मुख्य मनोचिकित्सक, मेडिकल ट्रस्ट हॉस्पिटल, कोच्चि 

आपदा से फिर पीड़ित होने का डर और आपदा का वो खौफनाक मंजर पीड़ित लोगों को बाद में भी परेशान कर सकता है. कुछ लोग ऐसी सभी चीजों से बचना शुरू कर देते हैं, जो उन्हें उसकी याद दिलाए. वहीं कुछ लोग सामाजिक जीवन से कटने लगते हैं. ये सभी PTSD के संकेत हैं. डॉ जॉन उदाहरण देते हैं कि जैसे बाढ़ से प्रभावित हुए कुछ लोग बारिश को देखकर ही चिंतित हो सकते हैं और और छोटी-छोटी चीजों से चौंकने लगते हैं.

जीवन में अप्रत्याशित घटनाएं मानसिक तौर पर हिला देती हैं.
आपदा का वो खौफनाक मंजर पीड़ित लोगों को बाद में भी परेशान कर सकता है.
(फोटो: एपी)

दो बच्चों की एक मां बिल्कुल ऐसा ही महसूस किया, जैसा डॉ जॉन उदाहरण देते हैं. साल 2010 में उनके घर में घुटनों तक पानी भर गया था. पानी बच्चे के पालने तक आ पहुंचा था. गनीमत की बात ये थी कि उस दिन बच्चा पालने की बजाए बिस्तर पर था. वो ये बात सोचकर सिहर उठती हैं कि अगर बच्चा उस दिन पालने में होता, तो क्या होता. उस दौरान उन्हें कोई नुकसान नहीं हुआ था और कुछ घंटों की कोशिश कर घर में भरा पूरा पानी बाहर कर लिया गया था. लेकिन इस वजह से उन्हें करीब 5 साल तक पैनिक अटैक पड़ता रहा. वो घने-काले बादल देखकर ही पैकिंग शुरू कर दिया करती थीं.

डॉ जॉन बताते हैं कि किसी आपदा से पीड़ित होने वालों में से 80 फीसदी पीड़ितों में मनोविकार नहीं बल्कि मनोवैज्ञानिक लक्षण देखे जाते हैं. भय और चिंता जैसे लक्षण समाप्त हो सकते हैं. लेकिन 15-25 फीसदी लोगों पर आपदा का स्थाई प्रभाव पड़ सकता है. अगर ऐसा तीन हफ्तों से ज्यादा वक्त तक हो, तब ये मनोविकार बन जाता है. ऐसे में पुनर्वास और परामर्श उपायों को तुरंत शुरू कर देना चाहिए. 

ऐसे में क्या करना चाहिए?

साइको-सोशल टीम के तौर पर मदद पहले से ही मौजूद है. जरूरत सिर्फ एक दिशा की है. राहत शिविरों में स्वयं सहायता समूह बना कर लोगों की काउंसलिंग की जा सकती है.
डॉ सीजे जॉन, मुख्य मनोचिकित्सक, मेडिकल ट्रस्ट हॉस्पिटल, कोच्चि

राहत शिविरों में सभी लोग एक ही तरह के तनाव से गुजरते हैं और इसलिए वहां ये काम आसान होगा. केरल से आई आत्महत्या की तीन खबरें बताती हैं कि जैसे-जैसे लोग अपने घर वापस जाएंगे ऐसे मामलों में वृद्धि हो सकती है.

साल 2004 में तमिलनाडु में सुनामी के कहर के बाद चेन्नई के इंस्टीट्यूट ऑफ मेंटल हेल्थ से कई मनोरोग चिकित्सकों ने प्रभावित क्षेत्रों का दौरा किया था. इंस्टीट्यूट के डायरेक्टर डॉ एम मुरुगप्पन ने तब पीड़ितों से कैसे बात करनी है, इसके बारे में बताया था.

हम सबसे पहले लोगों को अपनी भावनाएं प्रकट करने देते हैं. भले ही हमें 10 से 15 मिनट तक उनकी बातें सुननी पड़ें. ये अपने आप में एक थेरेपी है. फिर उनकी शिकायतें और परेशानियों के बारे में पूछा जाना चाहिए ताकि किसी मानसिक समस्या को शारीरिक बीमारी समझने की गलती न हो. 
जीवन में अप्रत्याशित घटनाएं मानसिक तौर पर हिला देती हैं.
कोच्चि का एक राहत शिविर
(फोटो: एपी)

केरल में विशेषज्ञों और स्वयंसेवकों का समूह बाढ़ से प्रभावित बच्चों के मानसिक स्वास्थ्य का ख्याल कहानी, खेल और कला के जरिए रख रहा है. इसके जरिए बच्चों को सकारात्मक तरीके से तनाव से उबरना सिखाने की कोशिश हो रही है.

डॉ जॉन पुनर्वास से जुड़े कुछ जरूरी उपायों का जिक्र करते हैं.

  • बाढ़ से लोगों को जो नुकसान हुआ है, उनको सबसे पहले उसके लिए सामाजिक और आर्थिक मदद का भरोसा दिया जाना चाहिए ताकि आत्मविश्वास बढ़े.
  • लोगों का साथ इस आपदा से उबरने में मदद दे सकता है.
  • पीड़ित लोगों को अपनी बातें जाहिर करने के लिए प्रोत्साहित किया जाना चाहिए ताकि वो चिंता अपने भीतर दबाने की बजाए लोगों से बात करें. ऐसे हालात में आपसी सहयोग सकारात्मक सिद्ध होता है.
  • बाढ़ प्रभावित लोगों को तनाव से शांति के लिए संगीत सुनने जैसी गतिविधियों में शामिल होना चाहिए.

किसी भी तरह की छोटी या बड़ी मदद लेने से हिचकिचाना नहीं चाहिए. अकेले सब कुछ करने के दबाव से खुद को निकालना चाहिए.

(ये स्टोरी पहले Fit पर पब्लिश हुई है. जिसका हिंदी में अनुवाद किया गया है. अनुवाद: सुरभि गुप्ता)

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

0
Published: 
सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
अधिक पढ़ें
×
×