ADVERTISEMENTREMOVE AD

हर दिन मेडिटेट कर इन 7 बीमारियों को कहें अलविदा

मन की शांति के साथ-साथ मेडिटेशन से ब्लड प्रेशर, ऐंगज़ाइटी और डिप्रेशन से बचने में मदद मिलती है

Published
फिट
2 min read
story-hero-img
i
छोटा
मध्यम
बड़ा
Hindi Female

हम सभी को कभी न कभी मेडिटेट करने की सलाह मिली है. इसे शांति से रहने और दिमाग स्थिर रखने का एक अच्छा तरीका माना जाता है. लेकिन क्या आप जानते हैं कि शांति बनाए रखने के अलावा मेडिटेशन के और भी कई फायदे हैं?

यदि नहीं, तो हमने नीचे मेडिटेशन के लाभों का उल्लेख किया है.

कम स्ट्रेस

यदि आपको सामान्य रूप से वर्क-लाइफ बैलेंस या किसी अन्य कारण से स्ट्रेस रहता है, तो मेडिटेशन आपकी सहायता कर सकता है.

पबमेड सेंट्रल के अनुसार, मेडिटेशन स्ट्रेस कम करने का एक प्रभावी तरीका है. शारीरिक और मानसिक तनाव कॉर्टिसोल नामक तनाव हार्मोन के उत्पादन को बढ़ाता है, जिससे साइटोकिन्स नामक इन्फ्लेमेटरी केमिकल का निर्माण होता है.

मेडिसाइन स्ट्रेस के आफ्टर-एफ्फेक्ट्स जैसे ऐंगज़ाइटी, डिप्रेशन, इन्फ्लेमेटरी बाउल सिंड्रोम, पोस्ट-ट्रॉमेटिक स्ट्रेस डिसऑर्डर, थकान आदि को कम करता है.

ADVERTISEMENTREMOVE AD

कम ऐंगजाइटी

मेडिटेशन स्ट्रेस हार्मोन के उत्पादन को कम करता है, जिससे ऐंगजाइटी भी मैनेज होती है. यूएस एनआईएच के अनुसार मेडिटेशन, अधिक ऐंगजाइटी और जेनरलाइज्ड ऐंगजाइटी डिसॉर्डर वाले रोगियों में लक्षणों को कम करता है.

यह लोगों को अपने सेल्फ पोसिटिविटी स्टेट्मेन्ट को बढ़ाकर और तनाव के प्रति बेहतर प्रतिक्रिया देकर स्थिति से बेहतर तरीके से निपटने में मदद करता है. मेडिटेशन के साथ जब कुछ शारीरिक ऐक्टिविटी जोड़ी जाती है, तो यह सबसे अच्छा काम करता है.

अटेंशन स्पैन में बढ़ोतरी

हेल्थलाइन के अनुसार, मेडिटेशन आपके अटेन्शन स्पैन को बढ़ाता है. रिसर्च से पता चलता है कि जिन लोगों ने ध्यान करना शुरू किया, उन्होंने अपने कार्यों को पूरा करने के दौरान बेहतर ध्यान और एक्यूरेसी के स्तर का अनुभव किया.

मेडिटेशन ध्यान भटकने और चिंता करने जैसे मानसिक पैटर्न के सुधार में मददगार साबित हुआ है.

उम्र से संबंधित मेमोरी लॉस के जोखिम में कमी

यूएस एनआईएच के अनुसार जो लोग मंत्रों को दोहराते हुए ध्यान का अभ्यास करते हैं, जिसे कीर्तन क्रिया भी कहा जाता है, उनके न्यूरोसाइकोलॉजिकल टेस्ट में सुधार देखने को मिला है. यह विचारों की स्पष्टता और आपके दिमाग को जवान रखने में भी मदद करता है.

इसके अलावा, रिसर्च से पता चलता है कि विभिन्न ध्यान अभ्यास, डिमेन्शिया के रोगियों में मेंटल क्विक्नेस, मेमोरी और अटेन्शन बढ़ाता है और एज रिलेटेड मेमोरी लॉस से लड़ने में मदद करता है.

एडिक्शन से लड़ने में मदद

मेडिटेशन डिसप्लिन बढ़ाने, ड्रग्स पर निर्भरता घटाने, आत्म-जागरूकता के साथ-साथ अडिक्शन ट्रिगगर्स के बारे मे जागरूकता बढ़ाता है.

रिसर्च ने साबित किया है कि शराब पीने वालों में मेडिटेशन ने स्ट्रेस, साइकोलॉजिकल डिस्ट्रेस, शराब के उपयोग और लालसा (यूएस एनआईएच के अनुसार) को कम किया.

0

नींद की क्वालिटी में सुधार

यूएस सीडीसी के अनुसार, 3 करोड़ अमेरिकी अनिद्रा से पीड़ित हैं और लगभग 40% आबादी अल्पकालिक अनिद्रा का अनुभव करती है.

रिसर्च ने साबित कर दिया है कि जो लोग मेडिटेट करते हैं वे अधिक समय तक सोते हैं. अनिद्रा कम अनुभव करते हैं और उन विचारों को बेहतर ढंग से प्रबंधित करते हैं जिसके परिणामस्वरूप अनिद्रा होती है.

ब्लड-प्रेशर को मेंटेन करने में मदद

हाई ब्लड प्रेशर आपके दिल के लिए रक्त पंप करना मुश्किल बना सकता है, जिससे हृदय खराब तरीके से काम कर सकता है. संकुचित धमनियां स्ट्रोक और दिल के दौरे का कारण भी बन सकती हैं.

एनसीबीआई के अनुसार, मेडिटेशन हमारे दिल पर तनाव को कम करने में मदद करता है. यह नसों को आराम देकर, तनाव मुक्त करके, हृदय की कार्यप्रणाली में तालमेल और सतर्कता बढ़ाकर ब्लड प्रेशर को कम करने में मदद कर सकता है.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
अधिक पढ़ें
ADVERTISEMENT
×
×