ADVERTISEMENT

पाबंदियों से मुश्किल में हैं कश्मीर के फ्रीलान्स फोटोग्राफर्स और पत्रकार

हमारे पास कोई विशेष कार्ड नहीं है जो हमारी नौकरी की पहचान कर सके- फिल्म निर्माता

Updated
ADVERTISEMENT

दशकों से कश्मीर तूफान की नजरों में है. अलगाववादी आंदोलन, कश्मीरी पंडितों (Kashmiri Pandit) का पलायन, उग्रवाद, या अनुच्छेद 370 का निरस्त हो - घाटी ने पिछले तीन दशकों में यह सब देखा है.

घाटी में अराजकता ने लाखों कश्मीरियों के जीवन और आजीविका को बाधित कर दिया है. प्रोफेशनल कन्टेंट क्रिएटर का एक ऐसा समूह है जो संघर्ष कर रहे हैं.

हमने स्वतंत्र पत्रकारों के रूप में, वर्तमान समय में हमारे सामने आने वाली चुनौतियों को समझने के लिए अपने सहयोगियों और साथी कन्टेंट क्रिएटर्स से बात करने के बारे में सोचा.

कश्मीर के एक फिल्म निर्माता इमाद क्लिक्स ने कहा,

"कश्मीर में मैं बहुत सी जगहों पर गया हूं जो अपनी असली सुंदरता के लिए जाने जाते हैं. यह केवल सोनमर्ग या गुलमर्ग जैसे पर्यटन स्थलों के बारे में नहीं है. बहुत सारी खूबसूरत जगहें हैं जो देखने लायक हैं. लेकिन एक ट्रेवलर कंटेंट क्रिएटर के रूप में मैं कश्मीर में इसे कभी भी कैद नहीं कर पाया. उदाहरण के लिए, शंकराचार्य मंदिर, परी महल, पहाड़ी की चोटी, या हरि पर्वत. हम वहां कभी भी शूट करने, व्लॉग बनाने या कंटेंट बनाने में सक्षम नहीं हैं."
इमाद क्लिक्स, फिल्म निर्माता

इमाद क्लिक्स, एक फिल्म निर्माता

फोटो: वसीम नबी

"हमें बहुत सारे ग्राहकों के साथ काम करना पड़ता है जो कश्मीर से बाहर से हैं. वे कार निर्माता या मोबाइल निर्माता हैं. वे कहते हैं कि वे शानदार फुटेज वाले विज्ञापन बनाना चाहते हैं. लेकिन अगर हमें उन एपिक स्थानों पर जाना होता है. जो शहर के बाहरी इलाके में ज्यादातर पहाड़ी इलाकों में हैं, तो हमें अनुमतियों की लंबी प्रक्रिया का पालन करना पड़ता है, जिसमें कभी-कभी एक महीना लग जाता है और यहां तक ​​कि खारिज भी कर दिया जाता है."

ADVERTISEMENT
फिल्म निर्माता आगे बताते हैं कि "हमारे लिए सेना के जवानों को यह समझाना बहुत मुश्किल हो जाता है कि अगर हम पत्रकार नहीं हैं तो हम कैमरे क्यों ले जा रहे हैं. हमारे पास कोई विशेष कार्ड नहीं है जो हमारी नौकरी की पहचान कर सके. हमारे लिए उन्हें यह समझाना बहुत कठिन हो जाता है कि हम यूट्यूब पर वीडियो बनाते हैं.

फोटोग्राफर भी यही समस्या का सामना कर रहे हैं...

फोटोग्राफर भी वही दर्द साझा करते हैं. दैनिक जीवन के फोटोग्राफर अनौस शेख ने हमें उन चुनौतियों के बारे में बताया, जिनका उन्हें प्रतिदिन फ़ोटोग्राफ लेने में सामना करना पड़ता है.

कश्मीर की एक डेली लाइफ फोटोग्राफर अनीज़ शेख

फोटो: वसीम नबी

"2019 की घटना (अनुच्छेद 370 का निरस्त) के बाद सुरक्षा एक बड़ा मुद्दा रहा है. अगर हम फोटोग्राफी के संबंध में सुरक्षा के बारे में बात करें, तो उस पर बहुत सारे प्रतिबंध हैं. उदाहरण के लिए यदि मुझे लाल चौक पर हेरिटेज हाउस का क्लिक करना है तो सुरक्षाकर्मी आएंगे और मेरे फोन की जांच करेंगे और फिर वे पूछेंगे कि क्या मैंने कभी इसके संबंध में अनुमति ली है, हालांकि वहां कोई नहीं रहता है. हम दैनिक जीवन की फोटोग्राफी के बारे में बात करते हैं तो,अगर मुझे दैनिक जीवन पर एक नेचुरल क्लिक करना है फिर भी मुझे उचित अनुमति की आवश्यकता है. एक क्लिक-योग्य फ्रेम हो सकता है और मैं इसे क्लिक करने के लिए बेताब हूं... लेकिन मुझे इसकी अनुमति कभी नहीं मिलेगी. पुलिस हमें अनुमति नहीं देती है."
अनौस शेख, डेली लाइफ फोटोग्राफर

पत्रकारों के लिए इंटरनेट बंदी एक बड़ा मुद्दा

खैर हम पत्रकारों के लिए हर कोई जानता है कि इंटरनेट के बिना काम करना कितना मुश्किल है क्योंकि यह समय-समय पर अवरुद्ध हो जाता है, हमें उचित संचार के बिना असहाय छोड़ देता है.

स्वतंत्र पत्रकार खालिद खान, जो चार साल से काम कर रहे हैं बताते हैं कि जब इंटरनेट बंद हो जाता है तो यह कितना मुश्किल हो जाता है.

"मेरे सहयोगी और मैं विभिन्न संगठनों के लिए काम करते हैं. कुछ भारत-आधारित समाचार संगठनों के लिए काम करते हैं और कुछ अंतरराष्ट्रीय समाचार संगठनों के लिए काम करते हैं. हमें बहुत सारी समस्याओं का सामना करना पड़ता है. अगर कहीं भी कोई घटना होती है, तो हमें इसकी रिपोर्ट करनी होगी. बाहर के समाचार संपादकों के संपर्क में रहना पड़ता है, हमें उन्हें लगातार अपडेट भेजना पड़ता है. जब इंटरनेट बंद हो जाता है, तो संचार अवरुद्ध हो जाता है."
खालिद खान, स्वतंत्र पत्रकार

खालिद खान, स्वतंत्र पत्रकार (कश्मीर)

फोटो: वसीम नबी

खालिद बताते हैं कि "कुछ पत्रकारों को लोकेशन से लाइव सेशन करना पड़ता है. लेकिन जब इंटरनेट बंद हो जाता है, तो हम डेटा फॉरवर्ड करने में असमर्थ होते हैं. मेरे अधिकांश सहयोगी मोजो (मोबाइल जर्नलिज्म) के साथ काम करते हैं और उनका सारा काम मोबाइल की मदद से होता है. मोबाइल इंटरनेट की मदद से वे डेटा भेज सकते है. लेकिन जब इंटरनेट बंद हो जाता है तो हम ऐसा नहीं कर सकते.

ADVERTISEMENT

कुछ दिन पहले जब दिल्ली में यासीन मलिक मामले पर फैसला आया तो हम यहां बंद को कवर कर रहे थे. हमने (एक मीडिया हाउस के साथ) कहानी पेश की थी और शाम को मोबाइल इंटरनेट बंद कर दिया गया था. हम कहानी दर्ज नहीं कर सके. हम उनके संदेशों का जवाब नहीं दे सके. हो सकता है कि उन्होंने हमें अनप्रोफेशनल समझा हो. इस तरह की चुनौतियों का हमें सामना करना पड़ता है और यह पहली बार नहीं है जब हम इसका सामना कर रहे हैं. इससे पहले भी हमने कई बार इंटरनेट बंद होने की चुनौती का सामना किया है.

वसीम नबी, स्वतंत्र मल्टीमीडिया पत्रकार (कश्मीर)

फोटो: साबिर भट

जब आप एक कहानी करने वाले फ्रीलांसर होते हैं, तो आपको हमेशा यह सोचना पड़ता है कि आप कौन सी कहानियां कर सकते हैं. आपको इसके बारे में दो-तीन बार सोचना होगा क्योंकि आप किसी भी तरह की परेशानी में नहीं पड़ना चाहते.

(नजमुस्साकिब और वसीम नबी कश्मीर के स्वतंत्र पत्रकार हैं.)

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

Published: 
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT
×
×